एसपी ऑफिस के सामने सरेआम महिलाओं से मारपीट, एक का बाइक पर किया अपहरण

Banswara News - कलेक्ट्रेट में सोमवार को दोपहर 1 बजे उस समय हड़कंप मच गया जब दो बाइक पर आए बदमाशों ने महिलाओं के साथ मारपीट शुरू कर...

Feb 11, 2020, 07:01 AM IST

कलेक्ट्रेट में सोमवार को दोपहर 1 बजे उस समय हड़कंप मच गया जब दो बाइक पर आए बदमाशों ने महिलाओं के साथ मारपीट शुरू कर दी। इससे पहले कि वहां खड़े लोग कुछ समझ पाते दो बदमाश एक महिला को बाइक पर बीच में बिठाकर भाग निकले। इसी बीच वहां किसी काम से आई महिला हॉक कर्मचारी की नजर पड़ी तो उसने बदमाशों के पीछे दौड़ लगा दी। करीब दो किमी तक पीछा करने के बाद भी बदमाश हत्थे नहीं चढ़ पाए।

हालांकि, दोपहर की इस वारदात के बाद शाम तक किसी महिला को अगवा करने की एसपी ऑफिस तक शिकायत नहीं पहुंचने पर ऐसा आशंका जताई जा रही है कि यह दो परिवारों के आपस में मामला था। महिलाएं शायद कोई शिकायत करने या किसी मामले में पेशी पर आई होंगी। महिलाओं को ले जाने वाले भी उनके परिचित या परिवार के हो सकते हंै। इसलिए बाकी महिलाएं बिना कोई शिकायत किए कलेक्ट्रेट से लौट गई। जबकि, एसपी ऑफिस ठीक सामने ही था। हुआ यूं कि दोपहर में जिला परिषद कार्यालय के बाहर 7 से 8 महिलाएं खड़ी थीं। तभी, एकाएक चार से पांच युवक आए और आते ही महिलाओं से ताबड़तोड़ मारपीट करने लगे। एक बदमाश महिला के पेट में मुक्के मारता रहा तो दूसरे दूसरी महिलाओं से उलझते रहे।

इसी बीच दो युवक बाइक लेकर आए। जिस पर वहां पहले से मौजूद दो युवकों ने एक महिला को फटाफट बाइक पर बिच में बिठा दिया। फिर तेज रफ्तार में महिला को लेकर वहां से भगा निकले। वहीं बाकी दो युवक वहीं खड़े रहे। तभी, उनके परिचित दो और युवक बिना नंबर की एंटाइजर बाइक लेकर आए। बाद में सभी कलेक्ट्रेट के पिछले दरवाजे से भाग छूटे। इसे देख वहां मौजूद प्रत्यक्षदर्शी भी हैरत में पड़ गए। महिलाओं से मारपीट होते देख वहां मौजूद मोबाइल यूनिट में शामिल कांस्टेबल गंगा डामोर और सुशीला की नजर पड़ी। जिस पर गंगा ने हिम्मत दिखाते हुए पीछा किया लेकिन बदमाश हत्थे नहीं चढ़े।

जानकारी जुटाई जा रही है : एसपी केसरसिंह शेखावत ने शाम 4 बजे बताया कि ऐसी कोई जानकारी उनके ध्यान में नहीं आई है। अगर ऐसा होता तो शायद बाकी महिलाएं शिकायत करती। एसपी ने गंभीरता दिखाते हुए मामले में कोतवाल से जानकारी जुटाने के निर्देश दिए। बाद में कोतवाल भैयालाल आंजना से संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि कांस्टेबल गंगा ने बदमाशों को पीछा किया था, लेकिन यह बात उसने उच्चाधिकारियों को नहीं बताई। हमें काफी देर बाद इसके बारे में पता चला। किसी महिला के अगवा होने की शिकायत नहीं आई है, लेकिन फिर भी सरेआम उत्पात मचाने वालों की जानकारी जुटाई जा रही है।

आंखों देखी: कागदी नदी में कूदी, 2 किमी पीछा किया

मैं अपनी साथी कांस्टेबल सुशीला के साथ काम से एसपी ऑफिस आई थी। वापस लौट रही रहे थे कि सामने एकाएक कुछ बदमाश महिलाओं से मारपीट करने लगे। एक महिला को जबरन बाइक पर बिच में बिठाकर ले गए। इसे देख मैंने दो बदमाशों को पीछा किया तो वह पहले कुशलबाग मैदान की तरफ भागे। वहां गई तो दोनों राजेश्वर मंदिर के पीछे से होते हुए कागदी नदी में उतर पड़े। मैंने दोनों का पीछा नहीं छोड़ा। करीब 2 किमी जाने के बाद दोनों बदमाश नदी किनारे झाड़ियों से होते हुए भाग निकले।

महिला के अपहर्ताओं को पकड़ने के लिए दौड़ती महिला पुलिसकर्मी।

बांसवाड़ा. कलेक्ट्रेट में महिला का अपहरण कर भागते युवक।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना