पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Lohariya News Rajasthan News Sivakatha From 16 April In Aigad Dham Dalia

अाैघड़ धाम डालिया में 16 अप्रैल से शिवकथा

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

लोहारिया के पास राठड़िया पंचायत के औघड़ धाम बलाप डालिया में 16 अप्रैल से शिव कथा, 151 कुंडीय अतिरुद्र, सहस्त्र चंडी महायज्ञ के साथ 7 मंदिराें में प्राण प्रतिष्ठा समारोह होगा। अंतरराष्ट्रीय कथावाचक गिरि बापू शिव कथा सुनाएंगे। इस धार्मिक अनुष्ठान समारोह की तैयारी का विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारियों ने जायजा लिया। औघड़ धाम के महंत रमेश भाई ने बताया की विहिप के धर्माचार्य प्रमुख व कार्यकारी जिला मंत्री विकास भट्ट और विभाग संघठन मंत्री बापूसिंह राठौड़ ने औघड़ धाम पर होने वाली शिव कथा अौर महायज्ञ को सफल बनाने को लेकर चर्चा कर दायित्व सौंपे। आयोजक समिति के अध्यक्ष विनोद पंचाल, शशिकांत सोमपुरा कोषाध्य्क्ष प्रताप कलाल, छगनलाल जोशी आदि सक्रिय कार्यकर्ताओं ने विहिप के पदाधिकारियों का स्वागत किया। औघड़ धाम के इतिहास के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि यह भव्य आयोजन वागड़ का सिंहस्थ कुम्भ होने जा रहा है, जो भव्य के साथ साथ दिव्य भी रहेगा। विकास भट्ट ने कहा कि वागड़ क्षेत्र में सामाजिक समरसता का यह सबसे बड़ा आयोजन है, जिसमें सर्व समाज अपना-अपना योगदान दे रहा है और देना भी चाहिए। सभी धर्मप्रेमी लोगों को मुक्त हस्त से दान देकर सनातन संस्कृति का प्रचार प्रसार कर धर्म को बढ़ावा देना चाहिए जिससे राष्ट्र,धर्म और संस्कृति के रक्षार्थ ईश्वरीय कार्य संपन्न हो सके। अतः औघड़ धाम बलाप में हो रही शिव कथा, अतिरुद्र, सहस्त्र चंडी महायज्ञ और मंदिरों की प्रतिष्ठा की तैयारी में तन मन और धन से पूरा सहयोग करने का आह्नान किया। महंत रमेश भाई ने औघड़ धाम के इतिहास और चमत्कारों के बारे में विस्तृत चर्चा करते हुए बताया कि भारत भूमि पर चार धाम है, मगर औघड़ धाम दिन दुःखियों के लिए पांचवां धाम बन गया है। आचार्य धर्मेंद्र पाठक सरेड़ी बड़ी ने कर्मकांड की जानकारी देते हुए कहा कि पूरा कर्मकांड यजन शास्त्रोक्त वैदिक पद्धति के साथ शत प्रतिशत पवित्र और शुद्ध भूदेवों के द्वारा कर्मकांड कराया जाएगा। अतिरुद्र व् सहस्त्र चंडी महायज्ञ का के लिए केवल और केवल जनकल्याणार्थ के लिए और सामजिक समरसता और क्षेत्र में आध्यात्मिक ऊर्जा से सनातन संस्कृति को बढ़ावा देते हुए समस्त क्षेत्र को ऊर्जावान बनाना हे जिसके लिए यजमानो और पंडितों को भी कठोर नियमों का पालन करते हुए तपकर्म का पालन कर कर्म संम्पन करना होगा।

डालिया गांव में तैयारी का जायजा लेने पहुंचे विहिप के पदाधिकारी।
खबरें और भी हैं...