24 घंटे तक 80 पानी वाली जगहों पर रखी जाएगी नजर

Banswara News - बांसवाड़ा | बुद्धपूर्णिमा की धवल चांदनी में शनिवार से वनक्षेत्र में वन्यजीवों की गणना शुरू हो जाएगी। शनिवार सुबह 9...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:05 AM IST
Ghatol News - rajasthan news will be kept in 80 water spots for 24 hours
बांसवाड़ा | बुद्धपूर्णिमा की धवल चांदनी में शनिवार से वनक्षेत्र में वन्यजीवों की गणना शुरू हो जाएगी। शनिवार सुबह 9 से रविवार सुबह 9 बजे तक चलने वाली इस गिनती में 150 से ज्यादा वनकर्मियों के अलावा पक्षी विशेषज्ञों की भी मदद ली जा रही है। वन विभाग ने 80 ऐसी पानी वाली जगहों को चिन्हित किया हैं जहां 24 घंटे में एक बार वन्यजीवों के पानी पीने आने की सर्वाधिक संभावना है। इन जगहों से कुछ दूरी पर मचान बनाकर या ऊंचाई से वनकर्मी वन्यजीवों की पहचानकर उनकी गिनती करेंगे। इसके लिए वनकर्मियों को विशेष प्रशिक्षण भी दिया गया है। इसके अलावा अधिक दूरी वाली जगहों पर ठीक से वाइल्ड लाइफ को देखने के लिए दूरबीन की भी मदद ली जाएगी।

शहर के समीप समाईमाता, कडेलिया, आनंद सागर और सिंगपुरा में भी मचान बनाई गई हैं। इस बार पैंथर की तादाद बढ़ने-घटने को लेकर भी उत्सुकता बनी हुई है। पिछली बार अब तक के सर्वाधिक 41 पैंथर नजर आए थे। वन्यजीवों पर नजर रखने के लिए बांसवाड़ा में 14, बागीदौरा में 14, घाटोल में 17, गढ़ी में 10, डूंगरा में 09, कुशलगढ़ में 16 वॉटर हॉल पर वनकर्मी तैनात होंगे।

साल दर साल इस तरह बढ़ते गए पैंथर

साल पैंथर जरख

2011 12 105

2012 14 114

2013 12 167

2014 16 172

2015 22 156

2016 26 213

2017 32 326

2018 41 205

अब सिर्फ दीवार पर ही...

पेंटर वन विभाग कार्यालय परिसर की दीवार पर बाघ की यह तस्वीर उकेर रहा है। ये पेंटिंग बता रही है कि बांसवाड़ा से सालों पहले बाघों का वजूद खत्म हो गया। अब ये सिर्फ ऐसे ही दीवारों पर नजर आएंगे। पैंथर भी अब गिनतीभर रह गए हैं। जंगल सिकुड़ते गए और आबादी बढ़ती गई। अन्य कई वन्यजीव भी अतीत हो गए। ऐसे में समय रहते वाइल्ड लाइफ की सुरक्षा को लेकर गंभीरता नहीं बरती गई तो बाघ की तरह ऐसे ही कई वन्यजीव केवल दीवार की पेंटिंग या वाल पर लगी तस्वीरों में ही नजर आएंगे।

X
Ghatol News - rajasthan news will be kept in 80 water spots for 24 hours
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना