Hindi News »Rajasthan »Baran» इस बार पढ़िए हाड़ौती के प्रसिद्ध होली महोत्सव

इस बार पढ़िए हाड़ौती के प्रसिद्ध होली महोत्सव

बारां. नाकोड़ा कॉलोनी स्थित निजी रिसोर्ट में बुधवार को कार्ष्णिक गोपालकृष्ण सेवा समिति की ओर से फूलों की होली का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 02:05 AM IST

इस बार पढ़िए हाड़ौती के प्रसिद्ध होली महोत्सव
बारां. नाकोड़ा कॉलोनी स्थित निजी रिसोर्ट में बुधवार को कार्ष्णिक गोपालकृष्ण सेवा समिति की ओर से फूलों की होली का आयोजन किया गया।

भास्कर टीम. बारां/सांगोद/ नैनवां/ कैथून| होली यानी मस्ती का त्योहार। उड़ते रंग-गुलाल, गीतों पर झूमते महिला-पुरुष और बच्चे। मिठाइयों और गुजियों की बहार। गुरुवार को होलिका दहन के साथ 2 दिवसीय होली महोत्सव की शुरुआत हो जाएगी। लेकिन, हाड़ौती के कई इलाकों में अलग तरीके से होली मनाई जाती है। होली की ये मस्ती कई स्थानों पर 7 दिन तक चलती है। हाड़ौती की प्राचीन होली में सांगोद का न्हाण, किशनगंज का फूलडोल महोत्सव, नैनवां का हडूडा, शाहाबाद की लठमार होली और कैथून का विभीषण मेला प्रमुख है। ये प्राचीन होली इन इलाकों में कैसे मनाते हैं और कैसे पूरा समाज इनके रंग में रंग जाता है...इस पर फोकस भास्कर की स्पेशल रिपोर्ट।

सांगोद का न्हाण: 400 साल से मना रहे उत्सव, बादशाह की सवारी 8 को

धुलेंडी के अगले दिन यानी 3 मार्च को घुघरी की रस्म के साथ न्हाण लोकपर्व शुरू होगा। न्हाण लोकोत्सव में स्थानीय कलाकार स्वांग रचाते हैं। युद्ध होते हैं.. किन्नर अपने हाव-भाव से लोगों का मनोरंजन करते हैं। हाड़ौती ही नहीं प्रदेश भर से लोग न्हाण का आनंद लेने यहां आते हैं। कहा जाता है कि कालांतर में सांगोद 12 छोटे-छोटे गांवों में बंटा था। यहां मीणा, गुर्जर व जाट अधिक रहते थे। इन तीनों जातियों के मध्य पटेल बनने को लेकर विवाद हुआ, जिसमें मीणा व जाट एक दल में थे और गुर्जरों का अलग दल था। किंवदंती है कि गुर्जरों के दल ने जिस सेनापति सांगा गुर्जर के नेतृत्व में युद्ध लड़ा, वह लड़ता हुआ शीतला माता मंदिर में धराशायी हुआ। तभी से सांगोद में हास-परिहास और इतिहास को जिंदा रखने के लिए स्वांग रचकर कलाकार लोगों का मनोरंजन करते हैं। इस बार 4 मार्च को बाजार की भाले बारह, 5 को बादशाह, 7 मार्च को खाड़े की बारह भाले और 8 को बादशाह की सवारी के साथ समापन होगा।

5 दिन तक मचती है होली की हुड़दंग, स्वांग करते हैं मनोरंजन, हास-परिहास की जमती है महफिल

किशनगंज का फूलडोल महोत्सव: 4 दिन तक निकलेंगे स्वांग

बारां. किशनगंज का फूलडोल लोकोत्सव प्रदेशभर में प्रसिद्ध है। किशनगंज में इस साल 132 वां फूलडोल लोकोत्सव मनाया जाएगा। लोकोत्सव में सभी समुदाय के लाेग धर्म-जाति के भेद भूलकर आयोजन में सहयोग करते हैं। 4 दिन तक चलने वाले लोकोत्सव की तैयारी से लेकर उसे समापन तक ले जाने की जिम्मेदारी स्थानीय लोगों की होती है। इसमें तरह-तरह के स्वांग निकलते हैं। बकौल आयोजन समिति के गोपीवल्लभ चौरसिया लोकोत्सव की ख्याति के अनुसार फूलडोल के एक दिन पहले ही सभी समुदाय के घरों में दूरदराज से मेहमानाें के आने का सिलसिला शुरू हो जाता है। पूरे कस्बे को सजाया जाता है। जगह-जगह पर तोरणद्वार लगाकर मेहमानों का स्वागत किया जाता है। लोकोत्सव की शुरुआत धुलेंडी के दिन सुबह स्वांगों के साथ होती है। रात में शोभायात्रा में झांकियों का प्रदर्शन होता है। स्वांगों में प्रमुख रूप से रावण-जटायु युद्ध, ढोला-मारू समेत अन्य कई तरह के स्वांग निकलते हैं।

नैनवां का हडूडा, बारातों में दूल्हे और बाराती करते हैं अश्लील प्रदर्शन

नैनवां. रियासतकाल के समय से चली आ रही लोकानुरंजन हडूडा परंपरा आज भी जीवित है। पुराने समय में मनोरंजन के संसाधन समिति थे तब इस परम्परा के माध्यम से आपस में हंसी ठिठोली किया करते थे। धुलेंडी के दिन शहर के लोग दोपहर तक होली खेलते हैं फिर हडूडे के आयोजन में भाग लेते हैं। हडूडे में काल्पनिक नायक मालदेव व नायिका मालदेवणी की बारातें सजती हैं फिर हडूडे का आयोजन होता है। धुलेंडी की शाम साढ़े पांच बजे मालदेव चौक में नायक मालदेव की ओर मालदेवणी के चौक में नायिका मालदेवणी की बारात सजती है। दोनों बारातों में ऊंट पर दूल्हे सवार होते हैं। बारातों में शहरवासी बाराती बनते हैं, जो होली के अश्लील गीत गाते नाचते चलते हैं। दोनों बारातों के झंडे की गली पर पहुंचते ही दोनों पक्ष के बाराती लकड़ी की बल्ली व सतरंगी झंडे का प्रदर्शन करते हैं। दोनों पक्ष के दूल्हे एक-दूसरे की तरफ अश्लील प्रदर्शन करते हैं। बराती भी ऐसा ही करते हैं।

शाहाबाद में बरसाने की तर्ज पर 4 दिन चलती है लठमार होली

शाहाबाद क्षेत्र के गांवों में बरसाने की तर्ज पर लठमार होली खेली जाती है। यहां होलिका दहन के दूसरे दिन यानी धुलेंडी पर विभिन्न समाजों के मंदिरों पर टेशू के फूल से बनाए प्राकृतिक रंग होते हैं। केसरिया रंग पहले भगवान को चढ़ाया जाता है। इसके बाद बुजुर्गों के चरण स्पर्श कर होली की शुरुआत होती है। ग्रामीण क्षेत्र में गुलाल-अबीर उड़ाया जाता है। यहां लठमार परंपरा के तहत होली होती है। महिलाएं लाठियों से वार करती हैं और युवाओं की टोली अबीर-गुलाल लगाती है। यहां चार दिनों तक होली चलती है। इस दौरान युवक रांई स्वांग रचकर नृत्य करते हैं। इसे देखने के लिए गांवों से भी भीड़ उमड़ती है।

होलिका दहन आज

बारां| जिलेभर में गुरुवार को होली का त्याेहार उल्लास के साथ मनाया जाएगा। त्योहार के चलते बुधवार को बाजारों में अबीर-गुलाल खरीदने की होड़ लगी रही। दुकानों पर तरह-तरह की पिचकारियां, गुलाल, अबीर की बिक्री शुरू हो गई। शहर में प्रताप चौक, दीनदयाल पार्क, धर्मादा चौराहा समेत विभिन्न स्थानों पर पिचकारियां व गुलाल की दुकानें सजी हुई हैं। गुरुवार को शुभ मुहूर्त में होली का दहन होगा। शुक्रवार को धुलेंडी पर फागोत्सव का आयोजन किया जाएगा। लोग परिवार सहित मित्रों के साथ होली का जश्न मनाएंगे। रविवार को भाईदूज का त्योहार मनाया जाएगा। साथ ही विभिन्न मंदिरों पर समाजों की बैठकों का आयोजन कर भगवान के साथ होली खेलने का कार्यक्रम भी होगा।

शहर में यहां होगा होलिका दहन: श्रीजी चौक, विक्रम चौक, प्रताप चौक, कुम्हारों के मंदिर के पास, लंका कॉलोनी, चरीघाट रोड, तेल फैक्ट्री, हाउसिंग बोर्ड

7.41 बजे से 9 बजे तक रहेगा होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

होली पर शनि धनु राशि में रहेंगे। शनिदेव के गुरु बृहस्पति की राशि में हैं। पंडित ओमप्रकाश गौतम ने बताया कि ऐसा योग 1990 में था। होली पर बन रहा दुर्लभ योग मेष, वृषभ, मिथुन, तुला, मीन राशि वालों के लिए शुभ रहेगा। होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहूर्त एक मार्च को भद्रा समाप्ति के बाद प्रदोषकाल में रात 7.41 बजे से रात 9 बजे तक है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Baran News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: इस बार पढ़िए हाड़ौती के प्रसिद्ध होली महोत्सव
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Baran

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×