• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Baran News
  • हाड़ौती का वैभव देखना है तो बारां आइए...पैनोरमा तैयार, इसी माह से डिस्प्ले
--Advertisement--

हाड़ौती का वैभव देखना है तो बारां आइए...पैनोरमा तैयार, इसी माह से डिस्प्ले

शहर में गजनपुरा के पास राजस्थान धरोहर संरक्षण प्राधिकरण की ओर से हाड़ौती पैनोरमा भवन निर्माण फिनिशिंग की स्टेज...

Dainik Bhaskar

Jul 09, 2018, 02:05 AM IST
हाड़ौती का वैभव देखना है तो बारां आइए...पैनोरमा तैयार, इसी माह से डिस्प्ले
शहर में गजनपुरा के पास राजस्थान धरोहर संरक्षण प्राधिकरण की ओर से हाड़ौती पैनोरमा भवन निर्माण फिनिशिंग की स्टेज में पहुंच गया है। इस महीने के अाखिर तक यहां डिस्प्ले का काम शुरू हो जाएगा। पैनोरमा में बारां सहित पूरे हाड़ौती की सांस्कृतिक, प्राकृतिक विविधता से लेकर इतिहास और स्वतंत्रता संग्राम, प्रदेश और देश के विकास में योगदान, हाड़ौती की विकास यात्रा सभी एक ही जगह पर दिखाई देंगी। पैनोरमा में प्रवेश करते ही हाड़ौती की शौर्य गाथाएं और देशभक्ति के तराने सुनाई देंगे। कंपाउंड हॉल में ऑडियो, वीडियो विजुअल्स चलेंगे। लोगों को बारां, बूंदी, कोटा, झालावाड़ सहित पूरे हाड़ौती की जानकारी मिलेगी।

करौली के बंशीपुर पहाड़ से आया पत्थर, जयपुर में तैयार हो रही मूर्तियां और स्टेच्यू

जयपुर में बन रहे हैं स्टेच्यू-मूर्तियां

प्राधिकरण के एईएन अंकित माथुर ने बताया कि पैनोरमा में करौली के बंशीपुर पहाड़ के लाल पत्थर व बूंदी का सफेद पत्थर लगाया है। झराेखे, छतरियां आदि भी करौली के कारीगरों ने तैयार किए हैं। पैनोरमा के लिए स्टेच्यू, मूर्तियां जयपुर में तैयार करवाए जा रहे हैं। यह मार्बल, फाइबर और अष्टधातु से निर्मित होंगे। इस महीने के अाखिरी में डिस्प्ले शुरू कर देंगे।

ये खास : शौर्यगाथाएं व देशभक्ति के तराने सुनाई देंगे

बारां. गजनपुरा के पास निर्माणाधीन हाड़ौती पेनोरमा भवन का काम अंतिम चरण में है।

यहां हाड़ौती की भौगोलिक स्थिति, सांस्कृतिक विविधता, दर्शनीय स्थल, इतिहास, राजा-रजवाड़े, किले, महल, शिक्षा, कला, चिकित्सा, कृषि आदि के क्षेत्र में किया गया नवाचार यहां पर स्टेच्यू, ऑडियो, विज्युअल आदि के रूप में डिस्प्ले होगा। यानी कि पूरी तरह से हाड़ौती का दर्शन एक जगह पर मौजूद रहकर हो सकेगा।

पर्यटन को बढ़ावा

पैनोरमा में सांस्कृतिक, भाैगोलिक, इतिहास, नवाचार आदि एक जगह होने से यहां आने वाले लोगों को पूरे हाड़ौती की जानकारी मिल सकेगी। स्टूडेंट्स से लेकर शोधार्थी, आमजन को इसका फायदा मिलेगा। पैनोरमा देखने के लिए पहुंचने वाले लोग जिले के अन्य दर्शनीय स्थलों पर भी जाएंगे, जिससे जिले में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

कला, इतिहास से जुड़े लोगों के स्टेच्यू बनेंगे

पैनोरमा में कोटा, बूंदी, बारां और झालावाड़ के मशहूर राजा, आजादी में योगदान देने वाले, संस्कृति, कला, इतिहास से जुड़े लोगों के स्टेच्यू लगाए जाएंगे। अभी तक कोटा, बूंदी और झालावाड़ में ही पर्यटक पहुंचते हैं। अब यहां भी पर्यटन बढ़ेगा।

हाड़ौती पैनोरमा; 6 करोड़ की लागत : एईएन माथुर ने बताया कि दिसंबर 2016 में पैनोरमा का निर्माण शुरू किया गया। इसके भवन निर्माण पर करीब 4 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। वहीं डिसप्ले पर करीब दो करोड़ रुपए सहित कुल 6 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। बारां में हाड़ौती पैनोरमा बन रहा है। वहीं झालावाड़ में संत पीपाजी का पैनोरमा बनाया जा रहा है।

X
हाड़ौती का वैभव देखना है तो बारां आइए...पैनोरमा तैयार, इसी माह से डिस्प्ले
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..