पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Harnavdashahji News Rajasthan News Discrimination Against Children In School And Investigation Of Taking Money In Lieu Of Admit Card

स्कूल में बच्चों से भेदभाव व प्रवेश पत्र के बदले रुपए लेने की हुई जांच

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कहा : स्कूल छत की मरम्मत के लिए राशि ली

टीम की ओर से शिक्षक नवल किशोर मीणा से अवैध राशि वसूलने के बारे में जानकारी लेने पर नवल किशोर मीणा ने बताया कि स्कूल की छत जर्जर अवस्था में है। इसी क्षतिग्रस्त छत को दुरुस्त कराने के लिए रुपए लेने की बात स्वीकार की। टीम ने भरोसा दिलाया कि जिन बच्चे से पैसे वसूले गए वह वापस दिलवा दिए जाएंगे। चाइल्ड हेल्पलाइन की टीम स्कूल पहुंचते ही प्रधानाचार्य यह कहते हुए चले गए की अवैध वसूली के बारे में उन्हें जानकारी नहीं है और स्वास्थ्य खराब होने के कारण डॉक्टर को दिखाने जा रहे हैं।

हरनावदाशाहजी। कस्बे के उच्च माध्यमिक स्कूल में लगातार आ रही अनियमितता की शिकायत के बाद शनिवार को चाइल्ड हेल्पलाइन की टीम जांच करने पहुंची। चाइल्ड हेल्पलाइन कोर्डिनेटर जितेंद्र बिलवाल ने बताया कि गत 26 फरवरी को हरनावदाशाहजी के उच्च माध्यमिक स्कूल के बच्चों ने चाइल्ड हेल्पलाइन पर शिक्षक मोहनलाल नागर तथा अमितकुमार नागर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी कि इन शिक्षकों की ओर भेदभाव किया जाता है।

इसकी जांच के लिए चाइल्ड हेल्पलाइन ने शिक्षा विभाग के अधिकारी और थानाधिकारी को सूचना दी। थानाधिकारी की ओर से जांच कर चाइल्ड हेल्पलाइन को सौंप दी है। शिक्षा विभाग की जांच रिपोर्ट अभी नहीं मिली पाई है। इसी शिकायत के बाद पांच मार्च को कक्षा दसवीं के विद्यार्थियों ने शिकायत दर्ज कराई कि परीक्षा के प्रवेश पत्र लेने की एवं में कक्षा अध्यापक नवल किशोर मीणा की ओर से एक हजार रुपए मांगे जा रहे हैं। मामले की जांच को लेकर चाइल्ड हेल्पलाइन की टीम ने बच्चों को भरोसे में लेकर बयान लिए। कक्षा 10 में कुल 108 बच्चे हैं। जिनमें से 17 बच्चों के प्रवेश पत्र अभी भी स्कूल में है। जबकि 12 मार्च को परीक्षा शुरू होगी। छह मार्च को 20 परीक्षार्थियों के प्रवेश पत्र दिए गए हैं। इसके पहले दिए गए प्रवेश पत्रों में विद्यार्थियों से एक-एक हजार रुपए की राशि लिए गए। टीम ने बच्चों के घर जाकर परिजनों से मामले के बारे में जांच की। इसमें पाया कि किसी बच्चे से एक हजार तो किसी से पांच सौ रुपए वसूले गए। परिजनों ने बताया कि नवलकिशोर मीणा गणित विषय के शिक्षक हैं, जो बच्चों को स्कूल समय के बाद भी अतिरिक्त कक्षा लगाकर अध्यापन कार्य कराते थे। इसी अतिरिक्त कक्षा का शुल्क वसूलने के लिए बच्चों से पैसे मांगे गए। चाइल्ड हेल्पलाइन के कोर्डिनेटर जितेंद्र बिलवाल ने बताया कि 12 फरवरी से जिला स्तर पर शुरू हुई हेल्पलाइन के जरिए बच्चों के साथ हो रहे अन्याय के प्रति जागरूकता लाना उनका उद्देश्य है। हरनावदाशाहजी क्षेत्र के बच्चे जागरूक हैं और इस तरह का जिले का पहला मामला है। जिसके लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों से भी जांच रिपोर्ट मांगी है, लेकिन अभी शिक्षा विभाग से जांच रिपोर्ट नहीं मिली है। शिकायत पर दोनों मामलों में बच्चों की ओर से लगाए गए आरोपों में सत्यता पाई गई। दोषी शिक्षकों खिलाफ निर्देशानुसार कार्रवाई की जाएगी। मामले की जानकारी एसडीएम को भी दे दी है। इस दौरान टीम के सदस्य हेमलता शाक्यवाल, पवन कुमार तथा लोकेश कुमार मौजूद थे।
खबरें और भी हैं...