• Hindi News
  • Rajya
  • Rajasthan
  • Baran
  • Chhabra News rajasthan news the area of mustard remains half the trend of wheat and cultivars sowing so far in 52 thousand 734 hectares

सरसाें का रकबा रह गया अाधा, गेहूं की अाेर किसानाें का रुझान, अब तक 52 हजार 734 हेक्टेयर में बुवाई

Baran News - क्षेत्र के छबड़ा, छीपाबड़ौद व अटरू क्षेत्र में रबी की फसल की बुवाई का दौर जारी है। इस वर्ष मानसून की बारिश देर तक जारी...

Dec 04, 2019, 08:57 AM IST
Chhabra News - rajasthan news the area of mustard remains half the trend of wheat and cultivars sowing so far in 52 thousand 734 hectares
क्षेत्र के छबड़ा, छीपाबड़ौद व अटरू क्षेत्र में रबी की फसल की बुवाई का दौर जारी है। इस वर्ष मानसून की बारिश देर तक जारी रहने से क्षेत्र में सर्वाधिक बोई जाने वाली सरसों की फसल का रकबा घट कर आधा रह गया है, लेकिन अच्छी बारिश होने व अच्छे भाव मिलने की उम्मीद पर इसके स्थान पर गेहूं का रकबा बढ़ गया है।

धनिया की फसल से भी किसानों का रुझान कम होता जा रहा है। हालांकि बीते वर्ष के मुकाबले धनिया की बुवाई का रकबा कुछ प्रतिशत बढ़ा है। जबकि लहसुन, गेहूं व चने के रकबे में बढ़ोतरी हुई है।

कृषि अधिकारी सुरेश मालव ने बताया कि हर वर्ष मौसम की मार के चलते धनिया की फसल कमजोर रहने से किसानों का धनिया से रुझान कम होता जा रहा है। किसी जमाने में उपखंड क्षेत्र धनिया के अच्छे उत्पादन में गिना जाता था एवं देश भर में यहां के धनिए की खुशबू महकती थी। अब कुछ वर्षों से धनिया की महक कम हो रही है। इसका मुख्य कारण प्रति वर्ष मौसम की मार बताया जा रहा है। धनिया की फसल बेहद नाजुक होती है एवं मौसम की मार के चलते हर वर्ष किसानों को नुक्सान होनेे से किसानों की रुचि इसमें कम होती जा रही है। वहीं कुछ वर्षाें से लहसुन का भाव अच्छा मिलने से किसानों का रुझान लहसुन की फसल की बुवाई पर बढ़ रहा है।

कृषि विभाग ने किसानों को सलाह दी है कि फसलों की कांतिक अवस्था में ही सिंचाई करें। मुख्य रूप से लहसुन की फसल में जरूरत के अनुसार ही सिंचाई करें। अधिक सिंचाई करने पर जड़ गलन की समस्या आ सकती है।

अब तक 123051 हैक्टेयर में हो चुकी बुवाई

क्षेत्र में इस वर्ष अब तक एक लाख 23 हजार 051 हैक्टेयर में रबी फसल की बुवाई हो चुकी है। अभी भी गेहूं की बुवाई जारी है। कृषि अधिकारी मालव ने बताया कि गत वर्ष गेहूं की बुवाई 40 हजार 514 हैक्टेयर में की गई थी। इस वर्ष अब तक गेहूं की बुवाई 52 हजार 734 हैक्टेयर में हो चुकी है और बुवाई का दौर लगातार जारी है। ऐसे में गेहूं का रकबा और बढ़ने की संभावना है। बीते वर्ष चने की बुवाई 18 हजार 319 हैक्टेयर में की गई थी। इस वर्ष चना का रकबा बढ़ कर 21 हजार 356 हैक्टेयर हो गया है। सरसों की बुवाई का रकबा इस वर्ष घट कर आधा ही रह गया है। पिछले वर्ष सरसों की बुवाई 51 हइजार 035 हैक्टेयर में की गई थी, जबकि इस वर्ष महज 25 हजार 376 हैक्टेयर में ही बुवाई हुई है।

छबडा. बोई गई लहसुन की फसल में निराई गुडाई करते किसान।

X
Chhabra News - rajasthan news the area of mustard remains half the trend of wheat and cultivars sowing so far in 52 thousand 734 hectares
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना