--Advertisement--

धौलपुर में नहीं मिले किसी ब्लॉक में यशोदा पुरस्कार

ऐसा पहली बार है कि प्रदेश में सब जिलों में यशोदा पुरस्कार आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका, सहयोगियों को मिल हैं,...

Dainik Bhaskar

Mar 09, 2018, 02:20 AM IST
ऐसा पहली बार है कि प्रदेश में सब जिलों में यशोदा पुरस्कार आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका, सहयोगियों को मिल हैं, लेकिन धौलपुर में यशोदा पुरस्कार किसी भी ब्लॉक की कार्यकर्ता, सहयोगिनी व सहायिकाओं को नहीं मिले हैं। इसका भारतीय मजदूर संघ ने गहरी नाराजगी जताते हुए रोष जताया है।

भारतीय मजदूर संघ के जिलाध्यक्ष महेंद्र सिंह गुर्जर ने बताया कि महिला दिवस पर मिलने वाले पुरस्कार चेक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका और सहयोगियों को नहीं मिल पाए हैं। यह पुरस्कार धौलपुर जिले में पांच ब्लॉकों की तीन तीन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका व सहयोगिनी को मिलने थे, जिसको लेकर उन्होंने काफी नाराजगी भी देखी गई है। बता दें कि हर परियोजना से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका और सहयोगिनियों को पुरस्कार स्वरूप राशि का चेक मिलना था, लेकिन परियोजना अधिकारियों की लापरवाही से चेक नहीं बनने से यह मिल पाए। जबकि सभी जिले में महिलाओं को पुरस्कृत किया गया। धौलपुर जिले में चेक तथा पुरस्कार नहीं दिया गया। भामसं के पदाधिकारियों ने बताया कि परियोजनाओं में सीडीपीओ के पद खाली चल रहे हैं।

सीडीपीओ का चार्ज ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों के पास है। वह अपने लाभ के कामों पर ही ध्यान देते हैं। इसका भारतीय मजदूर संघ तथा आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ निंदा करता है। भामसं ने जिले में सीडीपीओ के रिक्त पदों को भरने की सरकार से मांग भी की।

X

Recommended

Click to listen..