Hindi News »Rajasthan »Bari» पेट में कृमि मुक्ति के लिए बच्चों ने चबाई एल्बेंडाजोल टेबलेट

पेट में कृमि मुक्ति के लिए बच्चों ने चबाई एल्बेंडाजोल टेबलेट

जिले में गुरुवार को आंगनबाड़ी केन्द्रों, निजी व सरकारी शिक्षण संस्थानों एवं मदरसों में बच्चों एवं किशोरों को पेट...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 09, 2018, 02:25 AM IST

जिले में गुरुवार को आंगनबाड़ी केन्द्रों, निजी व सरकारी शिक्षण संस्थानों एवं मदरसों में बच्चों एवं किशोरों को पेट में कृमि मुक्ति के लिए एलबेन्डाजोल की दवा खिलाई गई। जिले के सभी शिक्षण संस्थानों एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों, मदरसों पर कृमि मुक्ति दिवस का आयोजन किया गया जिसके तहत 5 लाख 17 हजार 503 बच्चों को लाभांवित करने का लक्ष्य रखा गया था। कृमि मुक्ति दिवस के अवसर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ शिक्षकों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और आशा सहयोगिनियों ने भी भूमिका निभाई। सीएमएचओ डॉ. राजेश मित्तल ने बताया कि जिले में कृमि मुक्ति दिवस 1 से 6 वर्ष तक के बच्चों को यह दवा आंगनबाड़ी केन्द्रों पर और 6 से 19 वर्ष तक के बच्चों को विद्यालयों में खिलाई गई है। जो बच्चे इस अभियान से वंचित रह गए हैं उन्हें माप-अप राउन्ड में 15 फरवरी को दवा खिलाई जाएगी। राजरानी शिक्षा निकेतन उमावि में 6 से 19 वर्ष तक के छात्र छात्राओं को टेबलेट खिलाई गई। यह गोली पेट में कृमि के अंडों तथा लार्वा अवस्था को नष्ट कर देते हैं। राष्ट्रीय मिलिट्री स्कूल में कक्षा 6 से 12वीं कक्षा के सभी बच्चों को एलबेन्डाजोल दवा खिलाई गई। डॉ. वीरेंद्र भास्कर ने दवा के बारे बताते हुए कहा कि दवा पूर्णतः सुरक्षित है जो कोई कमी होने वाले एनीमिया एवं कुपोषण को दूर कर बच्चों को स्वस्थ बनाती है।

बसेड़ी। गुरुवार को बसेड़ी क्षेत्र के राजकीय सीनियर हायर सैकंडरी विद्यालय में एसडीएम जयसिंह चौधरी की अध्यक्षता में डी वार्मिंग डे का आयोजन किया गया। इस दौरान विद्यालय के सभी 6 से 19 वर्ष के बच्चों को एल्बेंडाजोल नामक कृमिनाशक दवा खिलाई गई। एल्बेंडाजोल नामक दवा से होने वाले फायदों के बारे में बच्चों को बताया गया। इस अवसर पर एसडीएम जयसिंह चौधरी ने कहा कि सभी बच्चे मन लगाकर पढ़ाई करें तथा आगामी वार्षिक परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करें। साथ ही उन्होंने कहा कि हमें खाना खाने से पहले और बाद में दोनों ही बार अपने हाथों को धोना चाहिए। बीईईओ केदार गिरी ने कहा कि यह दवाई बच्चों के लिए बेहद जरूरी है। इस दवाई को बच्चों के पेट मे कीड़े मारने के लिए दिया जाता है। बीपीएम विजय शर्मा ने कहा कि यह दवाई साल भर में एक बार दी जाती है। इस मौके पर प्रधानाचार्य नारायण सिंह, देवेश शर्मा, शिवकुमार शर्मा, विजय शर्मा, बुंदू खां, जीतेंद्र सिंह उपस्थित रहे।

मनियां । गुरुवार को आंगनबाड़ी केंद्र मनियां पर 5 वर्ष से छोटे बच्चों को उदर कृमि व उनसे होने वाले रोगों से बचाव के लिए सरकार द्वारा निर्धारित अभियान के तहत दवा का सेवन कराया गया। इस अवसर पर आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजवीर शर्मा के आतिथ्य में करवाया गया। इस अवसर पर डाॅ. राजवीर शर्मा ने पेट के कीड़ों से बच्चों पर होने वाले दुष्प्रभाव, कारण व बचाव के उपायों की जानकारी दी। कार्यक्रम में मंजू सोनी, मीना देवी, मनीषा, भगवान देवी ने केंद्र को व्यवस्थित रखते हुए सभी संभागी अभिभावकों को सही समय पर अपने नजदीकी आंगनबाड़ी केंद्रों पर उपस्थित होकर राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ लेने के लिए प्रेरित किया।

जिलेभर में स्कूलों व आंगनबाड़ी केंद्रों पर बच्चों को खिलाई कृमिनाशक गोली

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bari

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×