Hindi News »Rajasthan »Bari» भाव खाती कुर्सी: आमजन के लिए 5 रुपए शिविर में 10, कलेक्टर चौपाल के लिए 12

भाव खाती कुर्सी: आमजन के लिए 5 रुपए शिविर में 10, कलेक्टर चौपाल के लिए 12

क्षेत्र की ग्राम पंचायत सहेड़ी में वित्तीय वर्ष 2016-17 में करीब 15.5 लाख रुपए से अधिक का भुगतान गलत तरीके से हुआ है। इसका...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 17, 2018, 02:30 AM IST

क्षेत्र की ग्राम पंचायत सहेड़ी में वित्तीय वर्ष 2016-17 में करीब 15.5 लाख रुपए से अधिक का भुगतान गलत तरीके से हुआ है। इसका खुलासा हुआ है हाल में सरकार के आदेश पर हुई जांच में। पंचायत प्रसार अधिकारी प्रेमपाल सिंह ने सहेड़ी के निरीक्षण की रिपोर्ट जिला परिषद सीईओ को भेज दी है। रिपोर्ट में बताया गया है कि निर्माण कार्य के कुल 18 कार्यों में गड़बड़ी करके करीब 14 लाख रुपए का अधिक भुगतान किया है। वहीं नरेगा कार्यों में करीब डेढ़ लाख का गलत भुगतान हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार सीसी खरंजा निर्माण अथाई से लेकर कांसौटीखेरा मार्ग तक एस एफ सी योजना में पांच लाख रुपए स्वीकृत हुए। इसमें ठेकेदार को 4 लाख 99 हजार 826 रुपए का भुगतान कर दिया गया जबकि ठेकेदार को 4 लाख 36 हजार 266 रुपए का होना था। इसी प्रकार दूसरे सी सी खरंजा निर्माण में भी रा. मा. वि. से लक्ष्मी नारायण के घर तक एसएफसी में चार लाख रुपए स्वीकृत थे उसे भी 3 लाख 99 हजार 439 रुपए का भुगतान किया गया जबकि उसे 3 लाख 48 हजार 708 रुपए का भुगतान करना था। इसी तरह इंटरलॉक मय खरंजा नाली निर्माण दीवान के घर से श्मशान घाट तक पांच लाख रुपए स्वीकृत थे। इसमें से 4 लाख 90 हजार 902 का भुगतान ठेकेदार को कर दिया जबकि पंचायत प्रसार अधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर 4 लाख 53 हजार 846 का भुगतान होना था। इस तरह कुल मिलाकर 18 कार्यों में 13 लाख 99 हजार 650 रुपए का अनियमित भुगतान मूल्यांकन से पूर्व ही ठेकेदार को कर दिया गया है। पंचायत प्रसार अधिकारी ने निरीक्षण के दौरान पाया कि पिछले आठ साल से ग्राम सभा नहीं हुई हैं।

पंचायत प्रसार अधिकारी की रिपोर्ट पर सीईओ ने दिए नोटिस

नोटिस देकर जवाब मांगा: इस संबंध में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रामोतार मीना से बात की तो उन्होंने बताया कि मुझे इस मामले के बारे में रिपोर्ट मिली है जिसकी जांच की जा रही है और रिपोर्ट के आधार पर नोटिस भी जारी किए जा रहे हैं।

मस्ट्ररोल की तारीखें अलग, नरेगा में डेढ़ लाख ज्यादा दिए

दूसरे मामलों पर बनी रिपोर्ट को देखा जाए तो मूल्यांकन प्रमाण पत्र में जो तारीखें है वो कुछ और है और मस्ट्ररोल की तारीखें अलग हैं। जैसे इंटरलॉक निर्माण कार्य प्रारंभ की तारीख 5 सितंबर से 15 सितम्बर 2017 है जबकि रिपोर्ट में 1 अगस्त से 15 अगस्त तक भरी गई है। फर्जी मस्टररोल चला कर कार्य से पूर्व ही सुरेश पुत्र श्रीराम को 388 की दर से भुगतान कर 3 दिवस का 1164 रुपए भुगतान कर दिए। ऐसे ही अन्य मामलों में भी कुल मिलाकर एक लाख 52 हजार 120 का गलत भुगतान किया गया है।

आठ साल से ग्राम सभा नहीं हुई: गत बैठक 8 साल पहले 2010 में की गई थी। निरीक्षण प्रतिवेदन में स्पष्ट लिखा है कि बैठक रजिस्टर में कई पृष्ठों को तारीख दर्ज करके खाली छोड़ दिया जाता है। इससे बाद में मनमर्जी कार्रवाई लिखी जा सके। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कई ग्राम पंचायतों में सड़कों का निर्माण मात्र कागजों में ही हुआ है।

शिविर का बिल

रात्रि चौपाल का बिल

दो घंटे ही चली कलेक्टर की रात्रि चौपाल

पंचायत प्रसार अधिकारी की रिपोर्ट के अनुसार जिला कलक्टर की एक ग्राम पंचायत की एक रात्रि चौपाल का भी खर्चा अनुमान से अधिक है। इसमें लगभग 2 घंटे चलने वाली रात्रि चौपालों के लिए जो व्यवस्था की जाती है उसका अगर बिल देखा जाए तो उसमें 2 घंटे के प्रति जनरेटर किराया 35 सौ रुपए, 100 रुपए प्रति कूलर किराया सहित एक रात्रि चौपाल का कुल खर्चा 24950 रुपए है। वहीं प॰ दीनदयाल उपाध्याय शिविर का खर्चा 17825 रुपए आया है। खास बात यह है कि जिस सांई कंस्ट्रक्शन कम्पनी से सामान किराए पर मंगाया था उसी से कलक्टर रात्रि चौपाल में भी सामान मंगवाया गया था। लेकिन एक ही वित्तीय वर्ष में एक ही ठेकेदार से आए सामान की कीमत अलग-अलग जैसे जो कुर्सियां रात्रि चौपाल में 12 रुपए प्रति कुर्सी के हिसाब से लाई गई तो वहीं ये ही कुर्सियां दीनदयाल उपाध्याय शिविर में 10 रुपए प्रति कुर्सी के हिसाब से दी गई। जबकि ये सारा सामान बाजार दो गुनी दर पर लिया गया क्योंकि बाजार में यह दर करीब पांच रुपए प्रति कुर्सी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bari

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×