बाड़मेर

  • Home
  • Rajasthan News
  • Barmer News
  • डॉक्टरों की एप्रिन पहनकर की थी व्यापारी की हत्या, नौकर ने रची साजिश, उसके भाइयों ने मारी गोली
--Advertisement--

डॉक्टरों की एप्रिन पहनकर की थी व्यापारी की हत्या, नौकर ने रची साजिश, उसके भाइयों ने मारी गोली

अलवर | पुलिस ने खैरथल के व्यापारी मुकेश अग्रवाल के बहुचर्चित हत्या प्रकरण का शनिवार को औपचारिक खुलासा कर दिया।...

Danik Bhaskar

Apr 01, 2018, 06:25 AM IST
अलवर | पुलिस ने खैरथल के व्यापारी मुकेश अग्रवाल के बहुचर्चित हत्या प्रकरण का शनिवार को औपचारिक खुलासा कर दिया। इसमें एसपी राहुल प्रकाश ने उन सभी बातों की पुष्टि की, जो शनिवार को दैनिक भास्कर में प्रकाशित की गई थी। पुलिस ने व्यापारी की हत्या के आरोप में उसके नौकर धर्मेंद्र उर्फ छोटू सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने व्यापारी की हत्या की गुत्थी सुलझाने में 22 दिन लगा दिए। व्यापारी मुकेश की हत्या 9 मार्च की रात करीब साढ़े आठ बजे खैरथल में की गई थी। इस हत्याकांड के विरोध में खैरथल व अलवर के बाजार और जिले की कई कृषि मंडियां बंद रही थीं। व्यापारी की हत्या की साजिश उसके नौकर धर्मेंद्र ने रची थी। मौके पर तीन बदमाशों में से धर्मेंद्र के चचेरे भाइयों लालचंद व कुलदीप ने व्यापारी को गोली मारी थी। इन दोनों बदमाशों ने डॉक्टरों की ड्रेस एप्रिन और तीसरे बदमाश ने मास्क लगा रखा था। पुलिस ने व्यापारी की हत्या में उसके नौकर खैरथल के रायपुर मेवान निवासी धर्मेंद्र उर्फ छोटू पुत्र शिवलाल मेघवाल और उसके चचेरे भाई लालचंद उर्फ लालू पुत्र दयाराम उर्फ दुल्ली मेघवाल एवं अलावा कुलदीप उर्फ मोटा पुत्र टेकचंद उर्फ टिंकल मेघवाल तथा इनके रिश्तेदार हरियाणा के पुन्हाना थानांतर्गत डीडोली बड़ा निवासी सुनील पुत्र रोहिताश मेघवाल को गिरफ्तार किया है।

एसपी राहुल प्रकाश ने बताया कि व्यापारी की हत्या में बदमाशों को चिन्हित करने के लिए 5 विशेष टीमों का गठन किया गया। साथ ही ऑपरेशन ओटूडी (ऑपरेशन डिटेक्ट एंड डिटेन) चलाया गया। इस दौरान घटना वाले दिन मृतक व्यापारी के नौकर धर्मेंद्र उर्फ छोटू की गतिविधियां संदिग्ध मिली। उसके हरियाणा में रहने वाले आपराधिक प्रवृत्ति के रिश्तेदारों की जानकारी मिली। इस पर छोटू व उसके चचेरे भाई लालचंद को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। पूछताछ में वारदात का भंडाफोड़ हो गया। एसपी ने बताया कि धर्मेंद्र उर्फ छोटू ने अपने चचेरे भाई लालचंद व कुलदीप उर्फ मोटा को करीब ढाई माह पहले बताया कि सेठ मुकेश अग्रवाल के मोटी कमाई है। वह रोज शाम को दुकान से लाखों रुपए बैग में रखकर घर ले जाता है। धर्मेंद्र, लालचंद व कुलदीप ने आर्थिक तंगी दूर करने की बात कहकर हाल गांव रायपुर में रहने वाले रिश्तेदार सुनील मेघवाल निवासी डिडोली बड़ा-बिछोर थाना पुन्हाना को अपने साथ मिलाकर व्यापारी की लूट की योजना बनाई। इसके बाद सुनील ने कुलदीप को पिस्टल व लालचंद को देशी कट्टे एवं कारतूस दिए। एसपी ने बताया कि सुनील गांव बघेरी कलां के स्वास्थ्य केंद्र पर रहकर मजदूरी का काम कर रहा था। उसने स्वास्थ्य केंद्र से डॉक्टरों की एप्रिन व मास्क चुराए। वारदात के दौरान सुनील ने मास्क पहनकर बाइक चलाई और लालचंद व कुलदीप ने एप्रिन व मॉस्क लगाकर वारदात को अंजाम दिया।

भागते समय दो बार फिसली बदमाशों की बाइक

व्यापारी को गोली मार उससे बैग छीनने के बाद बदमाश सुनील, कुलदीप व लालचंद एक बाइक पर सवार होकर भागे। इस दौरान खैरथल में भीड़भाड़ होने से उनकी बाइक दो बार फिसली। लोग जब तक कुछ समझ पाते, इससे पहले ही तीनों बदमाश बाइक उठाकर मौके से भाग गए थे।

व्यापारी के बैग में मिले 1.20 लाख आपस में बांट लिए

बदमाशों ने पुलिस को बताया कि व्यापारी से लूटे गए बैग में 1.20 लाख रुपए मिले थे। यह रकम बदमाशों ने आपस में बांट ली थी। पुलिस इन बदमाशों से व्यापारी की हत्या में उपयोग लिए हथियार, बाइक व लूटी गई रकम बरामद करने का प्रयास कर रही है।

विरोध करने पर देशी कट्टे से फायर किया

तीनों बदमाश 9 मार्च की शाम साढ़े सात बजे एक बाइक पर व्यापारी की दुकान के पास पहुंचे और व्यापारी का इंतजार करने लगे। रात 8.30 बजे व्यापारी मुकेश अग्रवाल दुकान बढ़ाकर रुपए से भरा बैग लेकर स्कूटर की तरफ बढ़ा, तो लालचंद व कुलदीप ने बैग छीनने की कोशिश की। मुकेश ने विरोध किया तो लालचंद ने देशी कट्टे से फायर कर उससे रुपए का बैग छीन लिया। इस दौरान व्यापारी ने लालचंद को पहचान कर उससे कहा कि तू कब से यह काम करने लगा है। इस पर कुलदीप ने व्यापारी पर पिस्टल से फायर कर दिया। इससे व्यापारी की मौत हो गई। वारदात के बाद तीनों आरोपी रुपए से भरा बैग छीनकर बाइक से भाग गए।

Click to listen..