बाड़मेर

  • Home
  • Rajasthan News
  • Barmer News
  • एसबीआई के सुरक्षा गार्ड ने ही आरोपी खेतपुरी को कहा था- डाकघर कार्मिक रोजाना बैंक में रुपए जमा करा
--Advertisement--

एसबीआई के सुरक्षा गार्ड ने ही आरोपी खेतपुरी को कहा था- डाकघर कार्मिक रोजाना बैंक में रुपए जमा कराने आता है, लूट लो उसे

जालोर | शहर के शिवाजी नगर स्थित मुख्य डाकघर के कार्मिक से गत 25 जनवरी को हुई 3.31 लाख की लूट में एसबीआई बैंक के सुरक्षा...

Danik Bhaskar

Feb 02, 2018, 07:15 AM IST
जालोर | शहर के शिवाजी नगर स्थित मुख्य डाकघर के कार्मिक से गत 25 जनवरी को हुई 3.31 लाख की लूट में एसबीआई बैंक के सुरक्षा गार्ड की भूमिका सामने आई है। मुख्य आरोपी खेतपुरी को कचहरी के सामने स्थित एसबीआई बैंक के सुरक्षा गार्ड जोधपुर जिले के देचू थानांतर्गत सेतरावा गांव निवासी सुरेंद्रसिंह पुत्र मेघसिंह राजपूत ने ही ढाई महीने पहले यह जानकारी दी थी कि डाकघर कार्मिक भंवरलाल व्यास रोजाना बैंक में रुपए जमा कराने आता है, उसे लूट लो तो अच्छी खासी रकम हाथ लग सकती है। इसके बाद आरोपियों ने डाकघर कार्मिक की रैकी कर उसे लूट की प्लानिंग शुरू की थी। इधर, पुलिस ने सुरक्षा गार्ड सेवानिवृत फौजी सुरेंद्रसिंह तथा कार चालक सुमेरपुर थानांतर्गत रोजड़ा निवासी दूदाराम देवासी पुत्र हमीराराम को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने मंगलवार को इस मामले में गिरफ्तार किए दो आरोपी खेतपुरी व सुरेंद्रसिंह को न्यायालय में पेश किया, जहां से दो दिन के रिमांड पर लिया है।

सेवानिवृत फौजी सुरेंद्रसिंह ने दी थी जानकारी : एसबीआई बैंक में सुरक्षा गार्ड के रूप में लगा सेवानिवृत फौजी सुरेंद्रसिंह ने आहोर रेबारियों का वास निवासी खेतपुरी पुत्र मूलपुरी गोस्वामी को यह बताया था कि डाकघर कार्मिक भंवरलाल व्यास रोजाना दोपहर के करीब 3 से 4 बजे के मध्य में बैंक में रुपए जमा कराने आता है। जिसके साथ लूट की वारदात की जाए तो अच्छी खासी रकम हाथ लग सकती है।



इसके बाद खेतपुरी ने सुरेंद्रसिंह व दूदाराम रेबारी समेत अन्य आरोपियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम देने की प्लानिंग की जाने लगी। ढाई महीने की रैकी के बाद गत 25 जनवरी को 3 लाख 31 हजार रुपए को लूटने में सफल हो गए।

दूदाराम था कार चालक

घटना के दौरान जब मोटरसाइकिल पर सवार खेतपुरी व सुरेंद्रसिंह ने रुपए से भरा बैग भंवरलाल व्यास के पास से छीना तो पीछे दूदाराम रेबारी कार लेकर आ रहा था। इसमें भी वारदात में शामिल आरोपी सवार थे, लेकिन भंवरलाल को यह लगा कि यह कार उस मोटरसाइकिल के पीछे लगी है, जो उससे रुपए छीन कर भागे हैं। भंवरलाल ने मौके पर यह बात पुलिस को बताई थी कि मोटरसाइकिल के पीछे भागी कार भी घटना के घंटे बाद तक वापस नहीं आई। ऐसे में पुलिस को यह लग गया था कि कार में बैठे लोग भी इस वारदात में शामिल हो सकते हैं।

जालोर | शहर के शिवाजी नगर स्थित मुख्य डाकघर के कार्मिक से गत 25 जनवरी को हुई 3.31 लाख की लूट में एसबीआई बैंक के सुरक्षा गार्ड की भूमिका सामने आई है। मुख्य आरोपी खेतपुरी को कचहरी के सामने स्थित एसबीआई बैंक के सुरक्षा गार्ड जोधपुर जिले के देचू थानांतर्गत सेतरावा गांव निवासी सुरेंद्रसिंह पुत्र मेघसिंह राजपूत ने ही ढाई महीने पहले यह जानकारी दी थी कि डाकघर कार्मिक भंवरलाल व्यास रोजाना बैंक में रुपए जमा कराने आता है, उसे लूट लो तो अच्छी खासी रकम हाथ लग सकती है। इसके बाद आरोपियों ने डाकघर कार्मिक की रैकी कर उसे लूट की प्लानिंग शुरू की थी। इधर, पुलिस ने सुरक्षा गार्ड सेवानिवृत फौजी सुरेंद्रसिंह तथा कार चालक सुमेरपुर थानांतर्गत रोजड़ा निवासी दूदाराम देवासी पुत्र हमीराराम को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने मंगलवार को इस मामले में गिरफ्तार किए दो आरोपी खेतपुरी व सुरेंद्रसिंह को न्यायालय में पेश किया, जहां से दो दिन के रिमांड पर लिया है।

सेवानिवृत फौजी सुरेंद्रसिंह ने दी थी जानकारी : एसबीआई बैंक में सुरक्षा गार्ड के रूप में लगा सेवानिवृत फौजी सुरेंद्रसिंह ने आहोर रेबारियों का वास निवासी खेतपुरी पुत्र मूलपुरी गोस्वामी को यह बताया था कि डाकघर कार्मिक भंवरलाल व्यास रोजाना दोपहर के करीब 3 से 4 बजे के मध्य में बैंक में रुपए जमा कराने आता है। जिसके साथ लूट की वारदात की जाए तो अच्छी खासी रकम हाथ लग सकती है।



इसके बाद खेतपुरी ने सुरेंद्रसिंह व दूदाराम रेबारी समेत अन्य आरोपियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम देने की प्लानिंग की जाने लगी। ढाई महीने की रैकी के बाद गत 25 जनवरी को 3 लाख 31 हजार रुपए को लूटने में सफल हो गए।

दूदाराम था कार चालक

घटना के दौरान जब मोटरसाइकिल पर सवार खेतपुरी व सुरेंद्रसिंह ने रुपए से भरा बैग भंवरलाल व्यास के पास से छीना तो पीछे दूदाराम रेबारी कार लेकर आ रहा था। इसमें भी वारदात में शामिल आरोपी सवार थे, लेकिन भंवरलाल को यह लगा कि यह कार उस मोटरसाइकिल के पीछे लगी है, जो उससे रुपए छीन कर भागे हैं। भंवरलाल ने मौके पर यह बात पुलिस को बताई थी कि मोटरसाइकिल के पीछे भागी कार भी घटना के घंटे बाद तक वापस नहीं आई। ऐसे में पुलिस को यह लग गया था कि कार में बैठे लोग भी इस वारदात में शामिल हो सकते हैं।

Click to listen..