• Hindi News
  • Rajasthan
  • Barmer
  • Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
--Advertisement--

कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन

रामदेवरा | बाबा रामदेव की अवतरण तिथि भादवा शुक्ला द्वितीया के अवसर पर मंगलवार को रामदेवरा में ब्रह्ममुहूर्त में...

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 03:36 AM IST
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
रामदेवरा | बाबा रामदेव की अवतरण तिथि भादवा शुक्ला द्वितीया के अवसर पर मंगलवार को रामदेवरा में ब्रह्ममुहूर्त में हुई मंगला आरती और बाबा की समाधि के मस्तक पर स्वर्ण मुकुट प्रतिष्ठापन के साथ ही 634 वां भादवा अंतरप्रांतीय मेला विधिवत रूप से प्रारंभ हो गया। देश के पश्चिमी अंचल के सबसे अधिक विख्यात मेले के शुभारंभ अवसर पर जिला कलेक्टर ओमप्रकाश कसेरा के साथ साथ शेरगढ़ विधायक बाबूसिंह, क्षेत्रीय विधायक शैतानसिंह राठौड़, भाजपा जिलाध्यक्ष जुगलकिशोर व्यास, मेलाधिकारी अनिल कुमार, सहायक मेलाधिकारी नारायण सुथार, रामदेवरा थानाधिकारी देवीसिंह ने विधिवत पूजा अर्चना की एवं देश व प्रदेश में खुशहाली की कामना की।

धर्म

तेज धूप भी बेअसर

मेले में सबसे लोकप्रिय शब्द जय बाबा री, ये 5 बोल हर जुबां पर








आस्था के सागर में श्रद्धा की डुबकी

सात समंदर पार से आते हैं भक्त, 50 हजार लोगों को मिलता है रोजगार

बाबा रामदेव के मेले में राज्य के अलावा गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, बंगाल, हैदराबाद, कर्नाटक सहित देशभर के श्रद्धालु मेले में धोक लगाने के लिए पहुंच रहे हैं। बाबा के प्रति गहरी आस्था सरहदों के पार भी है। श्रीलंका, बांग्लादेश, पाकिस्तान, भुटान समेत कई देशों से श्रद्धालु बाबा के दरबार में शीश नवा रहे हैं। बाबा रामदेव राज्य का सबसे बड़ा मेला है। यहां श्रद्धालु ध्वजा, कपड़े के घोड़ों के साथ आते हैं। भादवा दूज के दिन बाबा के दर्शनों की विशेष मान्यता है।

मेले में मध्यप्रदेश, गुजरात, हरियाणा से आए 3 श्रद्धालुओं की जुबानी

कमलेश निवासी उम्र 22 वर्ष, गुजरात : मैं बीते पांच साल से लगातार पैदल बाबा के दरबार में आ रहा हूं। इस बार टीम के साथ 10 दिन पहले डीसा से रवाना हुए। पैदल सफर तय कर सोमवार को यहां पहुंचे हैं। सभी साथी बाबा के दर्शनों के इंतजार में खड़े हैं। 8 घंटे हो गए है और समाधि तक पहुंचने में 4 घंटे लगेंगे। शाम तक बाबा के दर्शन होने से ही मन की मुराद पूरी होगी।

जगमोहन प्यारे, उम्र 40 वर्ष, मध्यप्रदेश : लोक देवता बाबा रामदेव के पर्चे के बारे में सुना तो एक बार बाबा के दरबार में धोक लगाने की ठान ली। नीमच से हर साल बड़ी संख्या में भक्त यहां आते हैं। इस बार उनके साथ रवाना हुआ और करीब 12 दिन तक पैदल सफर तय कर पहुंचे हैं। श्रद्धालुओं की आस्था देखकर मन में उत्साह बढ़ता ही जा रहा है। 12 घंटे से कतारें में लगे हैं और अब दर्शन कर घर लौटूंगा।

केशव प्रसाद, 32 वर्ष, हरियाणा : मैंने एक साल पहले बाबा के मंदिर में आया था। मन्नत पूरी होने पर अब पैदल चलकर पहुंचा हूं। जीवन में पैदल लंबा सफर तय करने का पहला मौका है। जातरुओं के साथ यहां पहुंचकर सुकून मिला है। हरियाणा से हजारों श्रद्धालु हर साल बाबा के मेले में दर्शनार्थ आते हैं। इसकी वजह रामदेव के चमत्कार ही है।

रामदेरिया मंदिर में उमड़े श्रद्धालु

ध्वजा नेजा चढ़ा कर रामदेरिया में मेले का आगाज

रामदेवरा मेले में उमड़े श्रद्धालु

दंडवत करते श्रद्धालु

बाड़मेर | बाबा रामदेव धाम रामदेरिया काश्मीर में मंगलवार सुबह 10 बजे सप्तरंगी ध्वजा नेजा चढ़ा कर मेला महोत्सव का उद्घाटन किया गया। मंदिर ट्रस्टी खीयाराम सारण, भूरचंद जैन, ओमप्रकाश चंडक, रावताराम राव, मोटाराम सऊ, पूराराम मुंड सहित ट्रस्ट पदाधिकारियों ने नेजा चढ़ाया। इस दौरान मंदिर परिसर बाबा के जयकारों गूंज उठा व माहौल पूरी तरह बाबा की भक्ति में रंग गया। दोपहर 1 बजे सांसद कर्नल सोनाराम चौधरी ने मंदिर में पूजा-अर्चना कर खुशहाली की कामना की। उन्होंने कहा कि हमें धार्मिक कार्यो में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए।

Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
X
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
Barmer - कतार से दरबार, बारह घंटे का सफर, मंजिल बाबा का दर्शन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..