2 मशीन और 3 रेडियोलोजिस्ट फिर भी सुबह 9 बजे के बाद नहीं होती सोनोग्राफी

Barmer News - राजस्थान सरकार की महत्ती योजनाओं में से एक निशुल्क जांच योजना। जिला अस्पताल में पिछले कई माह से निशुल्क जांच नहीं...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 07:20 AM IST
Barmer News - rajasthan news 2 machines and 3 radiologists still do not have sonography after 9 am
राजस्थान सरकार की महत्ती योजनाओं में से एक निशुल्क जांच योजना। जिला अस्पताल में पिछले कई माह से निशुल्क जांच नहीं हो रही है। इसके पीछे कारण बताया जा रहा है कि निजी लैब को इसका टैंडर दिया हुआ था, जिसकी अवधि पूरी होने पर बंद कर दिया गया। उसके बाद निशुल्क जांच के लिए वापस टैंडर भी हो गए लेकिन जांच शुरू नहीं हो पाई। सरकार का दावा है कि सभी अस्पतालों में कई प्रकार की जांचें निशुल्क एवं समय पर की जा रही है, जिसमें सोनोग्राफी भी शामिल है। जिला अस्पताल में सोनोग्राफी की मशीनें तो दो रखी हुई है लेकिन अस्पताल प्रबंधन की ओर से ध्यान नहीं देने की वजह से एक मशीन का उपयोग ही नहीं हो रहा है। अब तक अस्पताल प्रशासन का कहना था कि रेडियोलोजिस्ट नहीं होने से एक ही मशीन का उपयोग किया जा रहा है। जबकि पिछले काफी समय से दो नए रेडियोलोजिस्ट आ गए फिर भी सोनोग्राफी की मशीन को शुरू नहीं किया जा सका है। अस्पताल में एक ही मशीन से सोनोग्राफी होने के कारण 50 से अधिक सोनोग्राफी नहीं हो पाती है। ऐसे में मरीज को या तो बाहर से सोनोग्राफी करवानी पड़ती है। एक मशीन होने से सुबह नौ बजे तक ही निर्धारित 50 के करीब आवेदन हो जाते हैं। उसके बाद आने वाले अन्य मरीजों को सोनोग्राफी के लिए बाहर के निजी सोनोग्राफी सेंटर से सोनोग्राफी करानी पड़ रही है, जो काफी महंगी है। जिला अस्पताल में दो रेडियोलोजिस्ट लगाए गए हैं, वहीं एक चिकित्सक के डिप्लोमा किया हुआ है। ऐसे में इस अस्पताल के तीन चिकित्सक सोनोग्राफी कर सकते हैं। लेकिन एक ही मशीन लगी हुई होने के कारण सोनोग्राफी नहीं हो रही है।

चिकित्सा अधिकारियों ने किया एनसीडी का औचक निरीक्षण

बाड़मेर. मलेरिया जांच की संख्या बढ़ाने की चर्चा करते चिकित्सािधकारी।

अब गर्भवती महिलाओं को जाना होगा न्यू टिचिंग

वर्तमान में अस्पताल के मातृ एवं प्रसुति विभाग में सोनोग्राफी सेंटर स्थापित है, लेकिन अब स्थान परिवर्तित कर न्यू टीचिंग अस्पताल में लगाया जा रहा है। अस्पताल प्रशासन इसके पीछे कारण बता रहा है कि दूसरी मशीन लगानी है। इसलिए दोनों ही एक साथ न्यू टीचिंग अस्पताल में लगा रहे हैं, जबकि सोनोग्राफी की जरूरत गर्भवती महिलाओं के लिए अधिक रहती है। अस्पताल प्रशासन अगर प्रसुति विभाग से न्यू टीचिंग में स्थानांतरित किया जाता है तो गर्भवती महिलाओं को परेशानी उठानी पड़ेगी।


जिला राजकीय अस्पताल में शुक्रवार काे डिप्टी सीएमएचओ डॉ. पी.सी. दीपन अाैर पीएमअाे डॉ. बी.एल.मंसुरिया ने कांगो फीवर सहित विभिन्न मौसमी बीमारियाें से निपटने काे लेकर विचार-विमर्श किया गया। इस दौरान जिला असंक्रामक रोग क्लीनिक का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान कर्मचारियों काे कमियां दूर करने के निर्देश दिए।

X
Barmer News - rajasthan news 2 machines and 3 radiologists still do not have sonography after 9 am
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना