इसरोल के 50 भामाशाहों ने स्कूल में टिनशेड के लिए जुटाए ‌‌Rs.7 लाख

Barmer News - चौहटन उपखंड की ग्राम पंचायत इसरोल के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में ग्रामीणों व भामाशाहों की ओर से शिक्षा को...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 08:10 AM IST
Chouhtan News - rajasthan news 50 bhamashahs of isro raised rs7 lakh for tinshed in school
चौहटन उपखंड की ग्राम पंचायत इसरोल के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में ग्रामीणों व भामाशाहों की ओर से शिक्षा को बढ़ावा और विद्यार्थियों सुविधाएं मुहैया कराने के लिए सार्थक पहल की गई है। जन सहयोग से करीब 7 लाख रुपए एकत्र कर यहां टिनशेड लगवाया जा रहा है, जिससे विद्यार्थियों को बरसात, गर्मी और सर्दी से सुरक्षा मिलेगी।

स्कूल के अध्यापक व स्थानीय रहवासी खेराज राम गोदारा ने बताया कि राउमावि इसरोल में कला संकाय शुरू होने से कक्षा कक्ष की कमी होने लगी। स्कूल में लगभग 600 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। स्थानाभाव के कारण उन्हें स्कूल के खुले परिसर में ही बैठकर पढ़ना पड़ता था। इस दौरान सर्दी, गर्मी, बरसात में हालात विकट हो जाते थे। इसलिए स्कूल के शिक्षकों ने यह समस्या ग्रामीणों, भामाशाहों व अभिभावकों को बताई तो उन्होंने धन सहयोग से स्कूल परिसर में 60 गुणा 60 यानी कुल 360 वर्गफीट का टिनशेड बनवाने की पहल शुरू की। दानाराम गोदारा ने बताया कि इसरोल के 50 भामाशाहों की सहायता से लगभग सात लाख रुपए जुटाकर 15 अगस्त से टिनशेड का निर्माण शुरू किया गया। इसे 31 अक्टूबर तक पूर्ण कर दीपावली के मौके पर विद्यार्थियों को तोहफे के रूप में दिया जाएगा। इस पहल से प्रेरित होकर एक भामाशाह ने एक लाख राशि टिनशेड के लिए भेंट की। समाजसेवी रावता राम पंचार व अध्यापक खेराज राम गोदारा ने इस पहल को शुरू किया, साथ ही उन्होंने इसरोल के ग्रामीणों व भामाशाहों को भी इसके लिए प्रेरित भी किया। टिनशेड बनवाने में स्कूल में कार्यरत शिक्षकों ने भी सहयोग किया।

600 विद्यार्थियों को अब हर मौसम में पढ़ने का मिलेगा मौका

बाड़मेर. इसरोल गांव में प्रगति पर टिनशेड का निर्माण कार्य।

स्कूल में शैक्षणिक सुविधा बढ़ने से परिणाम सुधरेंगे

राउमावि इसरोल में करीब 600 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। जब स्कूल में शैक्षणिक गतिविधियां, बालसभा या कोई कार्यक्रम होता है तो खुले आसमान के नीचे सभी विद्यार्थी एक साथ बैठते थे, जिससे उन्हें मौसम अनुसार कड़ी धूप व बरसात जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। भामाशाहों के सहयोग से बन रहे टिनशेड पूर्ण होने के बाद उन्हें इस समस्या से छुटकारा मिलेगा। इस परेशानी के कारण कभी-कभी स्कूल में होने वाली गतिविधियों को रद्द करना पड़ता था।

15 अगस्त को निर्माण कार्य शुरू, 80 फीसदी काम पूरा

ग्रामणों ने बताया कि 15 अगस्त को जब टिनशेड को बनवाने की पहल को शुरू करने से लेकर अब तक भामाशाहों की ओर से लगभग 5 लाख रुपए विद्यालय कमेटी के पास जमा हो चुके हैं। इस राशि से अब तक लगभग 80 फीसदी काम पूर्ण हो चुका है। अभी तक भामाशाह रुपए जमा करवा रहे है 31 अक्टूबर कार्य पूर्ण होने तक यह राशि सात लाख रुपए हो जाएगी। उन्होंने बताया कि सात लाख से बनने वाला यह टिनशेड इतना बड़ा है कि विद्यालय के समस्त शिक्षक, विद्यार्थियों के साथ-साथ उनके अभिभावक इसके नीचे बैठ सकते हैं।

X
Chouhtan News - rajasthan news 50 bhamashahs of isro raised rs7 lakh for tinshed in school
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना