पक्की छत के लिए तरसते परिवार, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत नहीं मिले आवास

Barmer News - प्रधानमंत्री आवास योजना से लाभान्वित करने के लिए प्रशासन इसकी मॉनिटरिंग करता है। बैठकों में आवास योजना से...

Oct 13, 2019, 07:11 AM IST
प्रधानमंत्री आवास योजना से लाभान्वित करने के लिए प्रशासन इसकी मॉनिटरिंग करता है। बैठकों में आवास योजना से अधिकाधिक पात्र व्यक्तियाें काे जाेड़ने के निर्देश दिए जाते रहे हैं। बावजूद इसके जिला कलेक्टर कार्यालय से महज तीन किमी दूर ही एेसे कई परिवार हैं, जिनके रहने के लिए पक्की छत है न ही स्वच्छ भारत मिशन का शाैचालय।

वंचिताें का अाराेप है कि उन्हाेनें कई बार पंचायत में अावेदन किए, लेकिन प्रधानमंत्री आवास योजना में उनका आवास मंजूर नहीं हुअा। वहीं प्रशासन का मानना है कि दस्तावेज में काेई कमी हाेने के कारण सेंक्शन नहीं हुई हाेगी। बीदासर के लाखाराम की उम्र 48 वर्ष है, इनके रहने के लिए छप्पर व दाे कच्चे कमरे बने हंै। खुद सिलाई का काम करते हैं, एक लड़का पढ़ता है, दाे लड़कियां हैं, जाे स्कूल नहीं जातीं। इसी के पास जालमसिंह का घर है। उनकी प|ी पदम कंवर ने बताया कि उनके घर का कई बार फाेटाे लिया, लेकिन सुविधा अब तक नहीं मिली। 70 वर्षीया राणी कंवर की भी स्थिति इससे भी खराब है। उनके रहने के लिए पक्की छत नहीं है। बेटा ड्राइविंग करता है। बहू की 11 वर्ष पहले माैत हाे गई। पाेताें काे बड़ा करने के लिए जद्दाेजहद कर रही है। उनके पांव में अाॅपरेशन हाे रखा है। घर का सारा काम उन्हें ही करना पड़ता है, अाैर काेई करने वाला नहीं है। बरसात के दिनाें में मुसीबत बढ़ जाती है। भाजपा युवा नेता राजूसिंह काेटड़ा ने बताया कि इन परिवाराें काे प्रधानमंत्री आवास योजना एवं स्वच्छ भारत मिशन के तहत शाैचालय का लाभ नहीं मिला है। गरीब परिवाराें की पैरवी करने वाला काेई है नहीं। प्रशासन काे इनकी मदद करनी चाहिए।


बाड़मेर. दानजी हौदी रहने वाला बीपीएल परिवार कच्चे झोपड़े में बैठा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना