• Hindi News
  • Rajasthan
  • Barmer
  • Barmer News rajasthan news there is not a single hindu in the organization yet they are running for their rights

संगठन में एक भी हिंदू नहीं फिर भी उनके अधिकाराें के लिए चला रहे हैं अांदाेलन

Barmer News - पड़ाेसी मुल्क पाकिस्तान से अाए दिन अल्पसंख्यक वर्ग पर हमले एवं अत्याचार के मामले सामने अा रहे हैं। पाक के सिंध...

Oct 13, 2019, 07:11 AM IST
पड़ाेसी मुल्क पाकिस्तान से अाए दिन अल्पसंख्यक वर्ग पर हमले एवं अत्याचार के मामले सामने अा रहे हैं।

पाक के सिंध सूबे से पिछले काफी समय से अाजादी की मांग मुखर हाे रही है। इसी काे लेकर हाल ही में सिंध में जिये सिंध काैमी महाज आरीसर ग्रुप की अाेर से बड़ी रैली निकाली गई। इसमें संकल्प लिया गया कि सिंध काे अाजाद करने एवं सिंधियत यानी सिंध क्षेत्र में रहने वाले सभी लाेग िहन्दू-मुस्लिम सब एक हैं, यहां की माेहब्बत एवं भाईचारा रहा है। हर सुख-दुख में एक दूसरे के सहयाेगी बनेंगे। सिंध क्षेत्र के लाेगाें ने कहा कि पिछले कुछ समय से पाक एजेंसियां इस माेहब्बत में जहर घाेलने का काम कर रही है। इसे कामयाब नहीं हाेने दिया जाएगा। सब मिलकर सिंध को आजाद कराएंगे। कुल्हाड़ी वाला लाल झंडा हमारे दिल मे बसता है, इसके तले एक दिन अाजादी प्राप्त करके रहेंगे। एजेंसियां कुछ लोगों को खरीदकर एजेंटो के जरिए लाल झंडे से अलग कर हरा झंडा पकड़वाना चाहती है। जो हमारी सिंध की सूफ़ियत, एकता व भाईचारे के खिलाफ है। इसे सफल नही होने देंगे।

जिये सिंध कोमी महाज आरीसर ग्रुप की अाेर से मोरो शहर में एजेंसियों की तरफ से उठाए गए गुम किए गए कार्यकर्ता की रिहाई के लिए, घोटकी में अल्पसंख्यक हिन्दू की हत्या के विरोध में, मंदिर पर हमले, घरों पर हमले के खिलाफ, डॉक्टर नम्रता की हत्या के विराेध में रैली निकाली गई। पार्टी के चेयरमैन असलम खेरपुरी, वाइस चेयरमैन अरबाब भील, जनरल सेक्रेटरी सरमद मिरानी ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि सिंध में हिन्दुओं के मंदिरों, दुकानों पर हमले, नाबालिग लड़कियों को उठाकर ले जाकर जबरदस्त इस्लाम कबूल करवा कर शादी करवाना के पीछे हिन्दुओ को सिंध से भगाने की साजिश है। इसे हम सफल नही होने देंगे। हम पहले सिंधी है बाद में हिन्दू व मुसलमान है। सिंध प्रांत में कराची, जमशेराे, थट्टा, बदिन, थारपारकर, उमरकाेट, मीरपुरखास, टंडाे अलायार खान, नाैशहराे फिराेज, टंडाे माेहम्मद खान, हैदराबाद, संगहार, खैरपुर, नवाबशाह, दादु, कंबर शहदाकाेट, लरकाना, मटियारी, घाेटकी, शिकारपुर, जैकाेबाबाद, सुक्कुर, काशमाेरे जिले हैं। अमेरिका स्थित संगठन सिंधी फाउंडेशन का अाराेप है कि पाकिस्तान में हर साल 12 से 28 साल उम्र की करीब एक हजार सिंधी हिंदू युवतियाें का अपहरण कर उनकाे मुसलमान बनाकर जबरन निकाह कराया जाता है।

जिये सिंध मूवमेंट के लिए अलग-अलग गुट,मकसद सबका एक

सिंध की अाजादी के लिए सभी राष्ट्रवादी धड़े राष्ट्रवादी विचारक जीएम सैयद के निधन से पहले अलग-अलग कार्य कर रहे थे। 1995 में जीएम सैयद की मौत के बाद सिंध के सभी गुटों को एक किया गया अाैर जेएसक्यूएम नाम से सिंधी राष्ट्रवादी अब्दुल वाहिद आरीसर काे पहले निर्वाचित अध्यक्ष के रूप में लाया गया। यह एकीकरण आगे पांच वर्षों तक रहा। वर्ष 2000 में शफी मुहम्मद बफऊ ने अपने साथियों के साथ अलग होकर जेएसएमएम की स्थापना की। अब्दुल वाहिद अरसारबल्म ने बशीर अहमद कुरैशी को बुलाया और उन्हें स्व-नियुक्त जेएसक्यूएम अध्यक्ष बनाया। 2006 में अब्दुल वाहिद अारीसर ने जेएसक्यूएम को छोड़ दिया और खुद का संगठन जेएसक्यूएमए बना लिया। वर्ष 2010 में सफदर सरकी (जेएसक्यूएम के तत्कालीन महासचिव) ने एक और जेई सिंध तहरीक (जेएसटी) का गठन किया गया।

अल्पसंख्यकों की पीड़ा में हुए शामिल

सिंध सूबे के सिंधियत काे तवज्जाें देने वाले लाेग 8 अक्टूबर काे सूबे के कई स्थानाें पर अल्पसंख्यक समुदाय के लाेगाें के घर जाकर उनकी पीड़ा में शामिल हुए। तंजीम के लाेगाें ने उनसे गले मिलकर कहा कि वे हर सुख-दुख में उनके साथ हैं। यहां मजहब के नाम पर किसी प्रकार का भेदभाव एवं अत्याचार नहीं हाेने देंगे। हालांकि अल्पसंख्यक समुदाय के लाेग खुद काे वहां सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं। वे अपनी संपत्ति बेचकर भारत आकर बसना चाहते हैं।

भास्कर संवाददाता | बाड़मेर

पड़ाेसी मुल्क पाकिस्तान से अाए दिन अल्पसंख्यक वर्ग पर हमले एवं अत्याचार के मामले सामने अा रहे हैं।

पाक के सिंध सूबे से पिछले काफी समय से अाजादी की मांग मुखर हाे रही है। इसी काे लेकर हाल ही में सिंध में जिये सिंध काैमी महाज आरीसर ग्रुप की अाेर से बड़ी रैली निकाली गई। इसमें संकल्प लिया गया कि सिंध काे अाजाद करने एवं सिंधियत यानी सिंध क्षेत्र में रहने वाले सभी लाेग िहन्दू-मुस्लिम सब एक हैं, यहां की माेहब्बत एवं भाईचारा रहा है। हर सुख-दुख में एक दूसरे के सहयाेगी बनेंगे। सिंध क्षेत्र के लाेगाें ने कहा कि पिछले कुछ समय से पाक एजेंसियां इस माेहब्बत में जहर घाेलने का काम कर रही है। इसे कामयाब नहीं हाेने दिया जाएगा। सब मिलकर सिंध को आजाद कराएंगे। कुल्हाड़ी वाला लाल झंडा हमारे दिल मे बसता है, इसके तले एक दिन अाजादी प्राप्त करके रहेंगे। एजेंसियां कुछ लोगों को खरीदकर एजेंटो के जरिए लाल झंडे से अलग कर हरा झंडा पकड़वाना चाहती है। जो हमारी सिंध की सूफ़ियत, एकता व भाईचारे के खिलाफ है। इसे सफल नही होने देंगे।

जिये सिंध कोमी महाज आरीसर ग्रुप की अाेर से मोरो शहर में एजेंसियों की तरफ से उठाए गए गुम किए गए कार्यकर्ता की रिहाई के लिए, घोटकी में अल्पसंख्यक हिन्दू की हत्या के विरोध में, मंदिर पर हमले, घरों पर हमले के खिलाफ, डॉक्टर नम्रता की हत्या के विराेध में रैली निकाली गई। पार्टी के चेयरमैन असलम खेरपुरी, वाइस चेयरमैन अरबाब भील, जनरल सेक्रेटरी सरमद मिरानी ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि सिंध में हिन्दुओं के मंदिरों, दुकानों पर हमले, नाबालिग लड़कियों को उठाकर ले जाकर जबरदस्त इस्लाम कबूल करवा कर शादी करवाना के पीछे हिन्दुओ को सिंध से भगाने की साजिश है। इसे हम सफल नही होने देंगे। हम पहले सिंधी है बाद में हिन्दू व मुसलमान है। सिंध प्रांत में कराची, जमशेराे, थट्टा, बदिन, थारपारकर, उमरकाेट, मीरपुरखास, टंडाे अलायार खान, नाैशहराे फिराेज, टंडाे माेहम्मद खान, हैदराबाद, संगहार, खैरपुर, नवाबशाह, दादु, कंबर शहदाकाेट, लरकाना, मटियारी, घाेटकी, शिकारपुर, जैकाेबाबाद, सुक्कुर, काशमाेरे जिले हैं। अमेरिका स्थित संगठन सिंधी फाउंडेशन का अाराेप है कि पाकिस्तान में हर साल 12 से 28 साल उम्र की करीब एक हजार सिंधी हिंदू युवतियाें का अपहरण कर उनकाे मुसलमान बनाकर जबरन निकाह कराया जाता है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना