बसेड़ी

--Advertisement--

ओएसडी के आदेश हुए हवा, सफाई अभियान फेल

उपखंड मुख्यालय पर ग्रापं प्रशासन की लापरवाही के कारण सफाई अभियान शुरू होने के दो दिन बाद ही दम तोड़ने लग गया है।...

Dainik Bhaskar

Jan 18, 2018, 02:20 AM IST
उपखंड मुख्यालय पर ग्रापं प्रशासन की लापरवाही के कारण सफाई अभियान शुरू होने के दो दिन बाद ही दम तोड़ने लग गया है। कस्बा के गली मोहल्ला, चौराहा सभी जगह गंदगी पसरी हुई है, लेकिन ग्रापं प्रशासन के अधिकारियो को कोई परवाह नहीं है। कस्बा में गंदगी के कारण मुख्य रास्तों पर दुर्गंध का आलम है। वही ग्रापं प्रशासन आंख बंद कर बैठा हुआ है। कस्बावासी रामविहारी शर्मा, वार्डपंच शिवदत्त शर्मा, इरफान खां, मकसूद खां, सैयाद खां आदि ने बताया कि ग्रापं प्रशासन की लापरवाही के कारण कस्बा में सफाई व्यवस्था ध्वस्त पड़ी हुई है। कस्बा का आलम यह है कि कई मोहल्लों में गंदगी के कारण घर-घर में बीमारी फैली हुई है। ग्रामीणों द्वारा ग्रापं प्रशासन के अधिकारियों से शिकायत करने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। आठ दिन पूर्व ओएसडी रतनलाल योगी की जनसुनवाई के दौरान ग्रामीणों ने कस्बा की गंदगी की समस्या को जोरशोर से उठाया था। समस्या को गंभीरता से लेते हुए ओएसडी ने विकास अधिकारी बसेड़ी के निर्देशन में ग्रापं प्रशासन को तीन दिन में सफाई अभियान शुरू करने के निर्देश दिए थे। लेकिन ग्रापं प्रशासन ने तीन दिन बाद सफाई अभियान की शुरुआत तो कर दी लेकिन दो दिन बाद ही ग्रापं प्रशासन का सफाई अभियान दम तोड़ने लग गया। ग्रापं प्रशासन ने दो दिन में एक ही गली से पांच ट्रॉली कचरा उठवाने के बाद अभियान को बंद कर दिया, जिससे कस्बा के गली मोहल्ला व चौराहा पर गंदगी पसरी हुई है। आलम यह है कि मुख्य बाजार, वैदल पाड़ा, सत्ती चौक, झम्मन मकान, ऊपला बाजार दरवाजा सहित दर्जनभर जगह गंदगी के ढेर लगे हुए हैं, जिससे राहगीरों का निकलना मुश्किल हो रहा है, वहीं मोहल्लावासी परेशान हैं।

जनसुनवाई में छाया रहा मुद्दा, ओएसडी ने तीन दिन में सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने के दिए थे निर्देश

हरदैनिया पाडा की मुख्य गली में जमा गंदगी।

बीडीओ की सख्ती भी

नहीं आई काम

कस्बा में ग्रापं प्रशासन ने बीडीओ के निर्देशन में सफाई अभियान की शुरुआत तो कर दी लेकिन अभियान के शुरू होने के दो दिन बाद ही ग्रापं प्रशासन ने अभियान को बंद कर दिया। कस्बा में दो दिन चले अभियान की समीक्षा भी बीडीओ ने दौरा कर की, लेकिन सफाई व्यवस्था में धांधली उजागर होने के कारण ग्रापं प्रशासन ने तीसरे दिन सफाई अभियान ही बंद कर दिया, जबकि सफाई अभियान में गति लाने के लिए बीडीओ आरती गुप्ता ने ग्रापं सचिव दिलीप परमार को निर्देश दिए थे जिसका कोई असर होता नहीं दिख रहा।

X
Click to listen..