Hindi News »Rajasthan »Baseri» बजट में सरमथुरा को नगरपालिका का दर्जा मिलने की संभावना जताई

बजट में सरमथुरा को नगरपालिका का दर्जा मिलने की संभावना जताई

सोमवार को राज्य वित्त बजट में सरमथुरा को नगरपालिका का दर्जा मिलने की संभावना है। राज्य सरकार के मापदंडोंं के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 11, 2018, 02:30 AM IST

बजट में सरमथुरा को नगरपालिका का दर्जा मिलने की संभावना जताई
सोमवार को राज्य वित्त बजट में सरमथुरा को नगरपालिका का दर्जा मिलने की संभावना है। राज्य सरकार के मापदंडोंं के अनुसार जिला में सरमथुरा निर्धारित मापदंडों को पूरा कर रहा है, जिसके प्रस्ताव जिला प्रशासन ने पूर्व में ही भिजवा दिए गए है। सरमथुरा कस्बा की जनसंख्या राज्य सरकार के प्रावधान से अधिक है वहीं उपखंड व तहसील मुख्यालय मौजूद है। राज्य सरकार के निर्धारित मापदंडो के अनुसार 20 हजार की आबादी पर नगरपालिका का गठन किए जाने के प्रावधान हैं।

सरमथुरा में कई वर्षों से नगरपालिका व पंचायत समिति का दर्जा देने के लिए मांग उठती रही है लेकिन राजनैतिक पार्टियों ने वोट बैक की खातिर कस्बा के साथ सौतेला व्यवहार किया है। उद्योग की दृष्टि से जिला में सरमथुरा प्रमुख पत्थर मंडी है वहीं रोजगार के संसाधन मौजूद है। नगरपालिका के अभाव में कस्बा का विकास अवरूद्ध बना हुआ है वहीं सफाई व रोशनी का अभाव है। वर्तमान में ग्रापं प्रशासन सफाई कर्मियों की कमी व बजट का रोना रोया रहता है जिसके कारण कस्बा का विकास प्रभावित है।

सरमथुरा में 2011 के रिकार्ड के अनुसार 21110 जनसंख्या होने के बावजूद नगरपालिका का दर्जा नहीं दिया गया है वहीं नगरपालिका के गठन के बाद मनरेगा के श्रमिकों के लिए रोजगार की कमी आने पर कस्बा में पर्याप्त रोजगार के संसाधन भी मौजूद है। जिसके कारण आगामी बजट में सरमथुरा को नपा का दर्जा मिलने की उम्मीद है।

सरमथुरा. कस्बे की गलियों में सफाई करते सफाईकर्मी।

पंचायत में सफाईकर्मियो का 600 रुपए वेतन

वर्तमान में सफाई व रोशनी का दायित्व ग्रापं प्रशासन के पास मौजूद है, ग्राम पंचायत में कस्बा की सफाई के लिए 21 कर्मचारी तैनात किए हुए है जिन्हें सफाई के एवज में 600 रूपए प्रतिमाह वेतन दिया जाता है। लेकिन ग्राम पंचायत प्रशासन सफाई के लिए बजट का अभाव होने का रोना रोने के कारण सफाईकर्मियों को पांच छह माह बाद वेतन दिया जाता है जिसके कारण कस्बा की सफाई व्यवस्था प्रभावित होती है। वहीं रोशनी के लिए अतिरिक्त बजट नहीं होने के कारण कस्बा में अंधेरे में डूबा रहता है। नगरपालिका का दर्जा मिलने के बाद सरमथुरा में विकास के मार्ग खुलने की संभावना है।

41 वार्ड व उपखंड मुख्यालय भी

सरमथुरा ग्राम पंचायत में आबादी तो मापदंड के अनुसार मौजूद है वही 41 वार्ड भी मौजूद है, जो कस्बा के विस्तार को दर्शा रहा है। जिसके बावजूद उपखंड मुख्यालय होने के साथ तहसील हैडक्वार्टर तथा पुलिस सर्किल भी मौजूद है। कस्बा को नगरपालिका का दर्जा दिलाने के लिए बसेड़ी विधायक रानी सिलौटिया भी प्रयासरत है जिन्होंने पूर्व में मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर नगरपालिका व पंचायत समिति का दर्जा देने की मांग कर चुकी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Baseri

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×