Hindi News »Rajasthan »Bassi» बस्सी जनाना अस्पताल में महिला ने दिया मृत शिशु को जन्म, सीएम पोर्टल पर शिकायत

बस्सी जनाना अस्पताल में महिला ने दिया मृत शिशु को जन्म, सीएम पोर्टल पर शिकायत

सीएचसी बस्सी प्रभारी डॉ.दिनेश मित्तल पर सोनोग्राफी रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से गर्भस्थ शिशु के मृत होने की जानकारी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:10 AM IST

सीएचसी बस्सी प्रभारी डॉ.दिनेश मित्तल पर सोनोग्राफी रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से गर्भस्थ शिशु के मृत होने की जानकारी लिखे होने के बावजूद इसकी जानकारी दिए बिना करीब 10 दिन से भी ज्यादा समय तक उसका उपचार चलाए रखने का आरोप लगा है। इस अवधि में गर्भवती के शरीर में जहर फैलने पर उसे दूसरे अस्पताल में ले जाने पर सारे मामले का खुलासा हुआ। पीडित महिला के परिजनों ने संबंधित चिकित्सक के खिलाफ चिकित्सकीय लापरवाही का आरोप लगाते हुए सीएम पोर्टल पर अपनी शिकायत दर्ज कराई है। महिला के पति माधोगढ़ निवासी कन्हैयालाल सैनी ने बताया कि डॉ.मित्तल के कहने पर उन्होंने 15 मार्च को लाइफ लाइन डायग्नोस्टिक सेंटर पर सोनोग्राफी करवाई। यहां कार्यरत सोनोलोजिस्ट डॉ.प्रमोद चौधरी ने उन्हें रिपोर्ट तो दे दी मगर कुछ बताया नहीं। जबकि रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से 32 हफ्ते के शिशु के मरे होने के बारे में लिखा हुआ है।

सोनोग्राफी रिपोर्ट में गर्भस्थ शिशु की मौत, डॉक्टर 10 दिन तक करता रहा इलाज, अब गर्भवती की हालत बिगड़ी

साेनोग्राफी की वह रिपोर्ट, जिसमें बच्चे के मृत होने की पुष्टि

शिमला सैनी

डॉक्टर ने बच्चे की मौत की जानकारी नहीं दी

माधोगढ़ निवासी कन्हैयालाल सैनी ने बताया कि उसकी प|ी गर्भवती थी। 15 मार्च को प|ी को लेकर सीएचसी प्रभारी डॉ. मित्तल के घर आए। डॉ.मित्तल ने सोनोग्राफी कराने की सलाह दी। अस्पताल के सामने लाइफलाइन डायग्नोस्टिक सेंटर पर सोनोग्राफी करा लाए। रिपोर्ट देखने के बाद डॉ.मित्तल ने उन्हें 10 दिन की दवा लिखकर दे दी। दोबारा प|ी को दिखाने आए, तब छह दिन की दवा लिख कर दे दी।

सूजन बढ़ी तो दूसरे अस्पताल पहुंचे, तब मामला सामने आया

डॉ.मित्तल को दोबारा दिखाने के बाद अगले ही दिन शिमला के शरीर में सूजन बढ़ने लगी। देर रात जब उसको लेबर पैन शुरू हुआ तो परिजन उसे तूंगा सीएचसी लेकर भागे। वहां गर्भस्थ शिशु की मौत गर्भ में होने की जानकारी सामने आते ही सीएचसी तूंगा से उसे जयपुर रेफर कर दिया गया। जब शिमला को जयपुर ले जाया गया तब वहां इस सारे मामले का खुलासा हुआ। महिला के पति के अनुसार सांगानेरी गेट स्थित महिला चिकित्सालय में कार्यरत चिकित्सक ने भी फोन करके डॉ.मित्तल को इस लापरवाही के लिए चेताया था। इधर, सारा मामला सामने आने पर महिला के पति ने सीएम पोर्टल पर सीएचसी प्रभारी डॉ.मित्तल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई।

डॉक्टर ने मानी गलती दूसरी रिपोर्ट देखी होगी...

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डॉ. दिनेश मित्तल ने बताया कि संभवतया उस समय टेबल पर दूसरी सोनोग्राफी रिपोर्ट भी पड़ी होगी, इसलिए यह बात सामने नहीं आई। अन्य रिपोेर्ट पर ध्यान होने से ऐसा हो सकता है।

ब्लाॅक सीएमएचओ जांच करेंगे... ब्लॉक सीएमएचओ डॉ. दिनेश मीणा ने बताया कि मुझे हाल ही किसी ने फोन पर इस बारे में जानकारी दी थी। मैं पता करवाता हूं कि यह लापरवाही कैसे हुई। कहीं गलती सामने आई तो कार्रवाई करेंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bassi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×