• Home
  • Rajasthan News
  • Bassi News
  • Bassi - बस्सी में इक्का-दुक्का को छोड़ पूरा बाजार खुला
--Advertisement--

बस्सी में इक्का-दुक्का को छोड़ पूरा बाजार खुला

डीजल- पेट्रोल की बढती कीमतों एवं अन्य मुद्दों पर सोमवार को कांग्रेस द्वारा आहूत भारत बन्द का आह्वान उपखंड क्षेत्र...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 02:20 AM IST
डीजल- पेट्रोल की बढती कीमतों एवं अन्य मुद्दों पर सोमवार को कांग्रेस द्वारा आहूत भारत बन्द का आह्वान उपखंड क्षेत्र में लगभग विफल रहा। आम नागरिक ही नहीं, स्वयं कांग्रेस पदाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों तक की दुकाने खुली रही। बाजारों में इक्का दुक्का दुकानों को छोडकर समूचा बाजार सुचारू रूप् से खुला रहा। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने गिने चुने कार्यकर्ताओं के साथ बाजार में रैली भी निकाली। जिसमें पीसीसी सदस्य लक्ष्मण मीणा, प्रधान गणेशनारायण पोटल्या, सेडूराम मीणा, ब्लॉक अध्यक्ष नवलकिशोर व्यास, सुधीर मोहन शर्मा, रामजीलाल शर्मा, जगदीश अखरिया, अभिषेक मीणा आदि मौजूद रहे।

टिकट दावेदार ही नदारद

देशभर मे भले कांग्रेस ने अपने भारत बन्द को सफल बनाने के लिए जीजान लगा दी हो। मगर बस्सी क्षेत्र में भारत बन्द के दौरान कांग्रेस से जुडे अधिकांश टिकट के दावेदार नदारद ही दिखे। दावेदारों में से महज लक्ष्मण मीणा और सेडूराम मीणा की पूरे समय मौजूद रहे। रामस्वरूप् मीणा आधी रैली निकल जाने के बाद रैली में शामिल हुए। जबकि कविता, दौलत, रामनारायण मीणा, दूल्हेराम आदि रैली से नदारद रहे।

जटवाड़ा| पेट्रोल डीजल मूल्य वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस के भारत बंद का आंशिक असर देखा गया। अधिकांश जगह दुकानें, प्रतिष्ठान बंद हैं। हालांकि क्षेत्र में कई स्थानों पर पेट्रोल पंप खुले देखे गए हैं। कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने इकट्ठा होकर दुकानें बंद कराई।

पावटा में बंद का मिलाजुला असर

पावटा | कस्बे में सोमवार को कांग्रेसियों द्धारा भाजपा सरकार की रीति नीति में अंतर के विरोध में भारत बंद के तहत मिलाजुला असर रहा। सुबह 10 बजे के करीब कांग्रेस पावटा ब्लाक अध्यक्ष रामजीलाल यादव के नेतृत्व में कांग्रेसी नेता मान सिंह, आरपी मीणा, सुभाष छावडी व पावटा महामंत्री रतनलाल जिदंल आदि ने एकजुट होकर कस्बे के दुकानदारों से प्रतिष्ठान बंद करने की अपील की। दुकानदारों ने प्रतिष्ठान बंद कर लिए और जैसी ही कांग्रेसी आगे निकल गए तो दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठान पुन: खोलकर दुकानदारी में लग गए जिससे कस्बे में बंद का मिलाजुला असर रहा।