--Advertisement--

ऑनलाइन टिकट पर छात्रों व परिचालक में विवाद

भास्कर संवाददाता| बयाना/भरतपुर एक ओर तो रोडवेज प्रबंधन यात्रियों को ऑनलाइन टिकट बुकिंग के लिए व्यापक...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 07:35 AM IST
भास्कर संवाददाता| बयाना/भरतपुर

एक ओर तो रोडवेज प्रबंधन यात्रियों को ऑनलाइन टिकट बुकिंग के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार कर रहा है, वहीं रोडवेज के परिचालक इसे नहीं मान रहे हैं। ऑनलाइन टिकट बुक कराकर शनिवार को बयाना से जयपुर के लिए रोडवेज बस में यात्रा कर रहे तीन कॉलेज स्टूडेंट्स को ऐसी ही परेशानियों का सामना करना पड़ा।

बाद में भरतपुर डिपो के मुख्य प्रबंधक से मोबाइल पर बात कराने के बाद ही कंडक्टर ने स्टूडेंट्स को बस में यात्रा करने दी। इसके चक्कर में रोडवेज बस करीब आधा घंटे तक भीम नगर टिकट घर पर ही खड़ी रही। दरअसल हुआ यूं कि कस्बा निवासी कॉलेज स्टूडेंट नितिन खत्री, अक्षय अग्रवाल व रोहित अग्रवाल ने बयाना से जयपुर की यात्रा के लिए दोपहर 12.30 बजे रवाना होने वाली भरतपुर डिपो की रोडवेज बस में रोडवेज की साइट आरएसआरटीसी पर पेटीएम के माध्यम से टिकटें बुक कराई थी। इसके लिए उनके मोबाइल पर मैसेज भी आया था। विद्यार्थियों के बस में सवार होने पर जब परिचालक ने टिकट मांगा तो उन्होंने ऑनलाइन टिकट बुक कराने का मैसेज दिखाया। जिसे कंडक्टर ने नहीं माना तथा टिकट का प्रिंट आउट लाने को कहा। टिकट के प्रिंट आउट को लेकर विद्यार्थियों व परिचालक के बीच बहस हो गई।

परिचालक विद्यार्थियों को गाड़ी तक में से उतारने की धमकी देने लगा। जबकि जानकारों का कहना है कि नियमानुसार मोबाइल मैसेज ही यात्रा के लिए पर्याप्त होता है। इसके बाद विद्यार्थियों ने भरतपुर डिपो के मुख्य प्रबंधक का मोबाइल नंबर लेकर उनसे बात की तथा कंडक्टर से भी उनकी बात कराई। सीएम के कहने के बाद करीब आधा घंटे बाद बस जयपुर के लिए रवाना हो सकी। लोगों का कहना है कि एक ओर तो डिजिटल इंडिया के तहत रोडवेज ऑनलाइन टिकट बुक कराने की बात कह रहा है। वहीं इसके पास पर्याप्त संसाधन नहीं है। गौरतलब है कि बयाना बस स्टैंड कार्यालय में करीब एक साल से कम्प्यूटर व प्रिंटर नहीं होने से कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बस के आधा घंटे लेट होने से बस में सवार अन्य यात्रियों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। इस बारे में कई बार शिकायत की गई है लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

रोडवेज परिचालक का मैसेज को मानने से इनकार, सीएम के हस्तक्षेप के आधे घंटे बाद की यात्रा