--Advertisement--

21 मई को बनेगी छत्तीसा के पंच-पटेलों की संघर्ष समिति

बयाना | गुर्जर आरक्षण मुद्दे को लेकर कर्नल किरोड़ीसिंह बैंसला का विरोध कर दूसरे धड़े के रूप में गत दिनों से सक्रिय...

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 03:20 AM IST
बयाना | गुर्जर आरक्षण मुद्दे को लेकर कर्नल किरोड़ीसिंह बैंसला का विरोध कर दूसरे धड़े के रूप में गत दिनों से सक्रिय हुए छत्तीसा के पंच-पटेलों की बैठक गुरुवार को मौरोली स्थित टोंटा बाबा के मंदिर पर हुई। पूर्व सरपंच रामजीलाल की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में पूर्व घोषणा के अनुसार कर्नल बैंसला के समानांतर अपने गुट की दूसरी संघर्ष समिति गठित किए जाने पर चर्चा हुई। इसमें प्रत्येक ग्राम पंचायत से प्रमुख लोगों को शामिल करने का निर्णय लिया गया, लेकिन समिति गठन की घोषणा नहीं हो पाई। जसपुरा मौरोली के सरपंच प्रतिनिधि यादराम गुर्जर ने बताया कि 21 मई को कारबारी शहीद स्मारक स्थल पर होने वाली पंचायत में ही बदरपुर के पूर्व विधायक रामवीर सिंह विधूड़ी के नेतृत्व में नई संघर्ष समिति की घोषणा की जाएगी। बैठक में 21 मई की प्रस्तावित पंचायत की तैयारियों को लेकर भी चर्चा की गई। उन्होंने बताया कि बैठक में सरपंच प्रतिनिधि दयाराम मावई, पूर्व सरपंच विजयराम, अभयसिंह, अतर सिंह, मुकुट, रजन सिंह आदि मौजूद रहे।

गुर्जर आरक्षण के मुद्दे पर गत दिनों से सक्रिय हुए छत्तीसा के पंच-पटेलों की कर्नल बैंसला से कोई व्यक्तिगत नाराजगी नहीं हैं। नाराजगी की असल वजह छत्तीसा के क्षेत्र को देवनारायण बोर्ड की योजनाओं का समुचित लाभ नहीं मिलना है। इसे छत्तीसा के पंच-पटेल अपनी बैठकों में कह भी चुके हैं कि योजनाओं के तहत क्षेत्र में स्कूल-कॉलेज बनने थे, लेकिन उन्हें दूसरी जगहों पर बनवा दिया गया। इसके अलावा कर्नल बैंसला की ओर से बनाई गई कोर कमेटी में छत्तीसा के लोगों को प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया है। इन सबके अलावा एक वजह ये भी है कि मौरोली व अड्डा गांवों के बीच काफी समय से सामाजिक स्तर पर मनमुटाव चल रहा है। इस कारण ही गत दिनों कर्नल बैंसला के नेतृत्व में अड्डा में हुई महापंचायत का छत्तीसा के पंच-पटेलों ने विरोध किया था।

दूसरे धड़े की अलग से संघर्ष समिति के गठन की नहीं हो पाई घोषणा

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..