• Hindi News
  • Rajasthan
  • Bayana
  • टूटी सड़कों की वजह से40 किलो-मीटर ज्यादा करना पड़ रहा है सफर
--Advertisement--

टूटी सड़कों की वजह से40 किलो-मीटर ज्यादा करना पड़ रहा है सफर

क्षेत्र की सड़कें क्षतिग्रस्त होने की वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नदबई से डहरा मोड, हलैना रोड,...

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 03:20 AM IST
टूटी सड़कों की वजह से40 किलो-मीटर ज्यादा करना पड़ रहा है सफर
क्षेत्र की सड़कें क्षतिग्रस्त होने की वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नदबई से डहरा मोड, हलैना रोड, खेरली रोड, जनूथर रोड, नगर रोड सभी सड़क मार्ग जर्जर हालत में पड़े हुए है। नदबई से खेड़ली जाने वाली सड़क इतनी ज्यादा क्षतिग्रस्त है। नदबई से खेडली की दूरी मात्र 20 किमी है, लेकिन टूटी सड़कों की वजह से सुरक्षित यातायात के लिए वाहन चालकों को नदबई से खेडली आने जाने के लिए 60 किमी की दूरी तय करनी पड़ती है। सड़क किनारे बसे गांवों के लोगों ने बताया कि नदबई से खेडली जाने वाली सड़क विधानसभा क्षेत्र की मुख्य सड़क है और यह सड़क दो जिलों के मुख्य कस्बों को आपस में जोड़ती है। यह सड़क मेगा हाईवे की श्रेणी में भी आती है। अब दस वर्ष पूर्व बनी यह सड़क पूर्णरूप से क्षतिग्रस्त हो चुकी है। जिसकी वजह से आए दिन दुर्घटना होती रहती हैं एवं छोटे वाहनों से लेकर बड़े वाहन सड़क में हो रहे गड्ढों में फंस जाते हैं। इसके साथ ही बड़े हादसे का डर बना रहता है। माल से भरे बड़े वाहनों को नदबई से खेडली आने जाने के लिए एवं खेडली से नदबई, कुम्हेर, भरतपुर आने-जाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग का सहारा लेना पड़ता है।

उसके बाद खेडली से राष्ट्रीय राजमार्ग होकर डहरा मोड पहुंचते हैं और डहरा मोड से नदबई के लिए आते है। इस बीच सुरक्षित यातायात के लिए वाहन चालकों को नदबई से खेडली आने-जाने के लिए करीब 60 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। इस दौरान यात्रियों को नदबई से खेडली आने जाने के लिए दो से तीन घंटे का समय लग रहा है। डहरा मोड से लेकर नदबई होते हुए खेडली वाली सड़क पर नदबई विधानसभा क्षेत्र के कई बडे़ गांव जुडे हैं, लेकिन सरकार का इस और कोई ध्यान नहीं है। नदबई विधान सभा क्षेत्र होते हुए भी यहां की सड़कों की हालत पूरे जिले में सबसे ज्यादा खराब है। महाराजा सूरजमल फाउण्डेशन के तहसील अध्यक्ष विश्वेंद्र लालपुर ने बताया कि पूर्व में गुर्जर आरक्षण के दौरान गुर्जरों ने हाईवे जाम कर दिया था। उस समय यही सड़क-जयपुर आने जाने वाले वाहनों एवं यात्रियों के लिए सहारा बनी थी । भरतपुर से नदबई - खेडली होते हुए निकलने वाली यह सड़क अलवर ,जयपुर यहां तक की दिल्ली हाइवे को भी टच करती है एवं दो जिलों के कई प्रमुख कस्बों को जोड़ती हैँ। भरतपुर आने जाने वाले यातायात के लिए यह सड़क बहुत ही सरल एवं सुलभ रास्ता है। इस रोड पर यातायात भार को देखते हुए सरकार को जल्द से जल्द यह रोड ठीक करा देनी चाहिए। लेकिन सरकार इस और कोई ध्यान नहीं दे रही है।

ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्रीय नेताओं के दौरे के दौरान सड़क का मुद्दा उठाया जाता है लेकिन आज तक किसी भी नेता ने इस और ध्यान नहीं दिया। जबकि सभी क्षेत्रीय नेताओं को सड़क की दुर्दशा के बारे में पता है। नदबई खेडली मार्ग पर राजस्थान रोडवेज की बयाना, अलवर, जयपुर-दिल्ली, आगरा आदि स्थानों पर जाने के लिए बस चलती हो रही हैं, लेकिन रोड की हो रही दुर्दशा के कारण यहां से निकलने वाले यात्रियों को समय के साथ साथ वाहनों की भी क्षति हो रही है, लेकिन फिर भी सरकार इस और ध्यान नहीं दे रही है। विश्वेंद्र सिंह ने बताया कि इस सड़क मार्ग के अलावा क्षेत्र के चारों ओर सड़कों के हालत काफी खराब है जिससे लोग परेशान है।

नदबई। क्षतिग्रस्त खेरली सडक मार्ग ।

क्या कहते है जिम्मेदार


डिम्पल सिंह फौजदार, प्रधान पंचायत समिति नदबई


राजेश गोयल, उपखंडाधिकारी नदबई

X
टूटी सड़कों की वजह से40 किलो-मीटर ज्यादा करना पड़ रहा है सफर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..