Hindi News »Rajasthan »Bayana» जल है तो कल है : इस अमृत को यूं न बहने दें

जल है तो कल है : इस अमृत को यूं न बहने दें

भरतपुर | आईटीआई कॉलेज के निकट जलदाय विभाग की लापरवाही से सोमवार को लाखों लीटर पानी व्यर्थ बह गया। आपूर्ति : 45 से 60...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:35 AM IST

  • जल है तो कल है : इस अमृत को यूं न बहने दें
    +1और स्लाइड देखें
    भरतपुर | आईटीआई कॉलेज के निकट जलदाय विभाग की लापरवाही से सोमवार को लाखों लीटर पानी व्यर्थ बह गया।

    आपूर्ति : 45 से 60 लीटर पानी ही मिल पाता है

    बयाना | पेयजल संकट की वजह से भीमनगर की महिलाओं को जलदाय विभाग की राइजिंग लाइन से पानी भरने के लिए हैंडपंप साथ लाना पड़ता है।

    जाट समाज नहीं करेगा मृत्यु भोज, लगाई पाबंदी

    भरतपुर | जिला जाट महासभा की बैठक जिलाध्यक्ष डॉ. प्रेमसिंह कुंतल की अध्यक्षता में हुई। बैठक में जाट समाज में मृत्यु भोज पर पूर्ण पाबंदी लगाने का निर्णय लिया गया। पदाधिकारियों ने सर्व सम्मत निर्णय लेकर मृत्यु भोज नहीं करने तथा मृत्यु भोज में शामिल नहीं होने का संकल्प व्यक्त किया गया।

    इस अवसर पर राजस्थान जाट महासभा प्रदेश महामंत्री राकेश फौजदार ने कहा कि मृत्यु भोज ऐसी कुरीति है, जिसमें अनावश्यक खर्चे कर समाज के कमजोर वर्ग पर दबाव बन जाता है, इसलिए इस कुरीति को पूरे देश से मिटाना होगा। यह पहल राजस्थान से प्रारंभ की जा रही है। बैठक में रामवीर सिंह वर्मा, गोपाल सिंह हथैनी, गोविंद सिंह भगोर, राकेश फौजदार, हरभान सिंह महुआ सहित बड़ी संख्या में समाज के लोग मौजूद थे।

    भरतपुर | जिला जाट महासभा की बैठक जिलाध्यक्ष डॉ. प्रेमसिंह कुंतल की अध्यक्षता में हुई। बैठक में जाट समाज में मृत्यु भोज पर पूर्ण पाबंदी लगाने का निर्णय लिया गया। पदाधिकारियों ने सर्व सम्मत निर्णय लेकर मृत्यु भोज नहीं करने तथा मृत्यु भोज में शामिल नहीं होने का संकल्प व्यक्त किया गया।

    इस अवसर पर राजस्थान जाट महासभा प्रदेश महामंत्री राकेश फौजदार ने कहा कि मृत्यु भोज ऐसी कुरीति है, जिसमें अनावश्यक खर्चे कर समाज के कमजोर वर्ग पर दबाव बन जाता है, इसलिए इस कुरीति को पूरे देश से मिटाना होगा। यह पहल राजस्थान से प्रारंभ की जा रही है। बैठक में रामवीर सिंह वर्मा, गोपाल सिंह हथैनी, गोविंद सिंह भगोर, राकेश फौजदार, हरभान सिंह महुआ सहित बड़ी संख्या में समाज के लोग मौजूद थे।

  • जल है तो कल है : इस अमृत को यूं न बहने दें
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bayana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×