Hindi News »Rajasthan »Bayana» पीपल पूर्णिमा पर सामूहिक विवाह सम्मेलनों में 70 जोड़े बने एक-दूसरे के जीवन साथी

पीपल पूर्णिमा पर सामूहिक विवाह सम्मेलनों में 70 जोड़े बने एक-दूसरे के जीवन साथी

बयाना. सामूूहिक विवाह सम्मेलन में बोलते केशकला बोर्ड अध्यक्ष मोहन मोरवाल। भास्कर संवाददाता|भरतपुर पीपल...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:35 AM IST

  • पीपल पूर्णिमा पर सामूहिक विवाह सम्मेलनों में 70 जोड़े बने एक-दूसरे के जीवन साथी
    +1और स्लाइड देखें
    बयाना. सामूूहिक विवाह सम्मेलन में बोलते केशकला बोर्ड अध्यक्ष मोहन मोरवाल।

    भास्कर संवाददाता|भरतपुर

    पीपल पूर्णिमा पर जिले में तीन स्थानों पर हुए सामूहिक विवाह सम्मेलन में 47 जोड़े एक दूसरे के जीवन साथी बने। बयाना के गांव गिरधरपुरा में सैन समाज के 18 जोड़ों, कामां में बघेल समाज के 17 जोड़ों, भुसावर में चौबदार समाज के 12 जोड़ों के विवाह हुए। वहीं डीग में जाटव विकास समिति द्वारा विवाह सम्मेलन 23 जोडे दांपत्य सूत्र में बंधे।

    सैन समाज के सामूहिक विवाह सम्मेलन में 18 जोड़े बने एक-दूजे के

    बयाना।
    सैन समाज कर्मावती जन्मधाम विकास संस्थान गढमौरा के तत्वावधान में सोमवार को गांव गिरधरपुरा में सैन समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन हुआ। सम्मेलन में समाज के 18 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे। सम्मेलन में भरतपुर, करौली, दौसा, धौलपुर व सवाई माधोपुर आदि जिलों के लोगों ने भाग लिया। सुबह विनायक स्थापना के साथ शुरू हुए समारोह में शाम को दूल्हों की निकासी निकाली गई। सामूहिक विवाह समारोह में आयोजन समिति की ओर से भामाशाहों के सहयोग से सोने-चांदी के आभूषण व गृहस्थी का सामान दिया गया।सम्मेलन के दौरान दिन में हुई सामाजिक संगोष्ठी के मुख्य अतिथि राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त केशकला बोर्ड के अध्यक्ष मोहन मोरवाल रहे। मोरवाल ने कहा कि बढ़ती महंगाई व सामाजिक असुरक्षा के दौर में सामूहिक विवाह सम्मेलनों की महती जरूरत है।इस मौके पर ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रभातीलाल मालोनिया, हरि चरन सैन, सुरेश चंद, मोहनसिंह सैन, राकेश सैन, श्रीचंद सैन आदि मौजूद रहे।

    बघेल समाज के 17 जोड़े विवाह बंधन में बंधे

    कामां। बघेल समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन कस्बे की बघेल धर्मशाला में हुआ। जिसमें 17 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे। कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए पशुधन विकास बोर्ड के अध्यक्ष जगमोहन बघेल ने 17 नव विवाहित जोड़ों को आशीर्वाद दिया। बघेल समाज के अध्यक्ष जयसिंह नौनेरा ने बताया कि बघेल समाज के सम्मेलन का शुभारंभ अहिल्याबाई होल्कर की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ हुआ। इसके बाद कामां कस्बे के मुख्य मार्गों से होकर सभी 17 दुल्हनें की निकासी निकाली गई। कार्यक्रम में पशुधन विकास बोर्ड के अध्यक्ष जगमोहन बघेल, पूर्व प्रधान रविंद्र जैन, सर्व समाज विकास समिति के अध्यक्ष बृजेंद्र सिंह लोधा, पूर्व मंत्री मदन मोहन सिंघल, ईश्वरी प्रसाद प्रजापत, पूरन,लक्ष्मण, देवी सिंह, रमन, राजाराम डीसी आदि मौजूद थे ।।

    यह बंधे परिणय सूत्र में

    सविता-लक्ष्मण सिंह, मूर्ति-विकेश कुमार, अनौज-विजय कुमार, जमुना-मलूका, मोहना - वीरेंद्र, वीरवती-रामअवतार, लाल बत्ती - रामवीर, सुधा - रामहेत, कोमल - करण सिंह, हेमवती - इंद्र , अवना - सहदेव, काजल - नकुल, पिंकी - राजेंद्र, कुसुम - प्रकाश, ज्योति -सतवीर, देवकी -राजू ,नीतू - विष्णु परिणय सूत्र में बंधे।

    कामां. सामूहिक विवाह सम्मेलन में वर वधु को आशीर्वाद देते हुए अतिथि।

    डीग. सामूहिक विवाहों समारोह में बौद्ध विवाह पद्धति से सामूहिक विवाह कराते बौद्ध धर्म गुरू।

    सामूहिक विवाह दहेज व फिजूलखर्ची के उन्मूलन की दिशा में सराहनीय कदम : प्रेम सिंह

    डीग। सामूहिक विवाहों का आयोजन फिजूलखर्ची व दहेज जैसी कुप्रथाओं के उन्मूलन की दिशा में एक सार्थक कदम है। इससे समाज में एकजुटता आती है व गरीब परिवारों के लिए अपनी बेटियों की शादी बोझ नहीं रहती। जाटव विकास समिति डीग द्वारा इस दिशा में किए जा रहे प्रयास सराहनीय हैं। समाज के अधिक से अधिक लोगों को अपने बेटे-बेटियों की शादी ऐसे आयोजनों के माध्यम से किया जाना चाहिए। यह बात सोमवार को बौद्ध पूर्णिमा के अवसर पर जाटव विकास समिति डीग द्वारा आयोजित छठवें आदर्श सामूहिक विवाह कार्यक्रम में मुख्य अतिथि प्रधानाचार्य प्रेमसिंह ने कही। इस मौके पर 23 जोड़ों के विवाह बौद्ध विवाह पद्धति से सम्पन्न कराए गए।

    चौबदार समाज के 12 जोड़ों का हुआ विवाह

    भुसावर। गांव रणधीरगढ़ के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में बारहवां क्षत्रिय चौबदार समाज सामूहिक विवाह सम्मेलन हुआ। जिसमें समाज के 12 जोड़ों का विधि विधान से विवाह कराया गया। सम्मेलन के अध्यक्ष रामखिलाड़ी ने बताया कि गांव रणधीरगढ़ के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में सम्मेलन में 12 जोड़े जीवनसाथी बने। विवाह सम्मेलन में सर्वप्रथम दूल्हों की निकासी कार्यक्रम हुआ। मुख्य कलश की बोली 45101 रुपए में लगाई गई। जो दौसा जिले के साथा गांव निवासी रतिराम चौबदार ने 45101 रुपए में ली। गांव के मुख्य मार्गों पर होकर निकली बारात का ग्रामीणों ने पुष्पवर्षा के साथ स्वागत किया। वहीं परम्परानुसार विवाह सम्मेलन में आए सभी दूल्हों ने तोरण की रस्म अदा की। गांव रणधीरगढ़ में हुए 12 वें विवाह सम्मेलन में लोगों द्वारा जम कर कन्यादान किया गया।

    विवाह सम्मेलन कमेटी ने दी भेंट :विवाह सम्मेलन कमेटी द्वारा प्रत्येक जोड़े को कन्यादान में सोने-चांदी के जेवर, 21 बर्तन, अटैची, पलंग, पंखा, ड्रेसिंग टेबल, 2-2 कुर्सी, रसोई का सामान, गैस चूल्हा सहित विभिन्न सामान दिए गए।

  • पीपल पूर्णिमा पर सामूहिक विवाह सम्मेलनों में 70 जोड़े बने एक-दूसरे के जीवन साथी
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bayana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: पीपल पूर्णिमा पर सामूहिक विवाह सम्मेलनों में 70 जोड़े बने एक-दूसरे के जीवन साथी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bayana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×