Hindi News »Rajasthan »Beawar» भू-प्रबंध अधिकारी और तहसील प्रशासन मिलकर एक बार फिर करेंगे सीमांकन

भू-प्रबंध अधिकारी और तहसील प्रशासन मिलकर एक बार फिर करेंगे सीमांकन

ब्यावर | शहर में नृसिंहपुरा स्थित नारायण आश्रम की ओर से की जा रही चारदीवारी मामले में क्षेत्रवासियों के विरोध करने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:50 AM IST

ब्यावर | शहर में नृसिंहपुरा स्थित नारायण आश्रम की ओर से की जा रही चारदीवारी मामले में क्षेत्रवासियों के विरोध करने और परिषद के आपत्ति जताने पर अब तक संबंधित प्रबंधक के समझाइश बाद भी नहीं मानने पर आखिरकार प्रशासन ने भू-प्रबंध अधिकारी और तहसील प्रशासन की संयुक्त टीम से एक बार फिर रास्ते का सीमांकन कराने का निर्णय लिया है।

ऐसे में सोमवार को कार्यालय खुलने के साथ ही यह कार्यवाही शुरू होने की संभावना है। तब तक विवादित सड़क पर संबंधित व्यक्ति को निर्माण नहीं कराने के लिए पाबंद किया गया।मालूम हो कि नृसिंहपुरा स्थित नारायण आश्रम मामले में सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने तहसील प्रशासन को मौके पर पहले सीमांकन करने के और बाद में पत्थरगढ़ी भी करने के आदेश दिए थे। इसकी पालना में तहसील प्रशासन ने 10 मार्च को मौके पर सीमांकन और पत्थरगढ़ी की थी।

नगर परिषद की ओर से स्वीकृत सड़क 30 फीट की है ऐसे में बीच सड़क पर कोई निर्माण कैसे कर सकता है। इधर परिषद ने माना कि नृसिंहपुरा में स्थित खसरा नंबर 215, 216 और 218 परिषद द्वारा स्वीकृत लेआउट में दर्शायी गई सड़क जो कई वर्षों से विद्यमान है।

फिर होगा सीमांकन

क्षेत्रवासियों के विरोध और रास्ते पर हो रहे निर्माण को गंभीरता से लेते हुए उपखंड अधिकारी पीयूष समारिया ने आखिरकार अब भू-प्रबंधन अधिकारी अजमेर और तहसील प्रशासन की संयुक्त टीम से मौके पर सड़क का एक बार फिर से राजस्व नक्शे व अन्य दस्तावेजों के मुताबिक सीमांकन कराने का निर्णय लिया। इसके लिए उन्होंने 21 मार्च को सेटलमेंट विभाग और तहसीलदार को आदेश जारी किए। ऐसे विवादित मामलों में सेटलमेंट विभाग द्वारा ही सर्वेक्षण, पुन: सर्वेक्षण एवं सम्बन्धित भू-अभिलेख का कार्य समय-समय पर संपन्न कराया जाता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Beawar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×