Home | Rajasthan | Beawar | भीषण गर्मी में ढाई किमी चलने के बाद मिल रहा है दो घड़े पानी

भीषण गर्मी में ढाई किमी चलने के बाद मिल रहा है दो घड़े पानी

प्रदेश भर में भीषण गर्मी ने आमजन का जीना मुहाल किया हुआ है। वहीं, दूसरी ओर जलदाय विभाग की लापरवाही के चलते शहरी...

Bhaskar News Network| Last Modified - Jun 03, 2018, 02:00 AM IST

भीषण गर्मी में ढाई किमी चलने के बाद मिल रहा है दो घड़े पानी
भीषण गर्मी में ढाई किमी चलने के बाद मिल रहा है दो घड़े पानी
प्रदेश भर में भीषण गर्मी ने आमजन का जीना मुहाल किया हुआ है। वहीं, दूसरी ओर जलदाय विभाग की लापरवाही के चलते शहरी क्षेत्र के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को भारी पेयजल किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। शहर के निकटवर्ती ग्राम गणेशपुरा में पिछले कुछ दिनों से कमोबेश ऐसे कुछ हालात बने हुए हैं। ग्रामीणों के मुताबिक गणेशपुरा सहित आसपास के कुछ ग्रामीण इलाकों में भीषण गर्मी के चलते पीने की पानी की किल्लत बनी हुई है। ग्रामीणों को इस चिलचिलाती धूप में पीने के पानी की व्यवस्था करने के लिए गांव से लगभग ढाई किलोमीटर दूर स्थित एक सार्वजनिक नल पर पानी भरने जाना पड़ रहा है। भीषण गर्मी में हो रही पानी की किल्लत के चलते अन्य स्थान पर पानी लेने जाने के चलते सबसे ज्यादा परेशानी का सामना महिलाओं को करना पड़ रहा है। ग्रामीण महिलाएं अपने सिर पर घड़े व मटकियां लेकर लगभग ढाई किलोमीटर तक चलना पड़ रहा है। प्रशासन और जलदाय विभाग की ओर से गत कई दिनों से ग्रामीणों की परेशानी को दूर करने के लिए कोई उचित कदम नहीं उठाए जाने के चलते ग्रामीणों में जलदाय विभाग व प्रशासन के प्रति खासा रोष व्याप्त है।

जल स्त्रोत व कुएं सूखे...

गत दो माह से प्रदेश भर में पड़ रही भीषण गर्मी के चलते प्राकृतिक जल स्त्रोत पूरी तरह से सूख चुके हैं। गणेशपुरा व अन्य ग्रामीण क्षेत्रों के आसपास स्थित जल स्त्रोत व कुएं पूरी तरह से सूख चुके हैं। इसी के कारण ग्रामीणों को पीने के पानी की व्यवस्था करने में ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पीने के पानी के लिए कई ग्रामीण मोल पानी का टैंकर मंगा रहे हैं जिसके कारण ग्रामीणों पर आर्थिक भार पड़ रहा है।

हर साल होती है पेयजल किल्लत: क्षेत्र में हर वर्ष भीषण गर्मियों में पूरे क्षेत्र में पानी की कमी हो जाती है। लोगों के साथ ही मवेशियों को भी पानी की कमी का सामना करना पड़ता है। हर साल पेयजल की किल्लत होने के कारण भी अब तक प्रशासन ने परेशानी का कोई स्थाई समाधान नहीं किया है।

गणेशपुरा मे बर्तनों को सर पर रखकर पानी भरने जाती ग्रामीण महिलाएं।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now