--Advertisement--

5 सौ से अधिक गर्भवती व प्रसूताओं को मिला लाभ

ब्यावर | मातृ शिशु की मृत्यु दर में कमी लाने के उद्देश्य से शुरू की गई प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत शहर की...

Danik Bhaskar | May 28, 2018, 03:25 AM IST
ब्यावर | मातृ शिशु की मृत्यु दर में कमी लाने के उद्देश्य से शुरू की गई प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत शहर की पांच सौ से अधिक गर्भवत्ती व प्रसूताओं को लाभ प्राप्त हो चुका है। जबकि योजना के शुरू हुए महज 6 माह का समय ही हुआ है।

विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शहर के सीडीपीओ कार्यालय को इस योजना के तहत इस वर्ष का 936 महिलाओं को लाभ देने का लक्ष्य प्राप्त हुआ है। जहां कार्यालय को इस योजना में अब तक 841 आवेदन प्राप्त हो चुके है। इसमें अब तक 582 गर्भवत्ती महिलाआें को 8 लाख 52 हजार रुपए का लाभ भी प्राप्त हो चुका है। ऐसे में अब भी 259 आवेदन का निस्तारण हो कर लाभ मिलना शेष है, लेकिन कार्यालय अपने लक्ष्य से महज 95 महिलाओं को ही लाभ देने से दूर है। ऐसे में अब कार्यालय के अधिकारी पहले आओ पहले पाओ के तर्ज पर गर्भवत्ती महिलाओं को योजना का लाभ देने की योजना बना रहा है। इसका मुख्य कारण तय लक्ष्य की संख्या कम होने के साथ समय अधिक होना है।

योजना के तहत मिलने वाले लाभ पर नजर

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत प्रथम किस्त में 1 हजार रुपए गर्भावस्था का शीघ्र पंजीकरण जहां गर्भावस्था का पंजीकरण एलएमपी की तारीख के 150 दिनों के अंदर होना आवश्यक है। वहीं द्वितीय किस्त के तहत मिलने वाले 2 हजार रुपए कम से कम एक प्रसव पूर्व जांच। इसका दावा गर्भावस्था के 6 माह पूर्ण होने पर किया जाता है। वहीं बच्चे के जन्म का पंजीकरण व रोगों से बच्चे के बचाव के लिए बच्चे को बीसीजी, डीपीटी, ओपीवी व हेपेटाइटिस बी या उसके समकक्ष टीका लगाने पर तृतीय किश्त के तहत 2 हजार रुपए का भुगतान किया जाता है।

आवेदन करने की प्रक्रिया : योजना के तहत पात्र लाभार्थियों को याेजना के मापदण्डों व शर्तो को पूरा करने पर मातृत्व लाभ की किश्त का भुगतान लाभार्थियों के खाते में किया जाता है। योजना के तहत मातृत्व लाभ के लिए किश्त की राशि प्राप्ति के लिए आवदेन आंगनबाड़ी केन्द्र पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता या सहायिका को जमा करवाना होता है। मातृत्व लाभ प्राप्त करने की इच्छुक पात्र महिलाओं को योजना के तहत मातृत्व लाभ के लिए आवेदन करना होगा। आवेदन पत्र आंगनबाड़ी केन्द्र पर निशुल्क उपलब्ध है। आवेदन प्रस्तुत करने पर आंगनबाडी कार्यकर्ता, सहायिका व मिनी आंगनबाडी कार्यकर्ता द्वारा आवेदक को रसीद देगी। जिसके बाद पात्र महिलओं को तीन किश्तों के रूप में 5 हजार रुपए की सहायता प्राप्त होगी ।