--Advertisement--

एकेएच की छत पर इसी साल लगेगा रूफ टॉप सोलर सिस्टम

बार बार होने वाली विद्युत कटौती और बढ़ रहे विद्युत भार को कम करने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार की बजट घोषणा के अनुरूप...

Dainik Bhaskar

May 28, 2018, 03:30 AM IST
बार बार होने वाली विद्युत कटौती और बढ़ रहे विद्युत भार को कम करने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार की बजट घोषणा के अनुरूप प्रदेश के 26 जिला अस्पतालों के साथ ही ब्यावर के राजकीय अमृतकौर अस्पताल में भी रेस्को मॉडल रूफ टॉप सोलर सिस्टम लगाए जाने की कवायद शुरू हो गई है। इससे ना सिर्फ विद्युत संकट से मुक्ति मिलेगी बल्कि प्रदूषण भी कम होगा। अस्पताल में लगने वाले प्लांट पर करीब 40 से 50 लाख रुपए का खर्च होगा।

प्रदेश के 27 जिला अस्पतालों में सोलर एनर्जी कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के माध्यम से सोलर प्लांट लगाए जाने के निर्देश जारी किए गए हैं। गौरतलब है कि जिला अस्पतालों में प्रतिमाह करीब 35 से 40 हजार यूनिट प्रतिमाह खपत होती है। प्रदेश सरकार की विशेष योजनाआें में शामिल सौर ऊर्जा से छोटे स्तर पर बिजली बनाने की कार्ययोजना के तहत मुख्यमंत्री ने बजट घोषणा में प्रदेश के 27 जिला अस्पताालों में रूफ टॉप सोलर सिस्टम लगाने की घोषणा की। बजट घोषणा के तहत निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं द्वारा सभी जिला अस्पतालों के प्रभारियों को पॉवर परचेज एग्रीमेंट करने के लिए अधिकृत किया गया है। सब कुछ याेजना के अनुसार चला तो इस साल के अंत तक या अगले साल के प्रारंभ तक एकेएच परिसर सोलर लाइट से रोशन होगा। सरकारी अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाओं के साथ ही मूलभूत सुविधाओं का विस्तार करने के मकसद से प्रदेश सरकार कई प्रयास कर रही है। अाधुनिक सुविधाओं से लैस होता जा रहा राजकीय अमृतकौर अस्पताल अब सौर ऊर्जा से भी रोशन होेगा।

यहां यहां लगने हैं सोलर सिस्टम

निदेशालय द्वारा जारी आदेशों के अनुसार ब्यावर के अमृतकौर अस्पताल समेत राजकीय अस्पताल अलवर, बांसवाडा, बारां, बाड़मेर, भरतपुर, बीकानेर, बूंदी, चित्तौडगढ़, दौसा, धौलपुर, गंगानगर, हनुमानगढ़, श्रीहरिबक्श कांवटिया अस्पताल जयपुर, राजकीय अस्पताल जैसलमेर, जालौर, झुंझुनूं, करौली, कोटा, नागौर, प्रतापगढ़, राजसमंद, सवाईमाधोपुर, सीकर, सिरौही, टोंक और उदयपुर में रूफ टॉप सोलर सिस्टम लगाए जाएंगे।

एजेंसी के मार्फत लगेंगे

निदेशालय द्वारा 10 मई को जारी आदेशों के अनुसार एकेएच में रेस्को मॉडल के तहत लगने वाले रूफ टॉप सोलर सिस्टम का समस्त खर्च सिस्टम लगाने वाली एजेंसी द्वारा उठाया जाएगा। एजेंसी द्वारा पॉवर परचेज एग्रीमेंट किया जाएगा। इसके साथ ही अगर भविष्य में कभी भी अस्पताल के भवन का विस्तार होता है या दूसरे नया भवन बनाया जाता है तो संबंधित एजेंसी द्वारा खुद के खर्चे पर सिस्टम को शिफ्ट किया जाएगा।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..