• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Beawar News
  • दो जीएसएस निर्माण के लिए 3 करोड़ की स्वीकृति, भूमि आवंटन का इंतजार
--Advertisement--

दो जीएसएस निर्माण के लिए 3 करोड़ की स्वीकृति, भूमि आवंटन का इंतजार

विद्य‌ुत वितरण निगम ब्यावर की ओर से निकटवर्ती औद्योगिक क्षेत्रों में बढ़ते विद्य‌ुत दबाव को कम करने के लिए दो नए...

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2018, 03:30 AM IST
दो जीएसएस निर्माण के लिए 3 करोड़ की स्वीकृति, भूमि आवंटन का इंतजार
विद्य‌ुत वितरण निगम ब्यावर की ओर से निकटवर्ती औद्योगिक क्षेत्रों में बढ़ते विद्य‌ुत दबाव को कम करने के लिए दो नए जीएसएस स्थापित किए जाने का प्रस्ताव भिजवाया गया था जिस पर डिस्कॉम की ओर से कई माह पूर्व वित्तीय स्वीकृति प्राप्त हो गई थी। मुख्यालय की ओर से जीएसएस निर्माण को लेकर वित्तीय स्वीकृति प्राप्त होने के बाद अब निगम की ओर से मसूदा उपखंड प्रशासन को कानाखेड़ा व रानीसागर में 33/11 केवी क्षमता के जीएसएस निर्माण को लेकर भूमि आवंटन के लिए पत्र लिखा है। निगम को उपखंड प्रशासन की ओर से भूमि आवंटित होते ही दोनों ही औद्य‌ोगिक क्षेत्रों में जीएसएस विकसित करने की कवायद शुरू कर जाएगी। औद्य‌ोगिक क्षेत्रों में उच्च क्षमता के जीएसएस निर्माण के बाद पिछले लंबे समय से पेश आ रही विद्य‌ुत संबंधी परेशानियों से उद्यमियों को निजात मिलेगी। ब्यावर डिवीजन की ओर से हाल ही में मुख्यालय को चार नए जीएसएस के निर्माण को लेकर प्रस्ताव भिजवाया गया है। निगम की ओर से ब्यावर डिवीजन के सारोठ चौराहा, कानाखेड़ा, रानीसागर व पीपलाज में नए जीएसएस को लेकर प्रस्ताव भिजवाया गया था। अभी तक कानाखेड़ा व रानीसागर में जीएसएस निर्माण को लेकर वित्तीय स्वीकृति प्राप्त हुई है।

करोड़ों की लागत से विकसित होंगे जीएसएस : निकटवर्ती ग्राम रानीसागर में 33/11 केवीए क्षमता वाले जीएसएस के निर्माण में लगभग 1.55 करोड़ व कानाखेड़ा में 33/11 केवीए क्षमता के जीएसएस के निर्माण के लिए 1.36 करोड़ की लागत आने का अनुमान है। इसके अलावा पीपलाज जीएसएस पर लाइनों के कार्य के लिए ब्यावर विद्य‌ुत वितरण निगम की ओर से लगभग 62 लाख रुपए का व्यय आने का अनुमान लगाया गया है।

नए कनेक्शन में आ रही थी परेशानी

ब्यावर विद्य‌ुत वितरण निगम के अधिकारियों के मुताबिक ब्यावर व इसके आसपास बढ़ते औद्य‌ोगिक इकाइयों के चलते विद्य‌ुत भार में लगातार बढ़ोतरी हो रही थी। इसके साथ ही गत कई दिनों से औद्य‌ोगिक क्षेत्र में नए विद्य‌ुत कनेक्शन जारी नहीं होने के साथ ही बार-बार विद्य‌ुत कटौती व ट्रिपिंग की समस्या के चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। औद्य‌ोगिक क्षेत्रों में जीएसएस निर्माण के बाद उद्य‌मियों की विद्य‌ुत संबंधी परेशानियां दूर होगी।

विद्य‌ुत समस्याओं का करना पड़ रहा था सामना : शहर के निकट स्थित औद्य‌ोगिक क्षेत्रों में लगातार बढ़ रहे विद्य‌ुत दबाव के चलते वहां स्थिति औद्य‌ोगिक इकाइयों को विद्य‌ुत संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। कम क्षमता के कारण औद्य‌ोगिक क्षेत्रों में पावर सप्लाई बाधित होने, ट्रिपिंग व वोल्टेज सहित ट्रांसफार्मर जलने की परेशानी से उद्यमियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। वहीं अब दो नए जीएसएस विकसित होने पर उद्यमियों को परेशानियों से निजात मिलेगी।

X
दो जीएसएस निर्माण के लिए 3 करोड़ की स्वीकृति, भूमि आवंटन का इंतजार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..