Hindi News »Rajasthan »Beawar» जैन पंचायती नसियां में कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास

जैन पंचायती नसियां में कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास

संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज के 50 वें संयमोत्सव अवसर पर उनकी प्रेरणा से श्री दिगंबर जैन पंचायती नसियां...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 14, 2018, 03:35 AM IST

  • जैन पंचायती नसियां में कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास
    +3और स्लाइड देखें
    संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज के 50 वें संयमोत्सव अवसर पर उनकी प्रेरणा से श्री दिगंबर जैन पंचायती नसियां में रविवार को कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास किया गया।

    अध्यक्ष सुशील कुमार बड़जात्या ने बताया कि इस उपलक्ष्य में संपूर्ण भारत में कीर्ति स्तंभ बनाए जा रहे हैं। इसी क्रम में ब्यावर में 31 फीट ऊंचा सफेद मार्बल का कीर्ति स्तंभ बनाया जाएगा। यह शिलान्यास पंडित घनश्याम दास शास्त्री और अभिषेक जैन शास्त्री के सान्निध्य में विधि-विधान से संपन्न हुआ। इसमें मुख्य शिलान्यासकर्ता रूपचंद, राजेश, दिनेश, नरेश जैन, देवेंद्र कुमार, शरद, रितेश, सिद्धार्थ फागीवाल, अनिल कुमार, अंशुल रानीवाल, कमल कुमार, सुमन कुमार धगड़ा, चिरंजीलाल, राजकुमार, यशोधर पहाडिय़ा, राकेश कुमार, संगीता बड़जात्या, मुकेश कुमार जैन थे। इस अवसर पर सुशील बड़जात्या, धर्मचंद रावंका, गणेश जैन, प्रहलाद चंद सोगानी, विकल कासलीवाल, संजय रांवका, दिनेश अजमेरा, संजय गंगवाल, पदम चंद पाटनी, निर्मल पाटनी, समस्त कार्यकारिणी सदस्य समेत महिला मंडल सदस्य भी उपस्थित थी।

    विद्यासागरजी।

    ब्यावर. श्री दिगंबर जैन पंचायती नसियां में रविवार को कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास करते समाज के लोग।

    ईश्वर नाराज है तो दुनिया की कोई ताकत आपकी मदद नहीं कर सकती

    अजमेर | जीवन में शांति पाने के लिए क्रोध पर काबू पाना सीख लो। जिसने जीवन में समझौता करना सीख लिया व संत हो गया। वर्तमान में जीने के लिए सजग और सावधान रहने की आवश्यकता है। जिसके भाग्य में जो लिखा है उसे वही मिलेगा और परेशान होने से कुछ अतिरिक्त प्राप्त नहीं होने वाला।

    ज्ञानोदय तीर्थ क्षेत्र नारेली में रविवार को सुधासागर महाराज ने धर्म सभा को में कहा कि सर्वोच्च सत्ता ईश्वर के ही हाथ में है। यदि वह आपसे नाराज है तो दुनिया की कोई ताकत आपकी मदद नहीं कर सकती है। ईश्वर से की गई प्रार्थना का तभी उत्तर मिलता है जब हम अपनी शक्तियों को काम में लाए। आलस्य, प्रमाद, अकर्मण्यता व अज्ञान यह सब गुण यदि मिल जाए तो मनुष्य की दशा ऐसी हो जाती है जैसे कि किसी कागज के थैले के अंदर तेजाब भर दिया जाए। ऐसा थैला अधिक समय तक नहीं ठहर सकेगा।

    ईश्वर उसकी मदद करता है जो स्वयं अपनी मदद करता है। प्रभु में संसार के समस्त बंधनों को तोड़ दिया जिनसे उनकी आत्मा बंधक सुख-दुख, जन्म मरण की परम्परा को निभा नहीं थी लेकिन प्रभु परमात्मा हमारे प्रेम के धागे नहीं तोड़ सकते।

    शिलान्यास कार्यक्रम में उपस्थित महिला मंडल की सदस्य।

  • जैन पंचायती नसियां में कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास
    +3और स्लाइड देखें
  • जैन पंचायती नसियां में कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास
    +3और स्लाइड देखें
  • जैन पंचायती नसियां में कीर्ति स्तंभ का शिलान्यास
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Beawar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×