ब्यावर

--Advertisement--

सामाजिक और निजी संस्थाओं की मदद से सुधरेगी क्वालिटी

ज्ञात रहे कि राजकीय अमृतकौर अस्पताल में नर्सिंग कर्मियों और डॉक्टरों की कमी चल रही है। इस कारण चिकित्सा सुविधाएं...

Dainik Bhaskar

Jun 01, 2018, 03:35 AM IST
सामाजिक और निजी संस्थाओं की मदद से सुधरेगी क्वालिटी
ज्ञात रहे कि राजकीय अमृतकौर अस्पताल में नर्सिंग कर्मियों और डॉक्टरों की कमी चल रही है। इस कारण चिकित्सा सुविधाएं पटरी से उतरी हुई है। ब्यावर से कुछ ही दूरी पर किशनगढ़ का राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल। यहां भी नर्सिंग कर्मियों के साथ ही सफाई और ट्रॉली बॉय की कमी से व्यवस्थाएं चरमरा रही थी। शहर की मार्बल एसोसिएशन ने खुद के नैतिक दायित्व काे निभाते हुए पहल की और खुद के स्तर पर अस्पताल में नर्सिंगकर्मियों के साथ ही ट्रॉली बॉय भी लगाए। इन कर्मचारियों का मासिक वेतन मार्बल एसोसिएशन खुद ही वहन करती है। इससे ना सिर्फ अस्पताल में नर्सिंग कर्मियों की कमी दूर हुई बल्कि इन नर्सिंग कर्मियों को भी राजकीय भर्ती में फायदा मिलता है। नियमों के अनुसार राजकीय अस्पताल में सेवाएं देने पर प्रतिवर्ष 5 अंक के हिसाब से अधिकतम तीन वर्ष का बोनस अंक मिलने से नर्सिंगकर्मियों को भी इसका फायदा मिलता है। प्रदेश के हनुमानगढ़ में भी जिला अस्पताल में सफाई व्यवस्था में सुधार के लिए संस्थाओं ने अपनी भागीदारी निभाई। हनुमानगढ़ के जिला अस्पताल के एक वार्ड को वहां की संस्था श्रीपीरखाना सेवा समिति न गोद ले लिया। वार्ड को गाेद लेने के बाद इस वार्ड में ना सिर्फ नर्सिंगकर्मी बल्कि सफाई और ट्रॉली बॉय भी संस्था ने अपने स्तर पर उपलब्ध करवाए। इन कर्मचारियों पर नियंत्रण तो अस्पताल प्रबंधन का ही है लेकिन इनका भुगतान संस्था खुद करती है।

X
सामाजिक और निजी संस्थाओं की मदद से सुधरेगी क्वालिटी
Click to listen..