Home | Rajasthan | Beawar | अब खेती के साथ मिलेगा व्यापार करने का अवसर

अब खेती के साथ मिलेगा व्यापार करने का अवसर

काश्तकारों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए कृषि विपणन बोर्ड काश्तकारों की स्थिति सुधारने का प्रयास करने जा...

Bhaskar News Network| Last Modified - May 14, 2018, 03:40 AM IST

अब खेती के साथ मिलेगा व्यापार करने का अवसर
अब खेती के साथ मिलेगा व्यापार करने का अवसर
काश्तकारों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए कृषि विपणन बोर्ड काश्तकारों की स्थिति सुधारने का प्रयास करने जा रहा है। जिसके तहत किसानों को अब खेती के अलावा स्वयं का व्यापार करने के लिए फसलोत्तर प्रबंधन एवं मूल्य संबर्धन मशीन व उपकरण अनुदान एवं प्रदर्शन योजना शुरू की है। बोर्ड के सचिव महेश शर्मा ने बताया कि योजना के तहत काश्तकारों को अब कृषि उपकरण की खरीद पर 50 प्रतिशत का अनुदान प्राप्त हाेगा। योजना का क्रियान्वयन कृषि उपज मंडी समितियों के माध्यम से कृषि विपणन बोर्ड की ओर से किया जाएगा। जहां बोर्ड में पंजीकृत मशीन, उपकरण निर्माता या अधिकृत विक्रेताओं से मोल भाव तय कर फसलोत्तर प्रबंधन एवं मूल्य संवर्धन मशीन व उपकरण क्रय करने पर अनुदान दिया जाएगा।

काश्तकारों को उपकरण की खरीद पर मिलेगा 50 प्रतिशत का अनुदान, आर्थिक रूप से मजबूत करने पर जोर

लॉटरी निकाल किया जाएगा चयन

योजना के तहत यदि मशीन व उपकरणों की मांग अधिक या मंडी को आवंटित मशीन व उपकरणों की संख्या कम रहती है तो ऐसी स्थिति में गठित कमेटी की ओर से लॉटरी निकाल पात्र कृषकों को लाभ दिया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि योजना का मुख्य उद्देश्य कृषकाें को जिन्सों के फसलोत्तर प्रबन्धन व मूल्य संवर्धन के तरीकों की जानकारी देने के साथ ही जिन्सों को प्रसंस्कृत कर मंडी में बेचने को प्रोत्साहित करना, कृषि उत्पादों का लाभकारी मूल्य सुनिश्चित करना, फसलोत्तर हानियों को कम करना व राेजगार को बढ़ावा देना है। अधिकारियों ने बताया कि इस योजना से पहले काश्तकार अच्छे मुनाफे की चाह में मानसून पर निर्भर रहता था। यदि मानसून महरबान भी रहा तो मंडी में लाई गई फसल का सही दाम नहीं मिलने के कारण लाभ प्राप्त नहीं कर पाता था। ऐसे में इस योजना के शुरू होने के बाद से अब काश्तकार कृषि कार्य करने के साथ व्यपार भी शुरू कर लाभ प्राप्त कर सकेगा।

इस तरह मिलेगा अनुदान | योजना के तहत इच्छुक व चयनित कृषक लाभार्थी को पंजीकृत निर्माता या अधिकृत विक्रेता से मशीन व उपकरण खरीदने से पहले मंडी सचिव को जमा बंदी की नकल, बैंक पासबुक की फोटो कॉपी के साथ स्वयं की पासपोर्ट साइज फोटो,आधार कार्ड सहित प्रार्थना पत्र देना होगा। इसके बाद मंडी स्तर पर गठित कमेटी की ओर से पात्र कृषकों का चयन किया जाए। कमेटी की ओर से आवंटित बजट की सीमा में कमेटी के निर्णयनुसार पात्र कृषकों को मशीन व उपकरण खरीदने की अनुमति दी जाएगी। लाभार्थी काश्तकार किसी भी पंजीकृत निर्माता या अधिकृत विक्रेता से मशीन व उपकरण की पूरी कीमत चुका कर खरीदने के लिए स्वंतत्र होगा। वहीं बोर्ड की ओर से मशीन या उपकरण की कीमत निर्धारित नहीं होने से काश्तकार किसी भी कीमत मशीन की खरीद कर सकेगा। काश्तकार की ओर से खरीदी गई मशीन या उपकरण के 15 दिन में संबधित ग्राम पंचायत के कृषि पर्यवेक्षक की ओर से भौतिक सत्यापन कर रिपोर्ट मंडी कमेटी को देगा। पर्यवेक्षक की रिपोर्ट के बाद मंडी प्रशासन काश्तकार के बैंक खाते में खरीद का 50 प्रतिशत अनुदान राशि जमा कर भुगतान करेगी। योजना के तहत प्रदेश मंे कुल 15 सौ मशीन व उपकरण काश्तकारों को प्रदान किए जाने है। जहां काश्तकारों को 5 करोड 14 लाख 50 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |