ब्लड सेंपल कलेक्शन वाइल, किट, सैंकड़ाें सीरिंज सब कबाड़ में पड़े हैं

Beawar News - केंद्र और राज्य सरकार एचआईवी एड‌्स पर नियंत्रण और परिवार नियोजन को लेकर कई योजनाएं चला रही है लेकिन जमीनी स्तर...

Feb 22, 2020, 07:21 AM IST
Beawer News - rajasthan news blood sample collection vile kit hundreds syringes are all in junk

केंद्र और राज्य सरकार एचआईवी एड‌्स पर नियंत्रण और परिवार नियोजन को लेकर कई योजनाएं चला रही है लेकिन जमीनी स्तर पर लापरवाही के चलते हजारों के उपकरण धूल फांक रहे हैं। ना सिर्फ हजारों के उपकरण बल्कि एड्स को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए छपवाए गए हजारों पेंपलेट, सैंकड़ाें ब्लड सेंपल कलेक्शन वाइल, किट समेत कई समान महीनों से कबाड़ में पड़े हैं। कबाड़ में रखी सैंकड़ाें सीरिंज गत वर्ष ही अवधि पार हो गई। गर्भ निरोधक साधन समेत कई अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज भी लापरवाही से कबाड़ में रखे हुए हैं।

अमृतकाैर अस्पताल के कर्मचारियों की लापरवाही का आलम यह है कि जांच के बाद एचआईवी टेस्ट किए जाने के काम आने वाले ब्लड टेस्ट किट भी नियमानुसार नष्ट करने की बजाय कबाड़ के साथ बाल्टी में पड़े हैं। जिनसे किसी और को संक्रमण होने का भी खतरा है। एचआईवी एड्स और परिवार नियाेजन से जुड़े महत्वपूर्ण सामान अस्पताल के पुरानी गायनिक विंग में पड़े पड़े कबाड़ हो रहे हैं।

जुलाई 2019 में अवधि पार हो
गई सीरिंज


कबाड़ में बैच नंबर 081402-08 की करीब 500 सीरिंज पड़ी है। अगस्त 2014 में निर्मित यह सीरिंज गत वर्ष जुलाई 2019 में अवधि पार हो गई। इसके साथ ही बड़ी संख्या में बैच नंबर R63031 के गर्भनिराेधक साधन भी पड़े हैं। मई 2017 में निर्मित इन गर्भ निरोधक साधन की अवधि भी अप्रैल 2020 में समाप्त हो जाएगी।

धूल फांक रहे डीबीएस किट

एचआईवी संक्रमित गर्भवती महिला का प्रसव होने पर नवजात का भी टेस्ट किया जाता है। ऐसे बच्चों के टेस्ट के लिए डीबीएस टेस्ट किट आते हैं। शिफ्ट किए जाने के दौरान या उसके बाद इन किट भी कबाड़ में पटक दिए गए। इनमें 10 पीस पेपर ड्राइ ब्लड स्पॉट, 20 पीस पाउडर फ्री ग्लब्स, 20 पीस डिस इनफेक्टेड कंप्रेश गॉज, 30 पीस लेनसेट सेफ्टी, 12 पीस बेंडेज सेल्फ एडेसिव, 5 पीस 16x22 सेमी के प्लास्टिक बेग, 15 पीस सेल्प एडेसिव लेबल, 40 पीस सिलिका जेल पाउच, 5 पीस ह्यूमिडिटी मॉनिटर कार्ड, 10 पीस 8X 12 सेमी इनवेअप ग्लासिन और 10 पीस 36x27 सेमी पैकिंग एनुअलप शामिल है।

गर्भनिरोधक साधन, पेंपलेंट भी पड़े हैं कबाड़ में

जानकारी के अनुसार कुछ सालों पूर्व तक आईसीटीसी एकेएच की पुरानी गायनिक में संचालित किया जाता था। मदर एंड चाइल्ड यूनिट का निर्माण होने के बाद करीब 3 साल पूर्व आईसीटीसी को नई विंग में शिफ्ट कर दिया गया। बताया गया है कि नई विंग में शिफ्ट करने के दौरान आईसीटीसी से जुड़े काफी सामान को गायनिक विंग के गायनिक वार्ड में रख दिया गया। जिसमें बड़ी संख्या में सीरींज, गर्भनिरोधक साधन, ब्लड कलेक्शन वाइल समेत कई अन्य सामान शामिल हैं। अगर गलती से किसी भी कर्मचारी ने इन टेस्ट किट को छुअा तो उन्हें भी संक्रमण होने का भी खतरा है।

आईसीटीसी को नई विंग में तीन साल पहले शिफ्ट िकया था, तभी सामान गायनिक िवंग में छोड़ दिया

हाल ए अमृतकाैर

संक्रमण का खतरा

ब्यावर. कबाड़ में पड़े रैफरल कार्ड, डीबीएस किट, सैंकडों सीरिंज, बायो वेस्ट किट

Beawer News - rajasthan news blood sample collection vile kit hundreds syringes are all in junk
Beawer News - rajasthan news blood sample collection vile kit hundreds syringes are all in junk
Beawer News - rajasthan news blood sample collection vile kit hundreds syringes are all in junk
X
Beawer News - rajasthan news blood sample collection vile kit hundreds syringes are all in junk
Beawer News - rajasthan news blood sample collection vile kit hundreds syringes are all in junk
Beawer News - rajasthan news blood sample collection vile kit hundreds syringes are all in junk
Beawer News - rajasthan news blood sample collection vile kit hundreds syringes are all in junk

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना