हर माह 50 हजार का बिजली बिल अाते देख अब कृषि मंडी में लगेगा सौर ऊर्जा सिस्टम

Beawar News - कृषि विपणन बोर्ड प्रदेश की बड़ी मंडियों में सौर ऊर्जा सिस्टम लगवाने जा रहा है। जिसका मसौदा तैयार किया जा चुका है।...

Nov 11, 2019, 07:10 AM IST
कृषि विपणन बोर्ड प्रदेश की बड़ी मंडियों में सौर ऊर्जा सिस्टम लगवाने जा रहा है। जिसका मसौदा तैयार किया जा चुका है। बोर्ड के विद्युत खंड अभियंताओं ने योजना पर कार्य शुरू कर दिया है। इन मंडियों में शहर की उदयपुर रोड स्थित कृषि उपज मंडी को भी शामिल किया गया है। जिसमें यह सिस्टम लगाया जाएगा। इससे विद्युत खर्च में करीब 80 प्रतिशत की बचत होगी। इसके लिए शहर की कृषि उपज मंडी में 8 हजार केवी के इस सिस्टम को लगाने पर 26 लाख 13 हजार रुपए खर्च होंगे। कृषि उपज मंडी में नीलामी यार्ड सहित परिसर में रोशनी के लिए स्ट्रीट लाइटें लगाई हुई है। विद्युत निगम से मिलने वाली इस बिजली का बिल प्रतिमाह 50 हजार प्रति माह का बिल आता है।

यह रहेगी व्यवस्था

साैर ऊर्जा से मिलने वाली बिजली सीधे जीएसएस में जाएगी। उत्पादित बिजली की गणना के लिए मीटर लगाया जाएगा। मंडियों में खर्च विद्युत में से उत्पादित बिजली वाली राशि को घटाकर निगम बिजली का बिल भेजेगा। विपणन बोर्ड के विद्युत अभियंताओं ने बताया कि इससे बिजली का बिल करीब 80 प्रतिशत कम हो जाएगा। सौर ऊर्जा की प्लेटें लगाने के लिए अभियंता जगह चिन्हित करेंगे। विपणन बोर्ड निदेशक सभी मंडियों में सौर ऊर्जा सिस्टम लगाने के लिए परिपत्र भेज चुके है। जिसकी कवायद भी शुरू कर दी गई है।

इनका कहना है


शहर की कृषि उपज मंडी में 26 लाख रुपए की लागत से 8 हजार केवी का सिस्टम लगेगा, बिजली के बिल में आएगी गिरावट, मंडी में सौर ऊर्जा की प्लेटें लगाने के लिए अभियंता चिन्हित करेंगे जगह

ब्यावर. कृषि उपज मंडी में लगेगा सौर ऊर्जा यंत्र।

इसलिए किया निर्णय

कृषि मंडी में ही सीजन के समय करीब 50 हजार व ऑफ सीजन में 40 हजार रुपए तक बिल चुकाना पड़ता है। विद्युत पर खर्च होने वाली बड़ी राशि को देखकर कृषि विपणन विभाग ने बड़ी मंडियों में आधुनिक सौर ऊर्जा सिस्टम लगाने का फैसला किया है। इन सिस्टम में बैट्रियां नहीं लगेंगी। नेट मीटरिंग सिस्टम इस्तेमाल होगा। नीलामी यार्ड में बने शेड पर सौर ऊर्जा की प्लेटें लगेंगी। लेकिन प्लेट फार्म जर्जर अवस्था में होने के कारण असुरक्षित है। मंडी सचिव ने प्लेट फार्म को दुरुस्त कराने के लिए मुख्यालय को पत्र भेजा है। प्लेट दुरुस्त होने के बाद ही सौर ऊर्जा की प्लेटें छत पर लग सकेगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना