• Hindi News
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • फर्जी रिफंड क्लेम पास कर दिल्ली के तीन खातों में भेजी थी नकदी, एक खाता फर्जी दस्तावेजों से खुला
--Advertisement--

फर्जी रिफंड क्लेम पास कर दिल्ली के तीन खातों में भेजी थी नकदी, एक खाता फर्जी दस्तावेजों से खुला

भरतपुर| वाणिज्यिक कर विभाग के भरतपुर जोन में फर्जी रिफंड क्लेम कर खुद ही पास करने वाले जयपुर के सॉफ्टवेयर इंजीनियर...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 03:30 AM IST
फर्जी रिफंड क्लेम पास कर दिल्ली के तीन खातों में भेजी थी नकदी, एक खाता फर्जी दस्तावेजों से खुला
भरतपुर| वाणिज्यिक कर विभाग के भरतपुर जोन में फर्जी रिफंड क्लेम कर खुद ही पास करने वाले जयपुर के सॉफ्टवेयर इंजीनियर नीरज सोनी ने 73 लाख 20 हजार 600 रुपए स्वीकृत होने के बाद तीन खातों में ट्रांसफर किए थे। ये तीनों ही खाते दिल्ली के हैं। लेकिन इनमें से एक खाता तो फर्जी दस्तावेजों के आधार पर सिकंदर अली के नाम से खोलने की बात स्पष्ट हो चुकी है। लेकिन तीन जिन खातों में फर्म सिग्मा एंटरप्राइजेज (अपंजीकृत) सूरजपोल भरतपुर के नाम से फर्जी रिफंड क्लेम पास होने के बाद राशि ट्रांसफर की थी, वे तीनों खाताधारक अभी पुलिस की पकड़ से दूर है। इतना ही नहीं सॉफ्टवेयर इंजीनियर नीरज सोनी के जीजा हिमांशु ने सिर्फ अलवर जोन की राशि ट्रांसफर कराने के लिए लता मीणा की मां का खाता नंबर उपलब्ध कराया था। भरतपुर जोन की राशि ट्रांसफर करने के लिए नीरज सोनी को उसके ही दोस्तों ने खाते उपलब्ध कराए थे। अब पुलिस ने तीनों खाताधारकों की तलाश में दिल्ली में जुटी है। लेकिन खातों के फर्जीवाड़े से खुला होने की आशंका के कारण खाताधारक पुलिस की पहुंच से बाहर है। पुलिस दिल्ली व अन्य स्थानों पर खाताधारकों के ठिकानों पर दबिश दे रही है। सिग्मा एंटरप्राइजेज का जो खाता सिकंदर अली के नाम से खुला था। वह भी फर्जीवाड़े से खुला है।

इधर, लता को पता था फिर भी छिपाया, इमरान ने खरीदी थी 25 हजार की अंगूठी

प्रताप कॉलोनी निवासी इमरान ने लता मीणा को बता दिया था कि उसकी मां के खाते में घोटाले की रकम आएगी। लेकिन लता को सबकुछ पता होने के बाद भी मां प्रेमवती को कुछ भी नहीं बताया था। इमरान ने घोटाले की रकम में से 6 लाख रुपए व्यय किए। उसमें से करीब सवा लाख रुपए लता मीणा को ही किसी बीमा पॉलिसी की बकाया किस्त चुकाने के लिए दिए थे। इतना ही नहीं महीनेभर पहले इमरान ने 25 हजार की दो सोने की अंगूठियां भी खरीदी थीं।

दो लाख रुपए निकाले, 71 लाख रुपए वापस हो चुके : सॉफ्टवेयर इंजीनियर नीरज सोनी ने भरतपुर जोन से 73 लाख 20 हजार 600 रुपए का फर्जी रिफंड क्लेम पास कर राशि एक खाते में डालने के बाद तीन खातों में डलवा दी थी। पुलिस करीब 71 लाख रुपए वापस करा चुकी है। लेकिन अभी दो लाख रुपए बाकी है। क्योंकि दो लाख रुपए इन तीन खातों से निकाल लिए गए थे। निकाली राशि का कमीशन नीरज सोनी को नहीं पहुंचा था।

X
फर्जी रिफंड क्लेम पास कर दिल्ली के तीन खातों में भेजी थी नकदी, एक खाता फर्जी दस्तावेजों से खुला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..