--Advertisement--

भरतपुर स्टेशन धार्मिक पर्यटन सर्किट व हेरिटेज में शामिल

केंद्रीय बजट में रेलवे ने भरतपुर स्टेशन काे धार्मिक पर्यटन सर्किट एवं हेरिटेज स्टेशन श्रेणी में शामिल किया है।...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 03:30 AM IST
केंद्रीय बजट में रेलवे ने भरतपुर स्टेशन काे धार्मिक पर्यटन सर्किट एवं हेरिटेज स्टेशन श्रेणी में शामिल किया है। इस श्रेणी में देशभर के 40 स्टेशन शामिल किए हैं, जिसमें भरतपुर के अलावा मथुरा भी है।

भरतपुर के इस श्रेणी में शामिल होने से लंबे समय से उपेक्षित स्टेशन के विकास के रास्ते खुल गए हैं। इस ग्रुप के स्टेशनों के विस्तार के लिए 150 करोड़ रुपए बजट रखा गया है। रेलवे सलाहकार समिति के सदस्य अरविंद पालसिंह ने बताया कि भरतपुर के लिए यह बड़ी उपलब्धि है। इससे रेलवे स्टेशन पर तेजी से विकास होगा और पर्यटन श्रेणी में आने पर ट्रेनों के स्टापेज स्वतः ही बढ़ जाएंगे। इससे गरीब रथ सहित अन्य गाड़ियों के ठहराव की संभावनाएं बढ़ गई हैं। उल्लेखनीय है कि ब्रज चौरासी कोस परिक्रमा, केवलादेव पक्षी उद्यान और लोहागढ़ फोर्ट के कारण भरतपुर काे इस श्रेणी में चुना गया है। इससे स्टेशन पर पर्यटकों को ध्यान में रखकर सुविधाओं का विस्तार होगा।

इसमें पर्यटन सूचना केंद्र सहित सुरक्षा के विशेष प्रबंध किए जाएंगे। यात्रियों के ठहरने के लिए रिटायरिंग रूम में सुविधाएं बढ़ेंगी। साथ ही स्वचालित सीढ़ी, वाई-फाई, इलेक्ट्राॅनिक रिजर्वेशन, सीसीटीवी कैमरे एवं विशेष सफाई व्यवस्था का प्रावधान होगा।

अच्छी खबर

केंद्रीय बजट में 40 स्टेशनों का चयन, 150 करोड़ से होंगे विकास कार्य, गरीब रथ सहित कई ट्रेनों के ठहराव की संभावना बढ़ी

रिजर्वेशन डिसप्ले चार्ट की सुविधा

रेलवे स्टेशन घुसते ही रिजर्वेशन की जानकारी डिसप्ले पर मिलने लगी है। पूछताछ की खिड़की के दोनों ओर रिजर्वेशन डिसप्ले चार्ट की मशीन लगाई गई हैं। जिन पर हर गाड़ी के रिजर्वेशन वाले यात्रियों की सूची डिसप्ले होने लगी है।

मथुरा-कोटा तक ट्रिपल ट्रैक, क्रॉसिंग में नहीं रुकेगी ट्रेनें

बजट में मथुरा से कोटा के लिए ट्रिपल ट्रैक की घोषणा की गई है। वैसे इस पर पहले से ही काम जारी है। इसके लिए 170 करोड़ रुपए का और प्रावधान किया गया है। दिल्ली से मथुरा तक पहले ही ट्रिपल ट्रैक है। ट्रिपल ट्रैक हो जाने से दिल्ली व मुंबई के मध्य चलने वाली ट्रेनों की लेट-लतीफी काफी हद तक दूर होगी। क्योंकि गुड्स ट्रेन सेंटर लाइन पर चलाई जाएंगी। इससे नई ट्रेनों का संचालन बढ़ेगा तथा ठहराव भी बढ़ जाएगा। रेलवे सलाहकार अरविंदपाल सिंह ने बताया कि 15 फरवरी को आगरा में रेलवे महाप्रबंधक ने बैठक बुलाई है। इसमें मेमू ट्रेन चलाने, एनसीआर मेट्रो सर्वे में शामिल करने तथा जरूरी ट्रेनों के ठहराव के प्रस्ताव तैयार कराए जाएंगे। साथ ही बजट में रेलवे की खाली जगहों पर व्यवसायिक गतिविधियों के बढ़ावा का प्रावधान किया गया है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..