--Advertisement--

समारोह में न फिके भोजन, इसलिए कर रहे जागरुक

किसी को शादी समारोह की दावत में यह समझाना कि प्लेट में उतना ही लीजिए जितना आप खा सकते हैं। बड़ा दुष्कर कार्य है,...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:55 AM IST
किसी को शादी समारोह की दावत में यह समझाना कि प्लेट में उतना ही लीजिए जितना आप खा सकते हैं। बड़ा दुष्कर कार्य है, किंतु महाराजा जवाहर सिंह स्मारक समिति पिछले चार साल से लोगों को यह समझाने में जुटी है। क्योंकि उनका मानना है कि डस्टबिन में छोड़ा गया भोजन भूख से बिलबिलाते किसी पेट की आग को शांत कर सकता है। झूठा छोड़ना धार्मिक और सामाजिक अपराध भी है। इसलिए समिति ने अन्न बचाओ अभियान चला रखा है। समिति ने शहर के लगभग 70 से ज्यादा मैरिज होम एवं धर्मशालाओं में अन्न बचाओं के जगह-जगह बोर्ड लगा रखे हैं। इससे भोजन लेते व्यक्ति की निगाह अवश्य जाती है और विचार दिमाग में जरूर कौंधता है। समिति के अध्यक्ष सुधीर पाल सिंह पेशे से अध्यापक हैं। वे कहते हैं कि अभियान में कितनी सफलता मिली यह कहना तो मुश्किल है। किंतु लोगों में मैसेज का असर आता है। मैरिज होमों के डस्टबिनों में झूठन अब कम दिखाई देती है। हमारा मकसद भी लोगों में अवेयनेस लाना है और इसे सतत जारी रखेंगे। वैसे इसकी शुरुआत भी एक शादी समारोह से हुई।

सुधीर पाल सिंह बताते हैं कि वे एक शादी में गए थे। मित्रों के साथ समारोह के बाहर गपशप कर रहे थे, तभी मैले-कुचेले दो बच्चों ने उनका ध्यान आकर्षित किया, जो डस्टबिन से भोजन उठाकर खा रहे थे। उनके बगल में ही कुत्ते भी खा रहे थे। यह दृश्य मेरे लिए ह्दय विदारक था। इसके बाद हमने जागरूकता कार्यक्रम चलाना तय किया। क्योंकि भोजन की बर्बादी के कारण ही बहुत से लोग भूख का सहन करने के लिए मजबूर हैं।

अच्छी खबर

शादियों में 4 साल से चला रहे हैं अन्न बचाओ अभियान, शहर में 70 मैरिज होमों में लगाए सूचना बाेर्ड

हर साल प्रतिभावान बच्चों को करते हैं सम्मानित

समिति प्रतिभावान बच्चों का प्रोत्साहन भी करती है। समिति द्वारा सालाना कार्यक्रम में औसतन 35 बच्चों को सम्मानित किया जाता है। निर्धन विद्यार्थियों को आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाती है। इसके अलावा समिति द्वारा रियासतकालीन परंपरा के अनुरूप दशहरा के मौके पर अखड्‌ड पर छौंकरा पूजन, महाराजा जवाहर सिंह की जयंती सहित विरासत संरक्षण के लिए कार्य करती है। समिति द्वारा महाराजा जवाहर सिंह की प्रतिमा लगवाने की भी योजना है।

सात गांवों में मृत्युभोज भी बंद कराया: महाराजा जवाहर सिंह स्मारक समिति मृत्युभोज के खिलाफ भी अभियान चला रही है। इसके लिए गांवों में जनजागरण अभियान चलाया जा रहा है। अध्यक्ष सुधीर पालसिंह का कहना है कि समिति के प्रयासों से हम सात गांवों में मृत्युभोज बंद कराने में कामयाब रहे हैं। इनमें गांव मौरोलीकलां, मौरोली खुर्द, महंगाया, नगला चांदन, नगला माना, नगला हरचंद एवं तमरोली गांव शामिल है। यहां के ग्रामीणों ने मृत्युभोज नहीं करने का निर्णय ले रखा है। समिति ने इन गांवों में कमेटी भी बना रखी है, जो लोगों को समझाइश करती है। समिति पंफलेटों का वितरण भी करती है।

भरतपुर. सामाजिक मुद्दाें पर चर्चा करते समिति पदाधिकारी।