Hindi News »Rajasthan »Bharatpur» खतरे के क्षेत्रों में लगाए रेडियो एंटीना वाले कैमरे, असर: अब नहीं अा रहीं साफ तस्वीरें

खतरे के क्षेत्रों में लगाए रेडियो एंटीना वाले कैमरे, असर: अब नहीं अा रहीं साफ तस्वीरें

संभाग मुख्यालय पर अपराधियों पर नजर रखने के लिए अभय कमांड सेंटर शुरू किया गया है। परंतु खास बात ये है कि जहां खतरे के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:55 AM IST

खतरे के क्षेत्रों में लगाए रेडियो एंटीना वाले कैमरे, असर: अब नहीं अा रहीं साफ तस्वीरें
संभाग मुख्यालय पर अपराधियों पर नजर रखने के लिए अभय कमांड सेंटर शुरू किया गया है। परंतु खास बात ये है कि जहां खतरे के क्षेत्र थे, वहां रेडियो फ्रिक्वेंसी कनेक्टिविटी एंटीना वाले कैमरे लगा दिए। अब वहां की तस्वीरें साफ नहीं मिल पा रही हैं। शहर में लगाए गए 202 कैमरों में से 60 कैमरे आरएफसी के हैं। इन्हीं 60 स्थानों पर खास परेशानी आ रही है। बाकी ओएफसी वाले 142 कैमरों की तस्वीरें बेहतर साफ आ रही हैं।

भरतपुर में 38 करोड़ रुपए की लागत से अभय कमांड योजना में करीब 800 कैमरे लगाए जाने थे। फिलहाल 202 कैमरे लगाए गए हैं। इन सभी कैमरों को ओएफसी लाइन से जोड़ना था, परंतु ओएफसी की लाइन नहीं डालने की वजह से रेडियो एंटीना लगाकर कैमरों को चालू कर दिया। ये क्षेत्र शहर के महत्वपूर्ण व वीआईपी मूवमेंट वाले क्षेत्र हैं, जहां खतरा हमेशा बना रहता है। जैसे सारस चौराह, ट्रेफिक चौराहा, पुलिस लाइन, सर्किट हाउस आदि हैं। जहां कभी भी कोई घटना हो जाए तो उसके फुटेज ठीक से ले पाना मुश्किल है। वर्तमान में 60 कैमरे आरएफसी एंटीना वाले हैं, जबकि 147 कैमरे ओएफसी से जोड़कर शुरू किए गए हैं। इस अभय कमांड सेंटर को हाल ही में 21 मार्च को जयपुर में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने उद्घाटन किया था।

शहर में करीब 800 कैमरे लगाए जाने थे। यदि ये सभी कैमरे लग जाए और ओएफसी लाइन से जोड़ दिए जाए तो शहर में होने वाली आपराधिक घटनाओं पर लगाम लगेगी।

कहां-कहां लगे हैं आरएफसी एंटीना से जुड़े कैमरे

शहर में सारस चौराहे पर 4 पोलों पर 12 कैमरे, ट्रेफिक चौराहे पर एक पोल पर 2 कैमरे, आईजी ऑफिस के पास एक पोल पर 2 कैमरे, ट्रेफिक चौराहे पर एक पोल पर 2 कैमरे, पुलिस लाइन पर एक पोल पर 3 कैमरे, मल्टीपरपज चौराहा पर एक पोल पर 3 कैमरे, ऑडिटोरियम के पास एक पोल पर 2 कैमरे, सर्किट हाउस पर एक पोल पर 3 कैमरे, ग्रीन गार्डन मैरिज होम के पास दो पोल पर 5 कैमरे सहित विभिन्न स्थानों पर करीब 60 कैमरे लगे हैं। यही वो स्थान हैं जहां से तस्वीरें साफ नहीं आती हैं।।

इन क्षेत्रों के 142 कैमरे ओएफसी लाइन से हैं जुड़े

ओएफसी लाइन से जुड़े 142 कैमरों में मुख्य रूप से शहर की सरकूलर रोड, जवाहर नगर, आरटीओ आफिस के पास, स्टेडियम, हीरादास चौराहा, बस स्टैंड आदि क्षेत्रों में लगाए गए हैं। इन क्षेत्रों से एकदम साफ तस्वीरें दिखाई देती हैं।

भरतपुर। कैमरे के ऊपर लगी आरएफसी एंटीना की छतरी।

ओएफसी की लाइन से जुड़ने के कारण कैमरों के ऊपर नहीं है छतरी।

दूसरे फेज के प्रस्ताव बनाकर भेजे हैं, मंजूरी मिलने पर शहर में लगाए गए आरएफसी एंटीना के 60 कैमरों को ओएफसी लाइन डालकर जोड़ दिया जाएगा। ओएफसी लाइन से जुड़े कैमरों की पिक्चर क्वालिटी बेहतर होती है। शहर में होने वाली घटनाओं पर अच्छी पिक्चर क्वालिटी से अपराधियों की पकड़ जल्द होगी।

-श्रीपाल सिंह, प्रभारी, अभय कमांड

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bharatpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×