Hindi News »Rajasthan »Bharatpur» बीना-झूठी शिकायतें करना आपकी फितरत में है, जांच एजेंसियों को जवाब दे चुके हैं

बीना-झूठी शिकायतें करना आपकी फितरत में है, जांच एजेंसियों को जवाब दे चुके हैं

सुलभा: आप नाम की जिला प्रमुख हैं। असल में तो आपके पति डॉ. जितेंद्रसिंह ही काम करते हैं ? बीना: इसमें बुरा क्या है।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 04:00 AM IST

बीना-झूठी शिकायतें करना आपकी फितरत में है, जांच एजेंसियों को जवाब दे चुके हैं
सुलभा: आप नाम की जिला प्रमुख हैं। असल में तो आपके पति डॉ. जितेंद्रसिंह ही काम करते हैं ?

बीना: इसमें बुरा क्या है। मेरे पति डॉ. जितेंद्रसिंह को राजनीतिक और प्रशासनिक अनुभव है। अगर वे मेरा सहयोग करते हैं तो इसमें किसी को कोई पीड़ा नहीं होनी चाहिए। पति अगर अपनी प|ी की मदद करता है तो इसमें गलत क्या है। अब आप ही बताएं कि आपके पति डॉ. मोहनसिंह आपका सहयोग नहीं करते हैं क्या।

सुलभा: आपने राजनीतिक प्रभाव से जिठानी स्नेहलता का सिंबल कैंसिल करवा दिया?

बीना: इस मामले का निर्णय कोर्ट में हो चुका है। इसलिए प्रश्न अप्रासंगिक है। फिर भी यह कहना गलत है। क्योंकि मैं भारतीय जनता पार्टी से हूं और वे कांग्रेस से थी। तो मेरा हस्तक्षेप कैसे संभव है।

सुलभा: चांदी का मुकुट पहनाते हैं उन्हें ही राशि आवंटित होती है। यह एक प्रकार की कमीशनबाजी है?

बीना : विकास राशि का आवंटन सार्वजनिक रूप से मांग आने पर किया जाता है। प्रेमवश किसी ने पहनाया है तो उसे वहीं दिया है।

सुलभा: आपका कोई व्यवसाय नहीं है, फिर भी आप करोड़ों की संपत्ति की मालिक हैं, कहां से आया है पैसा?

बीना : राजस्थान कालेज आफ इंजीनियर फोर वूमन की मैं चेयरपर्सन रही हूं। मेरे पास जो भी संपत्ति है उसका पूरा लेखा-जोखा है। संबंधित एजेंसी को जवाब दिया जा चुका है।

सुलभा: होटल बीना महल में सरकारी रास्ता दबा लिया है?

बीना : सरकारी रास्ता आज भी आवागमन के लिए है। दबाया नहीं है। मेरी नाम की जमीन पर मलाह से अलक-झलक बगीची तक रास्ता बना हुआ है। इस रास्ते पर सरकारी सड़क डल चुकी है। उसे भी तो लोगों को बताना चाहिए।

सुलभा: पार्टी के दो विधायक आपसे नाराज है?

बीना : कौन से दो विधायक। सभी विधायक विकास कार्यों में मदद कर रहे हैं। ऐसा कहना गलत है। पार्टी के सभी विधायकों ने जिला प्रमुख चुनाव में मेरी मदद की थी।

सुलभा : नदबई क्षेत्र में ज्यादा राशि आवंटित की जा रही है ?

बीना: सभी क्षेत्रों से जुड़ाव है। लोग आते और आवश्यकता बताते हैं तो पैसा दिया जाता है। इसलिए क्षेत्र विशेष के लिए काम करने जैसी कोई बात नहीं है।

जिला प्रमुख बीना

भारतीय जनता पार्टी से जुड़ाव 1998 से। वर्ष 2014 में हुए जिला परिषद चुनाव में वार्ड संख्या 14 से सदस्य चुनी गईं और 34 वोट से जिला प्रमुख बनीं। पति डॉ. जितेंद्रसिंह लंबे समय से भाजपा से जुडे़ हुए हैं। ।

सुलभा सिंह

भारतीय जनता पार्टी की सदस्य, किंतु जिला प्रमुख की धुर विरोधी। जिला प्रमुख चुनाव में नामांकन दाखिल किया था। जिला न्यायालय से उनके पक्ष में फैसला आया था, किंतु हाईकोर्ट में फैसला बीना सिंह के पक्ष में रहा।

बीना- अपनी पार्टी के ही बोर्ड के खिलाफ कार्य कर रही हैंै ?

सुलभा: भाजपा के नहीं आपके विरुद्ध है मेरा अभियान है, पार्टी को नुकसान आप से ही है

बीना: शून्य मत मिले, फिर भी जिला प्रमुख का सपना देखती हो?

सुलभा : राजनीतिक प्रभाव से आपने मेरा वोट अपने में काउंट करा लिया था, इसी से मेरा विरोध है।

बीना: जिला प्रमुख चुनाव में आपको शून्य मत मिला था?

सुलभा: इसके लिए आप जिम्मेदार है। यह कैसे संभव है कि चुनाव लड़ने वाला ही अपने आपको वोट नहीं डाले। आपने राजनीतिक प्रभाव से मेरे वोट को अपने में काउंट करा लिया था। यह बात न्यायालय ने भी मानी है। न्यायालय का निर्णय सर्वोपरि है।

बीना: अपनी असफलता के लिए दूसरों को दोषी ठहराती हैं आप?

सुलभा: नहीं, मैंने इस संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी को लिखित में शिकायत की थी, लेकिन मेरी सुनवाई नहीं हुई। इसलिए बाद में न्यायालय में भी यह मामला उठाया गया था। न्यायालय का आदेश सर्वमान्य है। न्यायालय जो भी फैसला करता है वो सभी को मानना पड़ता है। इसमें कुछ लगलत नहीं है।

बीना: अपनी पार्टी के ही बोर्ड के खिलाफ कार्य कर रही हैंै?

सुलभा : पार्टी के खिलाफ नहीं आपके विरुद्ध अभियान है, पार्टी को नुकसान आप से ही है।

बीना : विरोधियों से पैसा लेकर हमारे खिलाफ शिकायत करती हो?

सुलभा : मैं जनरल सर्जन हूं। मेरे पति भी चिकित्सक हैं। प्रभु कृपा से खेती बाड़ी आदि है। जिस सिहाग और नागर की ओर आप संकेत कर रही हैं उन्हें हम जानते भी नहीं हैं। ऐसा कुछ भी नहीं है मैं पार्टी के लिए समर्पित हूं।

बीना: 35 में से 34 वोट हमें मिले थे। आपके साथ कोई नहीं ?

सुलभा : आपने राजनीतिक प्रभाव से वार्ड के चुनाव में वोटिंग लेट कराई, जिससे मेरा परिणाम नामांकन से दो घंटे पहले आया। अगर समय पर आया होता तो स्थिति दूसरी होती। अगर आपके साथ बहुमत है तो 6 में से तीन कमेटियों में कांग्रेसी क्यों काबिज हो गए।

बीना: दूसरों पर आरोप लगाते हो, आप भी बताइए आपके पास करोड़ों रुपए की संपत्ति कहां से आई?

सुलभा : हमारे पास जयपुर व भरतपुर में करीब 12 प्लाट हैं। बाकी पुस्तैनी संपत्ति है। जिसका हमारे पास एक नंबर में पूरा लेखा-जोखा है। आयकर सहित संबंधित एजेंसी में बराबर रिकार्ड है।

बीना: जिला प्रमुख नहीं बन पाई इसलिए आप फ्रस्टेड है?

सुलभा : नहीं, आपने मुझे रोकने के लिए हर स्तर पर गलत तरीका अपनाया। मेरी काउंटिंग गलत कराई। मेरे मत पत्र को अपने में काउंट कर लिया। इसलिए मेरा आपसे विरोध है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bharatpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×