--Advertisement--

7 घंटे चली अमरसिंह राठौड़ की नौटंकी

मित्र मंडली तरूण समाज समिति की ओर से अतर सिंह की स्मृति में अमर सिंह राठौड़ नौटंकी करीब 7 घंटे चली। निर्देशन...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:15 AM IST
मित्र मंडली तरूण समाज समिति की ओर से अतर सिंह की स्मृति में अमर सिंह राठौड़ नौटंकी करीब 7 घंटे चली। निर्देशन आर.पी.अग्रवाल द्वारा किया गया। चौधरी छज्जन सिंह, रामहेत सिंह तोमर, प्रकाश सिंह सिसोदिया, लेखराज बैनीवाल, रूस्तम सिंह, चौधरी राजवीर सिंह, चौधरी कृपाल सिंह,पुष्पा रानी, हेमा कुमारी, कृष्णा कुमारी, शबनम कुमारी, पृथंका कुमारी ने अपनी भूमिका निभाई। मुख्य अतिथि उप महापौर इंद्रपाल सिंह पाले, अतिथि अशोक कुमार फौजदार, एआईसीसी सदस्य धर्मेंद्र शर्मा, पार्षद गिरीश चौधरी, नेता प्रतिपक्ष इन्द्रजीत भारद्वाज, विष्णु सिनसिनवार थे।

यह सुनाया नौटंकी में : नौटंकी कथानक के अनुसार मुगल बादशाह के दरबार में अमरसिंह राठौड़ सिपहसालार थे, उन्होंने अपने गौने के लिए एक हफ्ता की छुट्टी ली। रानी हांडी के प्रेम में वह नियत समय पर दरबार में उपस्थित नहीं हुआ। वजीर सलामत खां ने चुगली खाई जिसे हुकुम अदूली माना गया। उन पर दंड दिया गया। दंड न देने की स्थिति में साले अर्जुन गौड़ ने उनको मारने का बीड़ा उठाया। अर्जुन गौड़ द्वारा धोखे से अमर सिंह राठौड़ का कत्ल कर दिया। यह बात बादशाह को नागबार गुजरी उन्होंने अर्जुन गौड़ को देश निकाला दिया तथा अपनी कूटनीति से रामसिंह को बुलाया। राम सिंह ने आकर आगरा में लड़ाई की। लड़ाई जीतने के पश्चात वह अमर सिंह को शव को ले गए। बादशाह द्वारा राम सिंह को बारह गांव की जागीर एवं सिपहसालार का पद से नवाजा।

भरतपुर. मित्र मंडली के कार्यक्रम में प्रस्तुति देते कलाकार।