• Home
  • Rajasthan News
  • Bharatpur News
  • ट्रैफिक पुलिस वाले लूट मचा रहे हैं : रूपेंद्र इस बारे में अलग से बात करेंगे : चतुर्वेदी
--Advertisement--

ट्रैफिक पुलिस वाले लूट मचा रहे हैं : रूपेंद्र इस बारे में अलग से बात करेंगे : चतुर्वेदी

भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की मन की थाह लेने आए सामाजिक अधिकारिता मंत्री के सामने कार्यकर्ताओं का आक्रोश...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:35 AM IST
भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की मन की थाह लेने आए सामाजिक अधिकारिता मंत्री के सामने कार्यकर्ताओं का आक्रोश तमाम बंदिशों के बाद भी फूट पड़ा। भरतपुर विधानसभा क्षेत्र की बैठक में मंत्री अरुण चतुर्वेदी ने पन्ना प्रमुख की अहमियम बताई और पन्ना प्रमुख बनाए जाने पर बल दिया। तभी ग्रामीण मंडल के पूर्व अध्यक्ष रुपेंद्र जघीना खडे़ हो गए। बोले, पन्ना क्या किताब प्रमुख भी बना देंगे, किंतु कार्यकर्ताओं के कामों का क्या होगा।

सरकार और संगठन में कार्यकर्ताओं की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। ट्रेफिक पुलिस और रेवेन्यु वाले लूट मचा रहे हैं। आमजन की कोई सुनवाई नहीं हो रही। जघीना के तेवर तब और तीखे हो गए, जब अन्य कार्यकर्ताओं ने उन्हें सही बात है, सही बात है कहकर उत्साहित किया। वे मंच की ओर बढे़ तो मंत्री अरुण चतुर्वेदी ने उन्हें रोक दिया। बोले, अगल से बात करेंगे। अगर माइक से बोलोगे तो माहौल बिगड़ जाएगा। बाद में जघीना और कुछ कार्यकर्ताओं से मंत्री चतुर्वेदी ने अलग से बात की और व्यक्तिगत एवं जनहित की समस्याओं के समाधान कराने का आश्वासन दिया। जघीना ने बताया कि मंत्री ने तहसीलदार के रिक्त पद पर नियुक्ति कराने, ट्रेफिक पुलिस वालों की मनमानी रोकने, कार्यकर्ताओं के कार्य कराने तथा जनहित की समस्याओं के समाधान का आश्वासन दिया।

भरतपुर में संगठनात्मक फेरबदल नहीं: चतुर्वेदी

जिले के प्रवास पर आए मंत्री बोले- पार्टी इस समय चुनावी मोड में है, बदलाव ठीक नहीं

भरतपुर|। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री एवं विशिष्ट प्रवास योजना के प्रभारी अरुण चतुर्वेदी ने भरतपुर जिले में संगठनात्मक फेरबदल की संभावनाओं को नकार दिया है। उनका कहना है कि अब पार्टी चुनावी मोड में आ गई है।

ऐसे समय में बदलाव करना उचित नहीं है। जो जहां काम कर रहा है, उसे वहीं पर अच्छा प्रदर्शन करना चाहिए। चतुर्वेदी प्रवास योजना के तहत जिले की सभी 7 विधानसभा क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं के मन की थाह ले चुके हैं। चतुर्वेदी ने दैनिक भास्कर से विशेष बातचीत में कहा कि कार्यकर्ताओं में कहीं भी बदलाव की इच्छा नहीं है। बल्कि वह चाहता है कि संगठन में दायित्ववान कार्यकर्ता ईमानदारी से अपने दायित्व का निर्वहन करें। जनप्रतिनिधियों से उसकी अपेक्षा है कि वे उसे स्नेह और सम्मान दें। इसके लिए सभी जिम्मेदारों को ताकीद किया गया है। उप चुनाव के परिणामों से पार्टी अब पूरी तरह उबर गई है।

पार्टी ने अब आत्म विश्लेषण कर संगठन को गतिशील बनाने का निर्णय किया है। उप चुनाव के परिणाम हमारे खिलाफ इसलिए आए, क्योंकि हम आमजन को सरकार द्वारा किए गए काम और लाभ ठीक से समझा नहीं पाए। लेकिन, अब पार्टी ने इसमें सुधार किया है।

7 तक बनाने हैं पन्ना प्रमुख

मंत्री ने कहा कि 60 वोटरों पर एक पन्ना प्रमुख की सूची 7 अप्रैल तक तैयार कर जमा करानी होगी। इसके अलावा 27 अप्रैल को पन्ना प्रमुखाें का सम्मेलन होगा, जिसमें उन्हें उनके काम बताए जाएंगे। इसके अलावा बूथ, वार्ड, शक्ति और सेक्टर प्रमुख बनाए जाने पर बल दिया। साथ ही बूथ और वार्ड पर मन की बात कार्यक्रम कराने पर बल दिया। बैठक में विधायक विजय बंसल, जिलाध्यक्ष भानुप्रतापसिंह, विजय आचार्य, शिवराजसिंह, राकेश सर्राफ, नरेंद्र सिंघल, मुकेश बिलोठी, उमाशंकर शर्मा, रामनिवास, अरविंदपालसिंह, भानु जघीना, विष्णुसिंह आदि मौजूद थे।

पार्टी कार्यकर्ताओं की समस्याएं सरकार-संगठन से हल करवाएंगे

चतुर्वेदी ने बताया कि प्रवास के दौरान कार्यकर्ताओं ने सरकार और संगठन से संबंधित कुछ शिकायतें और समस्याएं बताई हैं। जिनका संबंधित लोगों के माध्यम से समाधान कराया जाएगा। ओवर ऑल कार्यकर्ता उत्साहित है और अगले चुनाव के लिए तैयार है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2016-17 तक की सभी छात्रवृत्तियों का भुगतान किया जा चुका है। वर्ष 2017-18 के आवेदन मांगे गए हैं। वर्ष 1990 तक एससीएसटी निगम से लिए गए 2 लाख रुपए तक ऋण को माफ करने का निर्णय लिया गया है, जो अपने आप में अनूठा है।