--Advertisement--

हमले के मामलों में दो लोगों को 3-3 साल का कठोर कारावास

सवा चार साल पूर्व बिजली चोरी पकड़ने गए सतर्कता जांच दल पर हमले के अलग-अलग दो मामलों में विशिष्ट न्यायाधीश विद्युत...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:40 AM IST
सवा चार साल पूर्व बिजली चोरी पकड़ने गए सतर्कता जांच दल पर हमले के अलग-अलग दो मामलों में विशिष्ट न्यायाधीश विद्युत अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश संख्या-1 ने दो लोगों को 3-3 वर्ष के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। डिस्कॉम के सहायक अभियंता रनवीर सिंह ने 12 दिसंबर 2013 को विद्युत चोरी निरोधक पुलिस थाना डीग में रिपोर्ट दर्ज कराई कि 11 दिसंबर को दोपहर निगम कर्मचारी महेंद्र कुमार शर्मा, संतोष सिंह, श्रीराम के साथ शिवराम पुत्र खड्डीराम सैनी तथा तुलसीराम पुत्र हंडूराम सैनी निवासी किशोर पायसा कामां के औद्योगिक परिसर पर सतर्कता जांच के लिए गए। जहां ट्रांसफार्मर पर लगे मीटर बॉक्स की सील टूटी मिली व मीटर की बॉडी सील टूटी पाई गई।

रिपोर्ट में कहा गया है कि जैसे ही मौके पर फोटो लेने लगे तो वहां मौजूद शिवराम व उसके चार लड़कों व निगम कर्मचारी तेज सिंह का लड़का व अन्य महिलाओं ने लाठियाें से मारपीट की। उसी दौरान मीटर को ल्यूकिड डालकर जला दिया व कैमरा छीन लिया। इस मामलों में विद्वान न्यायाधीश जमीर हुसैन सैयद ने दोनों पक्षों के वकीलों की दलीलें सुनने के बाद अभियुक्त शिवराम तथा योगेश कुमार को विद्युत अधिनियम की धाराओं में दोषी करार देकर प्रत्येक आरोप के लिए 3-3 वर्ष का कठोर कारावास व 10-10 हजार रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..