भरतपुर

--Advertisement--

गांव तो रोशन हुए, 1586 ढाणियों में अभी तक नहीं पहुंची बिजली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी गांवों को रोशन करने का दावा कर रहे हैं। कुछ हद तक यह सभी भी है। बिजली कंपनियों के...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:40 AM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी गांवों को रोशन करने का दावा कर रहे हैं। कुछ हद तक यह सभी भी है। बिजली कंपनियों के मुताबिक भरतपुर जिले के सभी राजस्व गांव तो रोशन हो चुके हैं, लेकिन 1586 ढाणियों में अभी भी बिजली नहीं पहुंच पाई हैं। इन्हें दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (डीडीयूजीजेवाई) के तहत मार्च, 2017 में ही रोशन कर देना था। डीडीयूजीजेवाई के एक्सईएन बीएल मीणा ने बताया कि जिले में अब ऐसा कोई राजस्व गांव नहीं है, जिसमें बिजली न पहुंची हो। हां, कुछ ढाणियों में दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत बिजली कनेक्शन दिए जाने हैं। इनका काम भी जल्द पूरा करवाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

इधर, डीडीयूजीजेवाई योजना की लेटलतीफी से सरकार काफी नाराज है। पिछले दिनों हुई मीटिंग में भी इस मुद्दे पर काफी चिकचिक हुई थी। अधिकारियों का कहना था कि इन ढाणियों में प्राइवेट कंपनी को बिजली पहुंचानी है, लेकिन, ठेकेदार कंपनी द्वारा लापरवाही बरती जा रही है। ठेका दिल्ली की वोल्टास कंपनी के पास है। यह कंपनी स्थानीय अधिकारियों को महत्व नहीं देती हैं। इसीलिए इन ढाणियों के 13 हजार से ज्यादा परिवार अभी तक बिजली से वंचित हैं। उल्लेखनीय है कि दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत हुए सर्वे में जिले में 1728 ऐसी ढाणियां चिह्नित हुई थीं, जिनमें बिजली कनेक्शन नहीं हैं। ये ऐसी ढाणियां वे हैं जाे खेतों, जंगल, और पहाड़ी आदि पर बसी हैं। इनमें कुल 16661 बिजली कनेक्शन दिए जाने हैं। अबॉव पावरटी लाइन (एपीएल) के 15011 और बिलो पावरटी लाइन (बीपीएल) के 1650 कनेक्शन करने का लक्ष्य है। जबकि अभी तक करीब 142 ढाणियों में ही बिजली कनेक्शन हो पाए हैं। इस तरह एपीएल के 12171 और बीपीएल के 1210 कनेक्शन होना बाकी हैं। इसके चलते ढ़ाणियों एवं जिले में रहने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बावजूद इसके डिस्कॉम के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं।

मांग... सेवर क्षेत्र में सर्वाधिक 3041 बिजली कनेक्शनों की जरूरत

ग्राम ज्योति योजना के तहत 1586 ढाणियों में 13381 कनेक्शन होने हैं। इनमें सर्वाधिक सेवर में 3041 बिजली कनेक्शनों की जरूरत है।


- बीएल मीणा, एक्सईएन, डीडीयूजीजेवाई डिस्कॉम

सभी ढ़ाणियों में एक साल पहले पहुंचनी थी बिजली, योजना के तहत हर घर को करना था रोशन

बयाना की सर्वाधिक ढाणियां बिजली से वंचित

दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना में सबसे अधिक बयाना क्षेत्र की 261 ढाणियां बिजली से वंचित हैं। जबकि डीग 134, कामां 233, कुम्हेर 126, नदबई 98, नगर 142, रूपवास 128, सेवर 217, वैर 99, उच्चैन 85 तथा छोंकरवाड़ा क्षेत्र में 63 ढाणियां ऐसी हैं, जिनमें बिजली पहुंचनी बाकी है। इस योजना के तहत जो कंपनी काम कर रही है, उसकी प्रगति काफी धीमी है। इसके कारण ढाणियों तक विघुतीकरण नहीं हो पा रहा है। सूत्रों की मानें तो कंपनी के कर्मचारी डिस्काॅम के अधिकारी-कर्मचारियों तक को तवज्जों नहीं देते हैं। इसके पीछे का कारण टेंडर जयपुर से होना है। अब लोकल स्तर पर अधिकारियों एक दूसरे से कोर्डिनेट नहीं कर रहे हैं। अब भी इसके लिए पहल जयपुर स्तर से होनी चाहिए जो कि नहीं हो पा रही है। अाने वाले दिनों में चुनाव है, ऐसे में विभागीय मुख्यालय को चाहिए िक वह पहल करे। इस मामले में स्थानीय विधायक और सांसद भी पहल कर सकते हैं। पर वे इस मामले में काेई दखल ही नहीं दे रहे हैं।

X
Click to listen..