• Home
  • Rajasthan News
  • Bharatpur News
  • अब संभाग के विद्युत तंत्र में होगा सुधार भरतपुर में खुला एसई मीटर कार्यालय
--Advertisement--

अब संभाग के विद्युत तंत्र में होगा सुधार भरतपुर में खुला एसई मीटर कार्यालय

मोती झील पाॅवर हाउस में सृजित नए पद एसई मीटर कार्यालय का शुभारंभ सोमवार से हो गया। इस पद पर कोटा से स्थानांतरित...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 04:30 AM IST
मोती झील पाॅवर हाउस में सृजित नए पद एसई मीटर कार्यालय का शुभारंभ सोमवार से हो गया। इस पद पर कोटा से स्थानांतरित होकर आए वीके दुबे ने पदभार संभाल लिया है। अब तक यहां एक्सईएन मीटर ही बैठते थे। एसई मीटर का मुख्यालय कोटा में था। उनके अधीन 8 जिले आते थे, जिनमें जिनमें कोटा सहित बूंदी, झालावाड़, बारां, टोंक, सवाई माधोपुर, भरतपुर और धौलपुर आते थे। कोटा से भरतपुर संभाग की दूरी करीब 400 किलोमीटर होने के चलते, संभाग के जिलों की मॉनिटरिंग प्रॉपर नहीं हो पाती थी। इस परेशानी को देखते डिस्कॉम ने पिछले दिनों भरतपुर में एसई मीटर के नए पद का सृजन किया। अब इनके अधीन संभाग के चारों जिले भरतपुर, धौलपुर, करौली व सवाई माधोपुर रहेंगे। यहां से इनकी मॉनिटरिंग प्रॉपर हो पाएगी। पदभार संभालने के दौरान एक्सईएन मीटर बनवारी लाल मीणा, एईएन मीटर एसके जैन, एईएन स्टोर एसके बंसल, इंटक महामंत्री विद्या सागर शर्मा, गुंजन शर्मा, ओमप्रकाश लवानिया, रमेश गर्ग आदि ने एसई वीके दुबे का माला पहनाकर स्वागत किया।

एसई मीटर वीके दुबे का स्वागत करते लोग।

बेहतर होगी बिजली व्यवस्था

एसई मीटर का मुख्य कार्य बिजली जीएसएस की सुरक्षा का होता है। संभाग में 250 जीएसएस हैं। प्रॉपर मॉनिटरिंग से अब संभाग की बिजली व्यवस्था में सुधार होगा। आमजन को बेहतर गुणवत्तायुक्त निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। इसके अलावा 15 हॉर्स पॉवर से अधिक के कनेक्शनों की मॉनिटरिंग का कार्य भी एसई मीटर के अंडर में आता है। संभाग में ऐसे 40 हजार से अधिक कनेक्शन हैं, उनकी भी प्रॉपर मॉनिटरिंग हो सकेगी, साथ ही ऐसे उपभोक्ताओं के गंभीर मामलों को के निस्तारण के लिए अब कोटा के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे।

3 वर्ष पूर्व एक्सईएन रह चुके हैं वीके दुबे

वीके दुबे जुलाई 2015 में डिस्कॉम में भरतपुर वृत के एक्सईएन पद पर तैनात थे। यहां से स्थानांतरित होकर वे कोटा एक्सईएन बने। कोटा में प्रमोशन होकर एसई मीटर बने, अब भरतपुर के लिए नए पद पर लगाया गया है।