Hindi News »Rajasthan »Bharatpur» सहपाठियों के जॉब लगे तो टेंशन नहीं लेंं, अपनी तैयारी में जुट रहें: जादोन

सहपाठियों के जॉब लगे तो टेंशन नहीं लेंं, अपनी तैयारी में जुट रहें: जादोन

किसी भी तरह की प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए एकाग्रता और बिना किसी दवाब के करनी चाहिए। कारण है कि दवाब...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 03:00 AM IST

सहपाठियों के जॉब लगे तो टेंशन नहीं लेंं, अपनी तैयारी में जुट रहें: जादोन
किसी भी तरह की प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए एकाग्रता और बिना किसी दवाब के करनी चाहिए। कारण है कि दवाब में की गई कोई भी तैयारी पूरी नहीं होती। यह कहना है जिला प्रमुख डॉ. धर्मपालसिंह जादौन का। भास्कर संवाद में कॅरिअर को लेकर युवाओं द्वारा पूछे जा रहे प्रश्नों का उत्तर देते हुए उन्होंने कहा कि कई बार युवा परिजनों के अथवा सहपाठियों के जॉब लग जाने से टेंशन में आ जाते हैं। धीरे-धीरे यह सोच उनके दिमाग पर इस कदर हावी हो जाती है कि वे चाहते हुए भी इससे अपने आपको मुक्त नहीं कर पाते। इसका नतीजा यह होता है कि उनके भविष्य का सपना चूर-चूर हो जाता है। जबकि कॅरिअर बनाने के लिए कड़ी और ईमानदारी से तैयारी करनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि प्रशासनिक सेवाओं में जाने के लिए अपने सामान्य ज्ञान को बढ़ाना चाहिए। इसके साथ-साथ परीक्षा के लिए चुने गए विषयों की तैयारी समझकर और लिखकर करें। उनका यह भी कहना था कि कई बार युवा किसी परीक्षा की तैयारी के लिए अपनी सुविधा के अनुसार घर के पास चलने वाली कोचिंग को ज्वाइन कर लेते हैं। जबकि उन्हें कोई भी कोचिंग क्लास ज्वाइन करने के पूर्व वहां का माहौल, पढ़ाए जाने वाले विषय, विषय विशेषज्ञों का स्तर को जान लेना चाहिए, ताकि तैयारी में कोई अड़चन नहीं आए। इसके साथ-साथ सबसे पहले अपना लक्ष्य भी स्पष्ट रूप से तय कर लेना चाहिए और फिर पूरे मनोयाेग से उस दिशा में मेहनत करें। यदि तय किया गया लक्ष्य एक बार में नहीं प्राप्त होता तो निराश नहीं होना चाहिए, बल्कि और ज्यादा मेहनत कर तैयारी करें।

प्रश्न: सेना में मेडिकल आॅफिसर बनने की तैयारी कैसे करें। अनिल शर्मा, बसेड़ी।

उत्तर: सेना में डॉक्टर बनने के लिए एएफएमसी (आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज) में प्रवेश लेना पड़ेगा। इसके लिए वहां होने वाली परीक्षा भी पास करनी होगी। परीक्षा पास करने के बाद सेना के कॉलेज से ही एमबीबीएस करना होगा। एमबीबीएस पूरा होने के बाद सेना में डॉक्टर के साथ-साथ रैंक भी दी जाएगी। वहीं कमीशंड ऑफिसर के रूप में सेवा देनी होगी। इसके लिए अन्य योग्यताएं जैसे अविवाहित होना चाहिए, कोर्स के दौरान विवाह नहीं हो सकता, रक्षा मंत्रालय के मापदंडों के अनुसार शारीरिक रूप से फिट होना चाहिए तथा उम्र 17 से 22 वर्ष होनी चाहिए। इसके अलावा आप नीट परीक्षा देकर डॉक्टर बन सकते हैं। यदि आप एक बार में परीक्षा पास नहीं कर सकें तो फिर दोगुने जोश और उत्साह के साथ दुबारा तैयारी करें।

प्रश्न: सामान्य ज्ञान को याद कैसे रखा जाए। भूपेंद्र सोनी।

उत्तर: सामान्य ज्ञान रटने वाला विषय नहीं है। इसे रटा जाए तो यह याद नहीं रहता। इस परेशानी को दूर करने के लिए नियमित रूप से राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर के अखबार को पढ़ना चाहिए। इसमें आने वाले लेखों को ध्यान से पढ़ें। इसके अलावा पुस्तकालय, छोटी कक्षाओं की किताबें, इंटरनेट, मोबाइल एप के माध्यम से से भी अपने सामान्य ज्ञान में वृद्धि कर सकते हैं। यदि आपका सामान्य ज्ञान अच्छा होगा तो कोई भी प्रतियोगी परीक्षा जैसे आईएएस, आरएएस आदि क्षेत्र में अपना बेहतर भविष्य बना सकते हैं।

प्रश्न: एमबीबीएस करूं या बीडीएस, तय नहीं कर पा रहा। निर्मल, धौलपुर

उत्तर: आपको सबसे पहले अपने लिए एक रास्ता तय करना होगा कि आपको जाना किस फील्ड में है। यदि आप यह तय नहीं करेंगे कि आप एमबीबीएस करें या बीडीएस, तो आपके सामने कई समस्याएं खड़ी हो जाएंगी और आपका भविष्य उसी में उलझकर रह जाएगा। चिकित्सा क्षेत्र में जाने के लिए नीट एग्जाम देना होता है। इसकी तैयारी आप घर पर करें। इसके लिए घर में माहौल भी सपोर्टिंग वाला होना चाहिए। इसके बाद जरूरत होने पर कोचिंग ज्वाइन करें। हालांकि देश में निजी क्षेत्र के मेडिकल कॉलेज में एडमिशन लेकर डॉक्टर बन सकते हैं, लेकिन इसके लिए काफी पैसा खर्च करना पड़ता है। बेहतर होगा कि आप मन में यह ठान लेें कि डॉक्टरी की पढ़ाई आप सरकारी मेडिकल कॉलेज से करें। इससे आप पर आर्थिक भार कम पड़ेगा। चिकित्सा क्षेत्र में जाने के लिए परीक्षा की तैयारी पूरी तरह से रिलेक्स होकर करेंगे तो अच्छी रैंक और अच्छा कॉलेज आपको मिल सकेगा।

प्रश्न: आईएएस बनने के लिए कॉलेज में कौन से विषय लूं। दिलीप कुमार बघेला गुर्जा।

उत्तर: आईएएस परीक्षा पास करने के लिए आप ग्रेजुएशन आर्ट्स विषय लेकर करें। क्योंकि प्रशासनिक सेवा परीक्षा में जो प्रश्न पूछे जाते हैं, उनमें अधिकांश आर्ट्स विषय के ही आते हैं साथ ही अपने सामान्य ज्ञान के स्तर को भी बढ़ाना चाहिए। इस परीक्षा में बैठने के लिए ग्रेजुएशन की पढ़ाई के साथ-साथ तैयारी शुरू कर दें। पिछले वर्षों में हुई परीक्षा के प्रश्नपत्रों को भी देखकर अभ्यास करते रहें। जब तक आपकी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी होगी तो इसके साथ की गई आईएएस की तैयारी भी लगभग 50 प्रतिशत पूरी हो जाएगी।

प्रश्न: सेकंड और फर्स्ट ग्रेड शिक्षक बनने के लिए तैयारी का तरीका बताएं। थानसिंह , बसेड़ी

उत्तर: किसी भी क्षेत्र में जाने के लिए एक लक्ष्य निर्धारित करें। इसके लिए मन में किसी भी तरह कन्फ्यूजन नहीं रखें। इसके लिए आप सबसे पहले अपनी आर्थिक स्थिति को देखें और फिर इसकी तैयारी करें। पहले आप सेकंड ग्रेड की तैयारी करें और अपने आपको आर्थिक रूप से सबल बनाएं। इसके बाद आप फर्स्ट ग्रेड या आरएएस की तैयारी बिना किसी दवाब के आराम से कर सकेंगे। शिक्षक बनने के लिए होने वाली परीक्षा में अपनी रुचि का विषय चुनेंगे तो निश्चित रूप से सफलता मिलेगी। कोचिंग ज्वाइन करने मात्र से सफल हो जाएंगे, यह गारंटी नहीं है। सेल्फ स्टडी से ही आप किसी भी क्षेत्र में सफल हो सकेंगे।

प्रश्न: एलडीसी बनने के लिए कौन सी कोचिंग ज्वाइन करूं। कृष्णा कुशवाह, नयाबासपुरा।

उत्तर: एलडीसी बनने के लिए किसी कोचिंग को ज्वाइन करना उपाय नहीं है। यदि आप घर पर इसकी तैयारी करें तो ज्यादा अच्छा है और यदि घर में तैयारी करने में असमर्थ हैं तो अलग-अलग कोचिंग में जाकर डेमो क्लास ज्वाइन करें। इसके बाद यह देखें कि आप किस कोचिंग की क्लास में पढ़ाए जाने वाले विषय को आसानी से समझ पा रहे हैं।

प्रश्न: आर्मी में डॉक्टर बनना चाहता हूं। निखिल अग्रवाल, मनियां, धौलपुर

उत्तर: आर्मी में डॉक्टर बनने लिए एएफएमसी की परीक्षा पास करनी होगी। यह परीक्षा 12वीं करने के बाद दी जा सकती है। इसकी तैयारी के लिए संबंधित विषयों के विशेषज्ञों की मदद लें। इसके अलावा जयपुर, दिल्ली में कई संस्थान हैं, जो इसकी तैयारी कराते हैं। आप वहां जाकर पूरी जानकारी लें और तैयारी करें।

प्रश्न: नेता बनकर समाजसेवा करनी है। विष्णु गोस्वामी, धौलपुर

उत्तर: राजनीति में आना अापका लक्ष्य है तो पहले अपनी पढ़ाई पूरी करें। इसके अलावा यदि आप समाज सेवा ही करना चाहते हैं तो इसके लिए और भी कई रास्ते हैं। जैसे किसी विभाग में अच्छे पद पर अधिकारी बनें। अधिकारी बनने के लिए आपको संबंधित परीक्षा पास करनी होगी।

प्रश्न: बीटेक कर चुका हूं, लेकिन जॉब नहीं मिल रहा। राजेश राजाखेड़ा।

उत्तर: बीटेक करने के बाद बेहतर जॉब के लिए आपको अपने शहर का मोह छोड़ना होगा। कारण है कि धौलपुर में अभी स्कोप ज्यादा नहीं है। आप जॉब के बजाय स्वयं का कारोबार भी शुरू कर सकते हैं। इसके लिए उद्योग केंद्र में जाकर विभिन्न स्कीमों के बारे में और उसके लिए सरकार द्वारा दी जाने वाली वित्तीय सहायता तथा अन्य जानकारी हासिल करें।

कॅरिअर मार्गदर्शन के लिए हमेशा तैयार हूं

जिला प्रमुख डॉ. धर्मपालसिंह जादौन जब फोन पर युवाओं की कॅरिअर संबंधी उत्सुकता का जवाब दे रहे थे तो उन्हें बहुत अच्छा महसूस हुआ। उन्होंने दैनिक भास्कर के इस अभिनव प्रयास से प्रभावित होकर कहा कि वे कॅरिअर संबंधी मार्गदर्शन चाहने वाले युवाओं के लिए हमेशा तत्पर रहेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि कोई भी युवा उनसे उनके मोबाइल नंबर 9001496666 पर संपर्क कर कॅरिअर गाइडेंस ले सकते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bharatpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×