उपभोक्ता मंच ने वैर इंडेन गैस सर्विस पर लगाया 25 हजार रुपए का जुर्माना

Bharatpur News - भरतपुर। गैस एजेंसी द्वारा उपभोक्ता को गैस सिलेंडर पर सब्सिडी नहीं देना मंहगा पड़ गया। अब उसे न केवल उपभोक्ता से...

Oct 13, 2019, 07:16 AM IST
भरतपुर। गैस एजेंसी द्वारा उपभोक्ता को गैस सिलेंडर पर सब्सिडी नहीं देना मंहगा पड़ गया। अब उसे न केवल उपभोक्ता से वसूली गई अधिक राशि व्याज सहित लौटानी पड़ेगी, बल्कि संताप की क्षतिपूर्ति व परिवाद व्यय के रूप में 10 हजार रुपए भी चुकाने पड़ेंगे। इतना ही नहीं उपभोक्ता मंच ने गैस एजेंसी की इस हरकत को गंभीर सेवादोष मानते हुए 25 हजार रुपए की शास्ती का जुर्माना भी लगाया है, इस राशि को राजस्थान उपभोक्ता कल्याण कोष में जमा कराया जाएगा।

हुआ यूं कि बयाना तहसील के खोहरा गांव निवासी रमेश चंद पुत्र रामकिशन ने वैर बस स्टैंड किला रोड स्थित वैर इंडेन गैस सर्विस से एक गैस कनेक्शन ले रखा है। रमेश चंद द्वारा 13 फरवरी 2013 को वैर इंडेन गैस सर्विस से एक डीवीसी रिफिल ली, जिसके एवज में उपभोक्ता से 924.50 रुपए वसूल किए गए। जबकि इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार एक उपभोक्ता को 31 मार्च तक 5 सब्सिडी सिलेंडर देने के निर्देश दिए हुए हैं। वहीं उपभोक्ता रमेश चंद को 13 सितंबर 2012 से 13 फरवरी 2013 तक इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन द्वारा जारी इंटरनेट सूचना के अनुसार सब्सिडी के मात्र 5 सिलेंडर ही वितरित किए गए थे। इसके बावजूद 13 फरवरी 2013 को वैर इंडेन गैस सर्विस द्वारा सब्सिडी नहीं दी गई और उपभोक्ता से 536 रुपए अधिक वसूल किए गए और उसके द्वारा अनुचित व्यापार व्यवहार की नीति अपनाई गई। जब इस बात की शिकायत रमेश चंद ने गैस एजेंसी संचालक से की तो उपभोक्ता के साथ अभद्र व्यवहार किया गया। उक्त परिवाद रमेश चंद द्वारा जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोष मंच भरतपुर में अधिवक्ता राजेश गोयल के जरिए प्रस्तुत किया गया। इस पर मंच के अध्यक्ष सत्यजीत राय एवं सदस्य दीपक कुमार मुदगल ने परिवाद को समझा और वैर इंडेन गैस सर्विस को दोषी माना। तथा वैर इंडेन गैस सर्विस को आदेश दिए कि वह परिवादी रमेश चंद को 536 रुपए एवं इस राशि पर परिवाद प्रस्तुत करने से ताअदायगी तक 9 प्रतिशत सालाना की दर से ब्याज तथा मानसिक संताप की क्षतिपूर्ति स्वरूप व परिवाद व्यय स्वरूप 10 हजार रुपए की राशि अदा करे। इसके अलावा यह भी आदेश दिए कि वह गंभीर सेवा दोष के एवज में शास्ती के रूप में 25 हजार रुपए मंच में जमा कराए, जो राशि राजस्थान उपभोक्ता कल्याण कोष में जमा होगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना