• Hindi News
  • Rajya
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • Bharatpur News rajasthan news crisis on marriages 94 marriages homes hospices may be closed in violation of rules pollution control board gives notice

शादियों पर संकट... नियमों का उल्लंघन कर रहे शहर के 94 मैरिज होम, धर्मशालाएं हो सकती हैं बंद, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने थमाए नोटिस

Bharatpur News - शहर में पिछले दिनों बंद हुए 3 मैरिज होम वालों की शिकायत के बाद अब 94 मैरिज होम, होटल, गार्डन एवं धर्मशालाओं को भी बंद...

Dec 04, 2019, 08:26 AM IST
Bharatpur News - rajasthan news crisis on marriages 94 marriages homes hospices may be closed in violation of rules pollution control board gives notice
शहर में पिछले दिनों बंद हुए 3 मैरिज होम वालों की शिकायत के बाद अब 94 मैरिज होम, होटल, गार्डन एवं धर्मशालाओं को भी बंद कराने की तैयारी है। क्योंकि ये भी नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं।

हाईकोर्ट की ओर से उपलब्ध कराई गई सूची के आधार पर राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इन सभी को कारण बताओ नोटिस जारी करके 15 दिन में जवाब मांगा है। अगर, इनका जवाब संतोषजनक नहीं रहा तो इन्हें भी बंद कराने की कार्रवाई की जा सकती है। इन नोटिसों के बाद मैरिज होम संचालकों के साथ-साथ सबसे ज्यादा वे लोग चिंतित हैं जिन्होंने इनमें शादी, सगाई, जन्मदिन आदि कार्यक्रमों की बुकिंग करवा रखी हैं। क्योंकि अब ऐनवक्त पर उन्हें दूसरा स्थान मिलना मुश्किल है। अगर, मिल भी गया तो उसके लिए शुल्क अत्यधिक देना पड़ेगा। ऐसे में सड़कों पर टैंट लगाकर कार्यक्रम करने पड़े तो यातायात में व्यवधान होगा और गंदगी भी फैलने की आशंका है। मैरिज होम संचालक एसोसिएशन के मुताबिक इस सीजन में जुलाई, 2020 तक भरतपुर के इन सभी मैरिज होम, गार्डन, होटल और धर्मशालाओं में करीब 300 कार्यक्रम होने हैं, जिनकी बुकिंग हो चुकी हैं। इधर, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों का कहना है कि ये सभी मैरिज होम प्रदूषण नियंत्रण मंडल की स्वीकृति के बिना चल रहे हैं और यहां पार्किंग, जनरेटर के धुआं, प्रदूषित पानी के निस्तारण आदि की पुख्ता व्यवस्थाएं नहीं हैं।

जुलाई 2020 तक शादी और अन्य कार्यक्रमों की हो चुकी हैं 300 बुकिंग, मैरिज होम संचालक बोले-जिला कलेक्टर को सौंप देंगे चाबियां

भरतपुर। हाईकोर्ट के आदेश के बाद शहर में बंद एक मैरिज होम।

खुद फंसे तो औरों को भी फंसाया... एक-दूसरे की शिकायत कर रहे मैरिज होम संचालक

दरअसल जनहित याचिका में हाइकोर्ट के आदेश के बाद नगर निगम और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बिना एनओसी के आवासीय क्षेत्र में चल रहे नमन, कृष्णा और उत्सव मैरिज होम को इसी साल सितंबर में बंद करवा दिया था। इससे व्यथित इन मैरिज होम संचालकों ने हाईकोर्ट को शहर में चल रहे 93 अन्य मैरिज होम, गार्डन, होटल, धर्मशालाओं की सूची सौंपी और कहा कि इनमें से किसी भी मैरिज होम के पास एनओसी नहीं है तो फिर हमारे ही खिलाफ ही कार्रवाई क्यों हो रही है? इसके बाद हाईकोर्ट ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को उन सभी की जांच करने के आदेश दे दिए। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने अब 94 मैरिज होम को नोटिस जारी कर दिए। इस सब के बावजूद सबसे ज्यादा संकट की स्थिति उन परिवारों के सामने हैं जिन्होंने आगामी सीजन के लिए इन मैरिज होमों को बुक करा रखा है।

नोटिस के तहत इन नियमों का नहीं हो रहा पालन






मैरिज होम संघ के अध्यक्ष बोले... शहर के सरकारी सामुदायिक भवनों में भी नहीं होता कई नियमों का पालन, फिर उन पर रोक क्यों नहीं

शहर में 50-55 मैरिज होम हैं। जबकि, सूची में होटल, धर्मशाला वगैरह सभी को शामिल कर लिया है। एसोसिएशन के पास उपलब्ध जानकारी के मुताबिक जुलाई, 2020 तक करीब शादी और अन्य कार्यक्रमों की करीब 300 बुकिंग हो चुकी हैं। ऐसे में यदि मैरिज होम को बंद किया गया तो हम सभी कलेक्टर को चाबियां सौंप आएंगे। फिर विवाह समारोह आदि के लिए स्थान की व्यवस्था करना उनकी जिम्मेदारी होगी। सरकारी सामुदायिक भवनों में तो कई नियम पूरे नहीं होते फिर भी उन पर कोई रोक नहीं है। सारे नियम-कायदे मैरिज होम संचालकों पर ही लागू किए जा रहे हैं जो कि सरासर गलत है। हम नगर निगम को हर साल डेढ़-दो लाख रुपए पंजीयन शुल्क, 10 रुपए प्रति वर्गगज जमीन के हिसाब लैंड यूज चार्ज देते हैं। सफाई के लिए 10 से 30 हजार रुपए, अग्निशमन शुल्क के लिए 3 से 10 हजार रुपए साल के जमा कराते हैं। पानी टैंकर से या बोतल का लेते हैं, क्योंकि बोर का पानी खारा है। प्रदूषित पानी नाले-नालियों में जाता है, जो कि इसी के लिए होते हैं कहीं बाहर फैलता ही नहीं है। - सतीश चंद गुप्ता, अध्यक्ष, भरतपुर मैरिज होम समिति (रजिस्टर्ड)

कट सकते हैं बिजली-पानी के कनेक्शन

नोटिस का जबाव संतुष्टिपूर्ण नहीं दिए जाने पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड नियमानुसार कार्रवाई करेगा। जिसमें मैरिज होम व धर्मशालाओं के बिजली-पानी के कनेक्शन काटे जा सकते हैं। मैरिज होम को बंद करने बावत संचालकों को पाबंद कर उनके बोर्ड, बैनर आदि को हटाया जा सकता है।

अभी किसी भी मैरिज होम संचालक ने नहीं दिया नोटिस का जवाब: कसाना

हाईकोर्ट ने 93 मैरिज होम व गार्डन की सूची हमें दी। जांच के बाद 93 और एक अन्य मैरिज होम को नोटिस दिए। उन्हें 15 दिन का समय दिया गया है, अभी तक किसी ने जवाब नहीं दिया है। एचआर कसाना, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भरतपुर

X
Bharatpur News - rajasthan news crisis on marriages 94 marriages homes hospices may be closed in violation of rules pollution control board gives notice
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना