डीजीपी का निर्देश: 4 फरवरी तक सलाखों के पीछे हों 8 हजार वांटेड

Bharatpur News - पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग ने अपराधियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है। इसके लिए डीजीपी ने सभी थानों, सर्किल, जिला...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 05:36 AM IST
Nagar News - rajasthan news dgp directive behind bars by 4th february 8 thousand wanted
पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग ने अपराधियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है। इसके लिए डीजीपी ने सभी थानों, सर्किल, जिला एसपी, रेंज आईजी, डीसीपी और कमिश्नर को वांछित बदमाशों को पकड़ने का टारगेट दिया है। थाने से लेकर जिला स्तर तक के पुलिस अधिकारियों को 17 जनवरी तक अपने क्षेत्र के फरार वांछित 10-10 अपराधियों का चयन करना पड़ेगा। चयन प्रक्रिया के बाद में उन बदमाशों को 4 फरवरी तक पकड़ना पड़ेगा। डीजीपी के आदेशों के अनुसार प्रत्येक थाने को 17 जनवरी तक टॉप वांछित अपराधियों का चयन करना पड़ेगा। प्रदेश में 865 पुलिस थाने हैं। ऐसे में करीब 8 हजार वांछित अपराधियों का थाना स्तर पर चयन किया जाएगा। इसके बाद में प्रत्येक सर्किल को 22 जनवरी, जिला पुलिस को 28 जनवरी और प्रत्येक रेंज व कमिश्नरेट पुलिस को 4 फरवरी तक चयनित अपराधियों की सूची की मास्टर माइंड सोफ्टवेयर में अपलोड करके कार्रवाई करेंगे। वांछित अपराधियों की गिरफ्तार के बाद उनके विरुद्ध दर्ज प्रकरणों को केस ऑॅफिसर स्कीम में लिया जाएगा। ऐसे बदमाशों के खिलाफ सीआरपीसी की धारा 107, 108,110, गुण्डा एक्ट, राजपासा और रासुका के तहत नियमानुसार निरोधात्मक कार्रवाई की जाएगी। रेंज स्तरीय अपराधियों में से 10 सक्रिय वांछित अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए जिला पुलिस के साथ एसओजी का सहयोग लिया जाएगा। जिला स्तरीय, रेंज स्तरीय एवं पुलिस मुख्यालय स्तर पर चयनित वांछित अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए इनाम की घोषणा की जाएगी। वांछित अपराधियों की सूची थानों, कार्यालयों और राजस्थान पुलिस की वेबसाइट पर भी अपलोड की जाएगा। इनके गिरफ्तार होने पर उनके स्थान पर दूसरे वांछितों के नये नाम जोड़े जाएंगे।

1 फरवरी से बदलेगी गश्त की व्यवस्था

डीजीपी के पद पर ज्वॉइन करने के बाद कपिल गर्ग ने रात्रि गश्त की पूरी व्यवस्था बदलने की तैयारी कर ली है। इसके लिए उन्होंने सभी पुलिस अधिकारियों को निर्देशित करके पुलिस गश्त को प्रभावी बनाने के लिए 25 जनवरी तक बीट के आधार पर तैयारियां करके 1 फरवरी से लागू करने के निर्देश दिए है। निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार प्रत्येक थाने के क्षेत्र को विभिन्न रात्रि गश्त बीट में बांटा जाएगा। प्रत्येक रात्रि गश्त बीट के लिए एक रात्रि गश्त बीट पुस्तिका संधारित कर क्षेत्र के हिस्ट्रीशीटर, असामाजिक तत्व, सक्रिय वांछित अपराधियों, धार्मिक स्थलों की जानकारी उल्लेख होगा। रात्रि गश्त व्यवस्था में स्थानीय नागरिकों, चौकीदारों व सिक्यूरिटी गार्डस का सहयोग लिया जाएगा। रात्रि गश्त बीट में 4 या अधिक चिन्हित स्थानों पर चैकिंग पुस्तिका रखी जाएगी। गश्ती दल इस पुस्तिका में सूचनाओं का उल्लेख करेगा और गश्ती दल को चैक करने वाले अधिकारी भी इस पुस्तिका में अपने हस्ताक्षर करेंगे और रोजाना एसपी के सामने पेश करनी पड़ेगी।

पुलिसकर्मियों को बीट के आधार पर करनी पड़ेगी रात्रि गश्त

X
Nagar News - rajasthan news dgp directive behind bars by 4th february 8 thousand wanted
COMMENT